अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं उनके पुत्र की फूड प्वाइजनिंग के चलते मृत्यु | Upper jila evam satr nyayadhish evam unke putr ki food positioning ke chalte mrityu

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं उनके पुत्र की फूड प्वाइजनिंग के चलते मृत्यु

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं उनके पुत्र की फूड प्वाइजनिंग के चलते मृत्यु

बैतूल (यशवंत यादव) - बैतूल मे पदस्थ अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री महेंद्र कुमार त्रिपाठी एवं उनके युवा पुत्र मोनू त्रिपाठी का  नागपुर के एलेक्सिस अस्पताल में इलाज के दौरान शनिवार देर रात निधन हो गया।वे बैतूल न्यायालय में बीते दो वर्ष से पदस्थ थे । फूड प्वाइजनिंग  के चलते पिता पुत्र  को  मिशनरी के  पाढ़र अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। जहा हालत में सुधार नही होने से उन्हें शनिवार रात नागपुर रेफर किया गया था नागपुर के  अस्पताल पहुंचते ही बड़े पुत्र की मृत्यु देर रात हो गई वही न्यायाधीश का भी इलाज के दौरान निधन हो गया । पिता पुत्र के फूड प्वाइजनिंग होने से उनकी हालत धीरे-धीरे बिगड़ते चली जा रही थी।और फिर नागपुर के अस्पताल में पिता पुत्र का असमय निधन हो गया।

आज तड़के हुई उनकी मौत के बाद उनके शव को कटनी जिले अंतर्गत स्थित उनके गृह ग्राम में ले जाने की खबरे  मिल रही है जहां आगे के कार्यक्रम किए जाएंगे,एडीजे त्रिपाठी मूलत शहडोल जिले के धनपुरी क्षेत्र के निवासी थे, इससे पहले वह अनूपपुर जिले के विवेक नगर क्षेत्र में भी रह चुके हैं,उन्होंने अपनी पढ़ाई यही की थी और यहीं से उन्होंने सिविल जज की परीक्षा उत्तीर्ण कर न्यायिक सेवा क्षेत्र में प्रवेश किया था। उनकी पत्नी धनपुरी स्थित एसईसीएल के केंद्रीय चिकित्सालय में पदस्थ थी बीते 6 से 8 माह पहले ही उन्होंने बुढ़ार स्थित अपने आवास को बेचकर पूरे परिवार को बैतूल में साथ में रखा था, श्री त्रिपाठी की असमय मौत की खबर से शहडोल जिले खासकर धनपुरी,अमलाई,चचाई क्षेत्र में उनके पुराने मित्रों और परिचितों में गहरा दुख व्याप्त है।

Post a Comment

0 Comments