विशाल कलश यात्रा के साथ धर्मराज कथा का उद्यापन | Vishal kalash yatra ke sath dharmraj katha ka udhyapan

विशाल कलश यात्रा के साथ धर्मराज कथा का उद्यापन

धार्मिक आयोजन सहित 11 कुंडीय यज्ञ की पूर्णाहुति

विशाल कलश यात्रा के साथ धर्मराज कथा का उद्यापन

मेघनगर (जुजर अली बोहरा) - झाबुआ जिले के मेघनगर विकस खण्ड  की ग्राम खच्चरतोड़ी के हनुमान मोहल्ले में 24 महिलाओं ने विगत एक वर्ष से शुक्ल पक्ष व कृष्ण पक्ष की चौदस को निरंतर व्रत अनुष्ठान करने  के पश्चात मकर सक्रांति के अवसर पर इस धार्मिक कार्यक्रम में मेघनगर के गायत्री परिवार के बीएल चौहान व मांगीलाल बसोड़ व उनकी पुरी टीम की उपस्थिति में गायत्री परिवार के अनुसार 11 कुंडी यज्ञ के साथ पूर्णाहुति हुई! कार्यक्रम का शुभारंभ  विशाल  कलश यात्रा के साथ हुआ कलश यात्रा में बड़ी संख्या में महिला पुरुष शामिल हुए बैंड बाजों के साथ गांव में भ्रमण कर कलश यात्रा कार्यक्रम स्थल पर पहुंची जहां 24 दंपतियों ने यज्ञ में आहुति देते हुए वर्ष भर घर परिवार की सुख समृद्धि की कामना की वही विशाल भंडारा का भी आयोजन हुआ जिसमें हजारों लोगों ने भोजन प्रसादी ग्रहण की रात्रि में विभिन्न भजन मंडली द्वारा निर्गुणी भजनों की  प्रस्तुति भी हुई ! जिसमें व्रत धारी जोड़े में लीला पति मादुसिंह लाल कट्ठा , सुमित्रा पति रमनलाल जाटव,रमिला पति  कमंलसिंह सकवाल,कमली पति नाथूलाल जाटव,काली पति बाबूलाल मेड़ा, चंदा पति जसवंत जाटव , लाड़की पति सुरेन्द्र सिंह कट्ठा, बसंती पति सोमसिंह कट्ठा, मंजुला पति शंकरलाल जामुनिया, शिला पति भारत सिंह, रेखा पति महेश कट्ठा, शारदा पति प्रवीण कट्ठा,चँदा पति दशरथ सिंह कट्ठा , ममता पति राजेश कट्ठा,जोशना पति विनोद कट्ठा, सावन पति दिलीप मेड़ा, सुनीता पति विक्रम सिंह हरवाल,ममता पति राजू कट्ठा, सोनू पति पंकज हरवाल,नीरु पति पंकज कट्ठा,दक्षा पति किशोर हरवाल, कला पति जगदीश मेड़ा ,लक्ष्मी पति शैलेन्द्र नानोलिया, वीरेंद्र पिता नाथूलाल कट्ठा , ग्राम पंचायत के सरपंच पति प्रदीप गणावा शहीत  गणमान्य लोग द्वारा उपस्थिति देकर धर्म कार्य का लाभ लिया ! वही मकर सक्रांति पर उक्त आयोजन को लेकर क्षेत्र में चर्चा जोरों पर है एवं बताते हैं कि वैकुंडी चौदस का विशेष महत्व है उक्त व्रत करने से परिवार में शांति रहती है और वर्ष भर आरोग्य वृद्धि सुख-समृद्धि रहती है छोटे से गांव में आयोजन कर समाज जनों ने ऐतिहासिक कार्य किया हैं।

विशाल कलश यात्रा के साथ धर्मराज कथा का उद्यापन

Post a Comment

0 Comments