अभिभावको की मांग पर अब तक नही हुआ अमल | Abhibhavako ki mang pr ab tak nhi hua amal

अभिभावको की मांग पर अब तक नही हुआ अमल

निजी स्कूल बच्चों को ऑन लाईन शिक्षा से वंचित कर फ़ीस के लिए बना रहे दबाव

अभिभावको की मांग पर अब तक नही हुआ अमल

छिंदवाड़ा (शुभम सहारे) - मध्यप्रदेश अभिभावक संघ और प्राइवेट स्कूल संचालकों के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है जिसमें अभिभावक संघ फीस माफी को लेकर और ऑनलाइन क्लास से आपत्ति को लेकर प्रशासन तथा नेताओं को ज्ञापन सौंप चुका है इसकी मध्यस्था कराते हुए जिला शिक्षा अधिकारी महोदय ने महारानी लक्ष्मी बाई स्कूल छिंदवाड़ा में मंगलवार को एक बैठक का आयोजन किये जाने की बात कहीथी जिसमें दोनों के विवाद सुलझाने का कार्य व समन्वय किया जाना था किंतु आज दिनांक तक किसी भी प्रकार की बैठक का न्योता नहीं दिया गया है इससे साफ जाहिर होता है कि कुछ प्राइवेट सीबीएसई के स्कूल अभिभावकों की कोई भी बात सुनने को भी तैयार नहीं है एक तरफा निर्णय चाहते हैं जिससे उन स्कूलों में पढ़ने वाले सभी छात्र छात्राओं के अभिभावक आक्रोश में हैं और इसका परिणाम आगामी समय में प्राइवेट स्कूलों को भुगतना पड़ सकता है यदि हमारी मांगों को जल्द नहीं माना गया तो संघ बहुत-बहुत आयोजन आगामी समय में करेगा इसकी चेतावनी संघ के जिलाध्यक्ष राजेश जैन और नगर अध्यक्ष रोहित मालवी, मनीष जैन, अजय साहू, सपन जैन, निशिकांत दुबे, राजेश मालवीय, जय शर्मा, महेंद्र आर्य, मुकेश जैन, हरिश वांधे, माखन राय, राजकुमार शर्मा, सपन जैन आदि अभिभावकों ने चेतावनी दी है। 


अभिभावक संघ ने बताया की कोरोना काल में लॉक डाउन और अन्य समस्याओ की वजह से बनी आर्थिक परेशनियों के चलते कई बच्चों के पेरेंट्स ट्यूशन फ़ीस नही पटा पा रहे है, इसकी वजह से कई बच्चों को स्कुलो द्वारा ऑन लाईन पढाई से वंचित किया जा रहा है, बच्चों को ऑन लाईन क्लासेस वाले ग्रुप से रिमूव कर फ़ीस के लिए दबाव बना कर प्रताड़ित किया जा रहा है, बच्चों को पढाई से वंचित किया जाना उनके शिक्षा के अधिकार का हन्नन है और सरासर गलत है, स्कुल ट्यूशन फ़ीस नही पटाने की वजह से किसी भी बच्चे को ऑन लाईन पढाई से वंचित नही कर सकते है, इस बात को लेकर संघ द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौपा गया है और तत्काल रिमूव किये गए बच्चों को फिर से ग्रुप जोडे जाने और ऐसा करने वाले सभी निजी स्कुलो पर सख्त से सख्त कार्यवाही किये जाने की मांग ज्ञापन के माध्यम से की गई है।

Post a Comment

0 Comments