अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान विजेता, जिले के नेपानगर क्षेत्र में समाज सेवा करेंगे | Antarrashtriy patrakarita samman vijeta jile ke nepanagar shetr main samaj seva karenge

अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान विजेता, जिले के नेपानगर क्षेत्र में समाज सेवा करेंगे

अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान विजेता, जिले के नेपानगर क्षेत्र में समाज सेवा करेंगे

बुरहानपुर। (अमर दिवाने) - जिले के नेपाागर क्षेत्र में समाज सेवा का बीड़ा उठाया। अमेरिका की बेहद प्रतिष्ठित बड़ी कम्पनी "आरजू वर्ड एफेयर्स" ने उन्हें  पत्रकारिता जगत में उत्कृष्टता के लिए सर्वोच्च सम्मान हेतु चुना है। दिसंबर माह की 8 तारीख दिन मंगलवार को उन्हें अमेरिका के सैनफ्रैंसिस्को नगर में सम्मानित किया जायेगा। रिलायंस जिओ मार्ट, आई.टी.सी, टी.सी.एल आदि कम्पनियों के माध्यम से श्री सिद्दीकी वंचित समाज के युवक, युवतिओं को अल्पकालिक प्रशिक्षण देकर उसी शहर में रोजगार मिले, किसान उत्पादकता संघों का गठन करके नाबार्ड द्वारा किसानों की आय को दोगुनी करने की दिशा में भी कार्य, सूक्ष्म, लघु उद्योग मंत्रालय के स्फूर्ति कार्यक्रम द्वारा फूड प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना साथ ही गौसंवर्धन व गौपालन में सहयोग करेंगे। उन्होने क्षेत्र के विकास के लिए स्थानीय नव युवकों की टोली बनाई है, ज़िसका प्रतिनिधित्व जैनाबाद निवासी समाजसेवी धोण्डु प्रजापति करेंगे।


प्रसिद्ध पत्रकार नसीर अहमद सिद्दीकी जो कि बुन्देलखंड क्षेत्र में सागर व ग्वालियर संभाग में दशकों से समाज सेवा कर रहे हैं।वे वंचित समाज के क्षेत्रीय युवाओं को रिटेल व सेल्स विषयक विभिन्न कौशल विकास प्रशिक्षण देकर रिलायंस, बिग बाजार, फ्यूचर ग्रुप, नीम  योजना, टाटा स्काई आदि कम्पनियों के माध्यम से स्थानीय स्तर पर रोजगार दिलाने की दिशा में एक बेहतरीन कार्य कर रहे हैं। नसीर अहमद सिद्दीकी का मानना है कि मेहनत इतनी खमोशी से करो कि कामयाबी उसका शोर मचा दे। उत्तरी अमेरिका, दक्षिणी अमेरिका,अफ्रीका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया व् यूरोप महाद्वीपों के प्रायः सभी प्रमुख देशों से 990 लोगों के 28 फरवरी तक आवेदन प्राप्त हुवे थे। 20 मार्च, 20 अप्रैल, 20 मई व 20 जून को चार राउण्ड में आयोजित वीडिओ कॉलिंग व वेबिनार इंटरव्यू में प्रतिभागियों ने भाग लिया। फाइनल राउण्ड में नसीर ने अमेरिका, जापान, रूस, तुर्की, ब्राजील, मिस्र के प्रतिद्वंदियों को पछाड़कर खिताब अपने नाम किया। इस अवसर पर श्री नसीर को दो लाख रुपये की नकद राशि, प्लेटिनम शील्ड, मेडल, शॉल, प्रशस्ति पत्र, आने जाने का किराया दिया जायेगा। आतिथ्य सत्कार के साथ दो सप्ताह का अमेरिकी टूर का वीज़ा भी उपलब्ध होगा।

आरज़ू  वर्ड अफेयर के सी.ई.ओ विनोद सुजान जो कि ब्लॉकचेन पर आधारित सर्च इंजन आरजू के अध्यक्ष हैं, आरज़ू  वर्ड अफेयर 2000 करोड़ की कम्पनी है।जिनका कार्यालय कैलिफोर्निया के सिलिकॉन वैली में स्थित है,  उनके अनुसार हमें यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि व्यापक समीक्षा के बाद, हमारी कार्यकारी समिति ने श्री नसीर अहमद सिद्दीकी को साल 2020 का अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान हेतु चयनित किया। पुरूस्कार में दी जाने वाली धनराशि को नसीर पूर्व की भाँति सामाजिक कार्यों में खर्च करेंगे। उन्होंने सफलता का श्रेय अपनी माता व पिता को दिया। आरजू द्वारा आयोजित इस प्रकार का यह पहला आयोजन है। जिसमें ग्रामीण परिवेश से जुड़े किसी भारतीय को चुना जाना बेहद गौरव की बात है। कोविड-19 के चलते सम्मान समारोह को दिसंबर में रखा गया है। अध्ययन और शोध में रूचि रखने वाले शालीन स्वभाव के नसीर अहमद ने पत्रकारिता के साथ ही दर्शन शास्त्र, शिक्षा शास्त्र, अंग्रेजी , कृषि विज्ञान में मास्टर डिग्रियां अर्जित कीं, उन्होंने बुन्देलखण्ड, गोरखपुर, इग्नू , सागर, कुरुक्षेत्र वि.वि. से अध्ययन किया। उन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत अखण्ड आदर्श विद्यालय जू.हा.पवई, हमीरपुर से की बाद में दिल्ली नगर निगम में प्राथमिक अध्यापन से जुड़े। राष्ट्रीय राजधानी में वे गत 25 वर्षों से लगातार नवसाक्षरों, अविभावकों, बच्चों और जनस्वास्थ से जुड़े न्यूज़ लेटर 'अनुभव', 'हम', 'विकास', संदेश का अवैतनिक सम्पादन कर रहे हैं। अमेरिका, न्यूज़ीलैंड और भारत से एक साथ प्रकाशित व 27 देशों में वितरित होने वाली इंग्लिश-हिन्दी में छपने वाली अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका 'बाल चौपाल' द ग्लोबल वाइस ऑफ़ चिल्ड्रन का बखूबी सम्पादन कर रहे हैं।

बुन्देलखण्ड की समस्याओं को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उठाने और उस पर सकारात्मक दिशा में कार्य कराने हेतु हमेशा अग्रिणी रहे। बुन्देलखण्ड विषय पर नसीर 1100 आर.टी.आई लिख चुके हैं, उन्होंने मनरेगा, कृषि, खनन, वानिकी, पशु पालन, शिक्षा, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण में व्याप्त भ्र्ष्टाचार को उजागर किया। कालिंजर दुर्ग को अंतर्राष्ट्रीय धरोहर में शामिल करने के लिए 'यूनेस्को' स्तर की फाईल बनाकर तत्कालीन केंद्रीय पर्यटन मंत्री तक पहुँचाई। लोखरी गाँव से चोरी हुई मूर्ति जो अंतर्राष्ट्रीय तस्करों के जरिये फ्रांस देश पहुँच गई थी उसकी वापसी की कवायद से लेकर दिल्ली स्थित नेशनल म्यूज़ियम में स्थापना में भूमिका निभाई। सोशल ऑर्गैनाइज़ेशन फॉर कम्युनिटी हेल्प (सोच) के माध्यम से देश के विभिन्न भागों में लोगों की खिदमत कर रहे हैं। उनके द्वारा समाज सेवा क्षेत्र में किये गए उत्कृष्ठ कार्यों में गांवों की घरेलू महिलाओं को खाद्य प्रसंस्करण (अचार-मुरब्बा) की ट्रेनिंग दिलाकर स्वरोज़गार दिलाना, दिल्ली में प्रत्येक अक्षय तृतीया व वसंत पंचमी को अनाथ कन्याओं का विवाह आयोजन, किशोर किशोरियों को स्किल काउंसलिंग के जरिये उचित कौशल प्रशिक्षण दिलाना, डिजितल लिटरेसी/ कम्पयूटर साक्षरता कार्यक्रम, किसान उत्पादकता संघ गठित कर हर्बल फार्मिंग, ड़ेयरी और फूड प्रोड़क्ट्स उत्पादन कर किसान की आय में वृद्धि, विधवाओं- परित्यज्जिता हेतु  ओमनिया कम्पनी का गठन करके सिलाई कौशल से महिला सशक्तिकरण करना जैसे अनेकानेक कार्यक्रम संचालित कर रहे हैं। नसीर को दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने साल 2019 का राज्य शिक्षक सम्मान दिया जबकि तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष लोकसभा लाल कृष्ण आडवाणी राष्ट्र मण्डल खेलों के दौरान पत्रकारिता हेतु एक्सीलैंस एवार्ड-2010 से सम्मानित कर चुके हैं।

आरज़ू के संस्थापक विनोद सूजन जो की भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक हैं बिट्ज़ पिलानी से इंजीनियरिंग की पढाई के बाद 1987 में अमेरिका जाकर एटी एंड टी व ऑरेकल कम्पनी में काम किया। उन्होंने जल्द ही आरज़ू नामक कम्पनी की स्थापना की आरज़ू एक नए तरह के सर्च इंजन पर काम कर रहा है, जो कंपनियों के विज्ञापनों, सर्च रिज़ल्ट को फिल्टर या मैनुपुलेट करने के बजाय सभी रिजल्ट उपलब्ध कराएगा। इसमें एक डैश बोर्ड होगा जिसके द्वारा लोग अपनी ज़रूरत के अनुसार अपने काम की जानकारी आसानी से पा सकें। हर वर्ष 15 जुलाई को नसीर अहमद सिद्दीकी का जन्मदिन आता है, कोविड-19 के दौर में इस बार कुछ खास है।पत्रकारिता जगत का अंतर्राष्ट्रीय सम्मान के प्रमाण-पत्र के साथ।

Post a Comment

0 Comments