नगर परिषद के सफाई विभाग एवं अन्य कर्मियो ने ठेका पद्धति (आउटसोर्सिंग) के विरोध मे एसडीएम को दिया ज्ञापन | Nagar parishad ke safai vibhag evam anya karmiyo ne theka paddhati

नगर परिषद के सफाई विभाग एवं अन्य कर्मियो ने ठेका पद्धति (आउटसोर्सिंग) के विरोध मे एसडीएम को दिया ज्ञापन

चार दिवस का अल्टीमेटम देकर कहा, मांग नही मानी तो करेंगे अनिश्चितकालीन हड़ताल

नगर परिषद के सफाई विभाग एवं अन्य कर्मियो ने ठेका पद्धति (आउटसोर्सिंग) के विरोध मे एसडीएम को दिया ज्ञापन

बुरहानपुर। (अमर दिवाने) - शाहपुर नगर परिषद के सफाई विभाग सहित जल प्रदाय, राजस्व, विधुत विभागो और कंप्यूटर ऑपरेटर समेत लगभग 50 कर्मियो ने ठेका पद्धति (आउटसोर्सिंग) के विरोध मे आज वाल्मिकी संगठन के बेनर तले संयुक्त रूप से जिला कलेक्टर कार्यालय पहुच कर एसडीएम काशिराम बडोले को आयुक्त संचालनालय नगरीय प्रशासन एवं विभाग भोपाल के नाम ज्ञापन सौंप कर सफाई कर्मचारीयो सहित अन्य कर्मियो से दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी के रूप मे कार्य लेने एवं कलेक्टर रेट अनुसार वेतन दिये जाने की मांग की है। उमेश जंगाले ने बताया की कुछ दिन पुर्व शाहपुर नगर परिषद सीएमओ धीरेन्द्र सिकरवार को ज्ञापन देकर ठेका पद्धति (आउटसोर्सिंग) से सफाई कर्मियो को बाहर रखने एवं उन्हे मस्टर मे यथावत रखने हेतु मांग की थी। साथ ही कर्मचारियो को प्रतिमाह जो पुर्व मे वेतन दिया जाता था वह नही देते हुए आउटसोर्सिंग का हवाला देकर श्री श्री सांई इंटरप्राईसेस कंपनी द्वारा 5000 का कम वेतन प्रदान करने का विरोध भी किया था। इसी बिच हमे पता चला की शाहपुर नगर परिषद ने 10 वर्ष से कार्य कर रहे मस्टर कर्मियो को भी बिना सुचना दिये ही ठेके पर रख लिया है। जबकी कर्मचारी ठेके का हम शुरू से ही विरोध कर रहे है। ठेके मे कर्मियो का खुलेआम शोषण किया जा रहा है। ठेके मे कार्य करना मतलब गुलामी करने जैसा है। इसमे ईपीएफ का पैसा कटता है, लेकिन वह किस खाते में जाता यह पता नही। ठेके के वेतन में एकरूपता नहीं है। किसी को पांच, चार या फिर किसी को तीन हजार रुपयेे तक दिया जा रहा है, जोकि पुर्ण रूप से गलत है। 


जबकी कलेक्टर द्वारा निर्धारित दरों कुशल, अर्द्धकुशल, अकुशल से निकाय के खाते से ही वेतन का भुगतान करना चाहिए। कोरोना काल मे भी सफाई कर्मीयो ने योद्धा समान अपने कर्तव्यों का निर्वहन निस्वार्थ भाव से किया। लेकिन सरकार इन्हें नजरअंदाज कर रही है। जंगाले ने कहा की जिला प्रशासन को 4 दिवस का अल्टीमेटम दिया है यदि इस अवधि मे ठेका पद्धति बंद नही की जाती है, और कर्मियो को यथावत मस्टर मे नही रखा जाता है, तो वाल्मिकी संगठन के बेनर तले अनिश्चितकालीन हड़ताल कर अलग-अलग तरीको से विरोध प्रदर्शन कर सफाई विभाग सहित जल प्रदाय, राजस्व, विधुत, विभागो एवं कंप्यूटर ऑपरेटर समेत लगभग 50 कर्मचारीयो द्वारा शाहपुर नगर मे दी जा रही सभी सुविधाओ और कार्यो को ठप करेंगे। जिस कारण नगर वासियो को होने वाली परेशानी की जिम्मेदारी व जवाबदारी मुख्य नगर पालिका अधिकारी शाहपुर सहित जिला मुख्य अधिकारियो की रहेंगी। इस दौरान सहदेव बोयत, गोविंद चावरे रुपेश खरे, हेमंत पवार, सुमित जैन जितेंद्र चांगरे, गजानन, लखन, किसना सारवान, विनोद चौहान, चेतन कंडारे, पंकज महाजन, संजय महाजन, पंकज अहीर जितेंद्र महाजन, जुबेर, भारतीय महाजन चंद्रकला मेढ़े, मयूर राहुल लाडे, राकेश चौहान, कपिल शोथाने संजय केवल, लखन जावरे अंकित, प्रभाकर सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।


Post a Comment

0 Comments