गुजरात से कंधे पर सामान ओर कमर में बच्चे टांगकर मप्र की सीमा पर पैदल यात्रा कर पहुंचे सेकड़ो आदिवासी मजदूर | Gujarat se kandhe pr saman or kamar main bachche tangkar mp ki seema pr pedal yatra

गुजरात से कंधे पर सामान ओर कमर में बच्चे टांगकर मप्र की सीमा पर पैदल यात्रा कर पहुंचे सेकड़ो आदिवासी मजदूर

लॉक डाउन के तहत नगर सहित आसपास के अंचल रहे बंद

गुजरात से कंधे पर सामान ओर कमर में बच्चे टांगकर मप्र की सीमा पर पैदल यात्रा कर पहुंचे सेकड़ो आदिवासी मजदूर

अलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - इन दिनों कोरोना को लेकर सम्पूर्ण देश मे कोहराम मचा हुआ है। कोरोना के तेजी से फेल रहे संक्रमण को देखते हुवे  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश मे 21 दिन का देशभर में लॉक डाउन की घोषणा की है। इस दौरान आदिवासी बाहुल्य अलीराजपुर जिला भी लॉक डाउन की अवधिकाल से गुजर रहा है । जिला प्रशासन द्वारा आवश्यक वस्तुओं को देखते हुवे  प्रतिदिन सुबह से लेकर दोपहर 12 बजे तक की छूट दी गई है। छुट के दौरान नागरिक आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी कर अपने घरों में कैद हो जा रहे है। जिसके चलते नगर 12 बजे के बाद सुनसान नज़र आ रहा है। नगर के प्रमुख मार्गों की सभी सीमाओं को बेरिकेड्स लगाकर सील कर दिया है। दोपहर बाद निकलने वालो को पुलिस द्वारा समझाईस दी जा रही है और उनको घरों की ओर रवाना कर रहे है। हालांकि नगर की सम्पूर्ण जनता ने लॉक डाउन अवधिकाल का समर्थन किया है। वह सिर्फ जरूरी काम से ही बाहर निकल रहे है। 

गुजरात से कंधे पर सामान ओर कमर में बच्चे टांगकर मप्र की सीमा पर पैदल यात्रा कर पहुंचे सेकड़ो आदिवासी मजदूर

*मप्र-गुजरात सीमा चांदपुर पर रातभर स्क्रीनिंग चली*

उल्लेखनीय है कि मप्र की सीमाओं पर गुजरात, महाराष्ट्र के लोगो का आना जाना लगा हुआ है । जिसकी जांच स्वास्थ्य , पुलिसकर्मी ओर राजस्व अमले द्वारा रजिस्टर में एंट्री कर उनकी स्क्रीनिंग की जा रही है। उल्लेखनीय है कि जिले की गुजरात की सीमा पर ग्राम छकतला,ककराना, चांदपुर, कट्ठीवाड़ा, सेजावाड़ा सहित जिले के सभी मार्ग बंद कर जिले में प्रवेश पर रोक लगा दी है। गौरतलब है कि रोजगार की तलाश हेतु अलीराजपुर जिले से हजारों की संख्या मे ग्रामीणजन गुजरात राज्य में विगत कई माह से मजदूरी करने गए हुवे थे। गुजरात मे भी कोरोना वायरस को लेकर सतकर्ता बरती जा रही है। जिसके चलते मप्र सहित अलीराजपुर जिले के हजारों मजदूरों को उनको रोजगार देने वाले मालिको ने रोजगार नही है का बहाना बनाकर उन्हें अपने अपने गृहग्राम लौट जामे को कहा। जिसके चलते ग्रामीणजनो को मप्र में आने के लिए बस ओर अन्य वाहनो की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है। जिससे वह मजदूर वही पर फसे गए। मजदूरों ने अपने गृहग्राम आने के लिए परिजन ओर बच्चो सहित गुजरात से मप्र की ओर पैदल चल दिए। मजदूर सेकड़ो किलोमीटर की दूरी तय कर मप्र की सीमा स्थित ग्राम चांदपुर पहुंचे। इस दौरान सेकड़ो मजदूरों  की लंबी लाइन और महिलाओ की कमर पर सामान ओर बच्चे दिखाई दे रहे थे। 

पैदल मजदूरों के आने की सूचना प्रशासन को मिल गई थी। जिसको लेकर प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम चांदपुर जांच चौकी पर मुस्तेद हो गईं। गत बुधवार देर रात्रि को गुजरात से पैदल आ रहे  ग्रामीणजन मजदूर अपने परिजन सहित बच्चो के साथ चांदपुर जांच चौकी पहुंचे। चौकी पर स्वास्थ्य कर्मचारियों ने इन मजदूरों और परिजनों तथा बच्चो का स्वास्थ्य परीक्षण किया । इस दौरान उन्हें वही पर भोजन की व्यवस्था भी की गई थी। जांच चौकी पर अलीराजपुर एसडीएम विजय कुमार मंडलोई, तहसीलदार सुश्री सन्तुष्टि पाल, डॉ0 नरेंद्र भयडिया, पटवारी रोहित पडियार,  सीताराम चौहान सहित स्वास्थ्य विभाग और पुलिस दल बल मौजूद था। वही दूसरी ओर लॉक डाउन को लेकर कलेक्टर सुरभि गुप्ता ओर एसपी विपुल श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी सम्पूर्ण क्षेत्रो में भृमण कर स्थितियो का जायजा ले रहे है।

Post a Comment

0 Comments