घरो मे समा रहा रोड का पानी, नही हुआ नाली का निर्माण | Gharo main sama rha road ka pani

घरो मे समा रहा रोड का पानी, नही हुआ नाली का निर्माण


खमारपानी/छिन्दवाडा (राजेन्द्र जाम्बोलकर) - खमारपानी के ग्रामीण हो रहे परेशान पूरी बरसात मे और बारिश अधिक होने के कारण  सड़क किनारे रहने वाले लोगों के घरों में पानी भर गया। इससे रहवासी रातभर बारिश के पानी को घरों से बाहर निकालने के लिए जुगाड़ करते रहे। कई लोगों ने घरों में पानी निकासी के लिए नाली खोद ली ताकि अब यह परेशानी न हो। वही रोड समतल न होने के कारण माठु साहू,शाहिद खान और कंचन आटो आर्ट्स के सामने रोड पे पानी जमा रहता है। ग्रामीणों ने घरों में पानी घुसने पर रोड बनाने वाले ठेकेदार पर लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने बताया पिछले कुछ दिनो पहले ही चौरई से खमारपानी होते हुये लोधिखेडा स्टेट हायवे रोड बनाई गई है। इसमें ठेकेदार को नाली का निर्माण करना था।लेकिन लापरवाही के चलते  ठेकेदार द्रारा अपनी मन मर्जी से कही कहा बनाके छोड दी गई। जबकी पूरे गाव मे नाली बनाने का प्रावधान था। इसका खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। 


ग्रामीणों ने प्रशासन से सड़क किनारे नाली निर्माण कर सुविधा देने की मांग की है।घरों से सड़क ऊंची होने व नाली नहीं होने से बारिश का पानी लोगों के घरों के अंदर घुस गया। रहवासियों ने बताया सड़क निर्माण के पहले गांव में सड़क निरीक्षण करने आये  अधिकारियों ने सड़क के दोनों ओर  नाली बनाने की बात की थी लेकिन सड़क का काम पूरा होने के बाद ठेकेदार द्रारा नाली नही बनाया गया। अब ग्रामीण बारिश में समस्या से जूझ रहे हैं।अब ग्रामीणो मे आक्रोश दिखाई दे रहा है। अधिकारी व ठेकेदार की सिकायत सीएम हेल्पलाइन पे भी की गई है,लेकिन इससे संबंधीत विभागीय अधिकारी  भी ध्यान नही दे रहे है।जिसके कारण  इसका कोई निराकरण नही हुआ जिसके कारण  ग्रामीणों में आक्रोश है। ग्रामीण माठु साह,राजाराम चौरिया,जगन साहू,गणेश बिसने,नारायण पहाडे।
------------------------

इनका कहना है।

गाव मे रोड के दोनो साईट नाली की सख्त आवस्यकता है, रोड के सामने हमेसा पानी जमा रहता है जिससे दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है।

 *माठु साहू-ग्रामीण* 

------------------------


सर्वे मे अल्टीमेटम दिया गया था, जिसमे देड़  किलोमीटर नाली बनाने का प्रावधान था,अब ठेकेदार द्रारा आनाकानी कर रहा है।

 *सुखदयाल धुर्वे- सरपंच ग्राम पंचायत*

Post a Comment

0 Comments