शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के जर्जर भवन के एक कक्ष कि छत गिरी | Shaskiya kanya uchchtar madhyamik vidhyalay ke jarjar bhavan ke ek kaksh

शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के जर्जर भवन के एक कक्ष कि छत गिरी

स्कुल खुलने पर 700 से अधिक छात्राओं को बैठाने की समस्या

पहले ही कक्ष कम - छात्राओं की संख्या अधिक :अब पुरा भवन खतरनाक घोषित

तीन मंजिला नया भवन बनाने की मांग

शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के जर्जर भवन के एक कक्ष कि छत गिरी

निवाली/बड़वानी (सुनील सोनी) - दो दिन पहले सोमवार को शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय निवाली के प्राचार्य कक्ष के पास का एक कमरा गिरने (कोई जनहानि नहीं)के बाद दूसरे दिन मंगलवार को बड़वानी से पीडब्ल्यूडी विभाग के सब इंजीनियर अश्वीन सोनरीश ने आकर शासकीय कन्या हायर सेकेंडरी भवन का निरीक्षण किया और सुत्रो के अनुसार शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय निवाली के पूरे भवन को (अयोग्य )खतरनाक घोषित कर दिया गया गौरतलब है कि यह भवन सन्1964 में बनाया गया था इस 55 वर्षीय भवन को खतरनाक घोषित कर गिराने का सुझाव दिया है वैसे यह भवन पिछले 15सालो से जर्जर हो चुका है बरसात में महीला सरकार रुम में छतों पर प्लास्टीक बांध काम चला रहे हैं प्राचार्य बरामदे में बैठकर काम करते हैं

शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के जर्जर भवन के एक कक्ष कि छत गिरी

प्राचार्य पीसी शर्मा के अनुसार यह बिल्डिंग पीडब्ल्यूडी द्वारा बनाई गई थी बिल्डिंग की खस्ता हालत के संबंध में पिछले वर्ष विभाग को पत्र लिखा गया था विभाग द्वारा इंजीनियर भेजा गया था लेकिन कोई भी रिपेयरिंग कार्य पी डब्लू डी के द्वारा नहीं किया गया।

माध्यमिक एवं हायर सेकेंडरी विभाग की संख्या मिलाकर लगभग 11 सौ छात्रायें दर्ज हैं


कुल संख्या कक्षा 9 से 12 की लगभग 700 तथा माध्यमिक विद्यालय का संचालन भी इसी भवन में किया जाता है। जिसकी दर्ज संख्या लगभग 400 है

अब समस्या यह हो गई है कि यहां पर वर्तमान में सुबह के समय कन्या मावि कि4 सौ छात्राऐ वही दोपहर में  कक्षा 9से 12 तक सात आठ सौ छात्राऐ अध्ययन करती है और स्थिति यह रहती है कि कक्ष कम है और छात्राओं की संख्या अधिक है बेंचो पर पांच पांच छात्राओं को बैठाया जाता है आसपास के सभी गांवों के लोगों की इच्छा रहती है कि निवाली के स्कूल में ही बच्चों को पढ़ाया जाए यहां पर सुरक्षित भी रहती है पढ़ाई भी अच्छी होती है इस विचार से सभी लोग यहां पर बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं यहां पर कक्ष कम होने से बच्चों की पूरी संख्या में भर्ती नहीं कर पाती जिसमें अब एक कक्ष गिर भी गया है तथा पूरे भवन को भी खतरनाक घोषित कर दिया है बच्चों को पढ़ाने कहां बैठाया जाए कहां पढ़ाया जाए कि समस्या आ गई है अब बच्चों को कहां पढ़ाया जाए यह समस्या है कोई भी रिस्क लेने को तैयार नहीं

पानसेमल क्षेत्र कि कांग्रेस विधायक चंद्र भागा किराड़े ,तहसीलदार जेपी सौर व अन्य अधिकारी भी निरीक्षण कर चुके हैं

दरअसल यह भवन पचास साल पुराना है साथ ही चुने व गर्डर फर्शी से छत बनीं है तथा दिवारो कि जुड़ाई भी चुने से ही है कमरों कि स्थिती यह है कमरों में छत से प्लास्टर छात्राओं व स्टाफ पर गिर चुका है चित्रों में भवन खुद अपनी कहानी कह रहा है नगर के सामाजिक कार्यकर्ता सुनील सोनी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मांग की है कि निवाली में शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय का जर्जर खतरनाक भवन का उपयोग बंद कर दिया जायेगा व तीन मंजिला नया भवन बनाने की शीघ्र ही स्वीकृति दी जाये

Post a Comment

0 Comments