फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन के गठन से सम्बन्धित आवश्यक कागजी कार्यवाही एक दिन में पूरी की जाये | Former producer organisation ke gathan se sambandhit avashyak kagji karywahi

फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन के गठन से सम्बन्धित आवश्यक कागजी कार्यवाही एक दिन में पूरी की जाये

कलेक्टर ने खाचरौद में एफपीओ के सदस्य किसानों से चर्चा की

फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन के गठन से सम्बन्धित आवश्यक कागजी कार्यवाही एक दिन में पूरी की जाये

उज्जैन (रोशन पंकज) - कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने आज खाचरौद पहुंचकर फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन के गठन के लिये एकत्रित हुए विभिन्न ग्रामों के किसानों से रूबरू चर्चा की। ऑर्गेनाइजेशन के गठन के सम्बन्ध में विभिन्न औपचारिकताओं को पूरी करने में होने वाले विलम्ब को रोकने के लिये कलेक्टर ने एसडीएम श्री कुमार पुरूषोत्तम को इसका नोडल अधिकारी बनाया है। साथ ही निर्देश दिये हैं कि सभी प्रकार की औपचारिकताएं एक दिन में पूरी की जाना चाहिये। कलेक्टर ने खाचरौद के सांवरिया एग्रोटेक परिसर में किसानों से चर्चा की एवं उनका उत्साहवर्द्धन किया। कलेक्टर ने किसानों से कहा कि :-

फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन के गठन से सम्बन्धित आवश्यक कागजी कार्यवाही एक दिन में पूरी की जाये

आपको हमारे पास आने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। अब प्रशासन आपके पास चलकर आयेगा।


किसानों की आय दोगुनी करना है तो केवल फसल के दोगुने उत्पादन से ही आय दोगुनी नहीं होगी, भण्डारण क्षमता में वृद्धि करना, एक तरह की फसल बड़े पैमाने पर लेना जिससे बड़ी कंपनियों से सम्पर्क कर बड़ी मात्रा में अपने उत्पाद को बेचा जा सके।


कलेक्टर ने किसानों से कहा कि प्रोड्यूसर कंपनी या ऑर्गेनाइजेशन एक दिन में खड़ी नहीं होती है, इसमें समय लगता है। एक जैसी विचारधारा के किसान यदि भरोसे के साथ आगे बढ़ेंगे तो बड़ा संगठन खड़ा हो सकता है। उन्होंने कहा कि संगठन में शक्ति है। किसान उत्पादक संगठन निश्चित रूप से पहले की तुलना में अधिक लाभ कमा सकते हैं। कंपनी से फायदा होना तय है, किन्तु कितना लाभ होगा यह कंपनी की कार्य प्रणाली तय करेगी।


कलेक्टर ने प्रगतिशील किसानों से आव्हान किया कि वे आगे बढ़कर किसान उत्पादक संगठन बनायें। चर्चा के दौरान किसानों द्वारा बताया गया कि वे हलधर किसान उत्पादक संगठन, एग्रीटेक किसान उत्पादक संगठन तथा प्याज भण्डारण के लिये एफपीओ बनाने जा रहे हैं। इसकी सभी औपचारिकताएं लगभग पूर्ण कर ली गई हैं।


कलेक्टर ने किसानों से जब पूछा कि एफपीओ का लाभ क्या है तो उन्होंने बताया कि कंपनी बनने से वे अपने उत्पाद को महानगर में बेच सकेंगे और अधिक मुनाफा कमा सकेंगे। किसानों ने शरबती गेहूं, प्याज, लहसुन एवं अमरूद आदि के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि इस क्षेत्र के उत्पाद विभिन्न महानगरों में प्रसिद्ध हैं। एक ब्राण्डनेम के साथ यदि इनको बाजार में उतारा जायेगा तो निश्चित रूप से किसानों की आय में वृद्धि होगी।


कलेक्टर को मौजूद किसानों ने दिन में बिजली प्रदाय करने की मांग की। साथ ही यूरिया आदि की समस्या का निराकरण करने के लिये कहा। कलेक्टर ने कहा कि यूरिया की समस्या आगामी तीन-चार दिनों में समाप्त हो जायेगी।


कार्यक्रम में कलेक्टर ने किसानों को बीज के मिनीकिट प्रदान किये।


         कार्यक्रम में उप संचालक कृषि श्री सीएल केवड़ा, सांवरिया एग्रोटेक के श्री ओमप्रकाश सेकवाड़िया सहित विभिन्न जिला अधिकारी मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments