मजदूर विरोधी श्रम कानूनों के संशोधन का विरोध | Majdoor virodhi shram kanoono ke sanshodhan ka virodh

मजदूर विरोधी श्रम कानूनों के संशोधन का विरोध

मजदूर विरोधी श्रम कानूनों के संशोधन का विरोध

पीथमपुर (प्रदीप द्विवेदी) - केंद्रीय ट्रेड यूनियनों व कर्मचारी फेडरेशन के आव्हान पर आज 22 मई 2020 को अखिल भारतीय स्तर पर आंदोलन किया गया।पीथमपुर  सयुक्त संघर्ष समिति के आव्हान पर विरोध प्रर्दशन किया गया संयुक्त संघर्ष समिति के सचिव यशवंत पैठणकर ने बताया कि।सरकार द्वारा मजदूर विरोधी श्रम कानूनों मे परिवर्तन कर नियमो में संशोधन किया जा रहा है। जिससे  श्रमिकों के अधिकार समाप्त किए जा रहे है । इससे श्रमिकों को आंदोलन करने  के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। श्रमिकों के काम के घंटे,वेतन,सेवा शर्तें रोजगार समाप्त किया जा रहा है। पहले से ही  श्रम कानूनों  का पालन नहीं हो रहा है ।अब नए श्रम कानूनों मैं संशोधन होने से श्रमिकों का  शोषण  करने के लिए  उद्योगपतियों को खुली छूट मिल जाएगी ।


आंदोलन में प्रमुख रूप से इंटक के श्री अमरदास उपारिया,एटक के एल एंड टी सेक्टर 3 के श्री राजेश सूर्यवंशी,उमेश नागर,दीप नारायण मिश्रा,अभिजीत प्रताप सिंह िलियम,कपारो इंजीनियरिंग सेक्टर 2 से श्री रवीन्द्र वाडेकर,श्याम सुंदर सोनी, दीपक यादव,दीपसिंह राठौर,राजू शर्मा, झब्बू वाडेकर,सुरेश वर्मा,गतिमान इंजीनियरिंग सेक्टर 1 के श्री कुंदन मेहरा,संतोष कोषल, तेजलाल पटेल,राजेश कोलंकर,योगेश चोपड़े,विफेया राम,सत्यनारायण यादव,स्वतंत्र संगठन के  प्रकाश,चन्द्र. प्रकाश पांडे , अन्य श्रमिको ने सोशल डिस्टेंस का पालन कर हाथ में तख्तियां स्लोगन लिखकर विरोध किया।


Post a Comment

0 Comments