सहकारिता द्वारा किए जा रहे कार्य काबिले तारिफ एवं सराहनीय - विधायक कांतिलाल भूरिया | Sahkarita dwara kiye ja rhe kary kabile tarif evam sarahniy

सहकारिता द्वारा किए जा रहे कार्य काबिले तारिफ एवं सराहनीय - विधायक कांतिलाल भूरिया

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में सहकारी सप्ताह का हुआ शुभारंभ

सहकारिता द्वारा किए जा रहे कार्य काबिले तारिफ एवं सराहनीय - विधायक कांतिलाल भूरिया

झाबुआ (अली असगर बोहरा) - 14 से 20 नवंबर तक आयोजित ’सहकारी सप्ताह’ अंतर्गत जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित झाबुआ में गुरूवार को दोपहर 1 बजे से शुभारंभ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में झाबुआ विधायक कांतिलाल भूरिया, पेटलावद विधायक वालसिंह मेड़ा, वैभव लक्ष्मी महिला नागरिक बैंक की अध्यक्ष श्रीमती कल्पना भूरिया, जिला युवक कांग्रेस अध्यक्ष डाॅ. विक्रांत भूरिया, जिला प्रतिनिधि राजेष डामोर, बैंक के पूर्व संचालक मानसिंह मेडा, उपायुक्त सहकारिता झाबुआ अंबरीश वैद्य, सीसीबी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पीएन यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

प्रारंभ में मां सरस्वतीजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन किया गया। साथ ही 14 नवंबर को नेहरू जयंती होने से उनके चित्र पर भी माल्र्यापण कर नमन किया गया। पश्चात् अतिथियों द्वारा सहकारी ध्वज का ध्वजारोहण कर सहकारी गीत का गायन भी सामूहिक रूप से किया गया। तत्पष्चात् सीसीबी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पीएन यादव द्वारा अतिथियों का साफा बांधकर स्वागत किया गया। बैंक के समस्त अधिकारी-कर्मचारियों एवं सहकारिता विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा पुष्पमालाओं से अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर नव-निर्वाचित विधायक कांतिलाल भूरिया ने अपने उद्बोधन मे कहा कि आज नेहरूजी की जयंती है। नेहरूजी द्वारा हरित क्रांति लाई गई थी। वे बच्चो से बहुत स्नेह रखते थे, वे अपना जन्मदिन बच्चो के बीच मे ही मनाते थे। इसी कारण आज के दिन को बाल दिवस के रूप मे मनाया जाता है। उनकी याद एवं उनके सपने हमारे साथ सदैव है ।

सहकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए गए

विधायक श्री भूरिया ने सहकारिता के उत्पति पर प्रकाष डाला एवं कहा कि काॅ-आपरेटिव्ह मूवमेंट की शुरूआत मेनचेस्टर से हुई थी । जिसमे एक समूह बनाकर कार्य किया गया, जो बाद मे बहुत विस्तृत रूप मे संपूर्ण विष्व में फेैल गया। विधायक श्री भूरिया ने आगे बताया कि हमने बैंक के विकास के लिये बहुत कार्य किए है, जिससे बैंक आज भी लाभ मे है। प्रदेष के मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा भी झाबुआ को गोद लिया है एवं छिंदवाडा माॅडल के तर्ज पर झाबुआ का विकास किया जाएगा।

जिला सहकारी कंेंद्रीय बैंक से काफी पुराना जुड़ाव

पेटलावद विधायक वालसिंह मेडा ने अपने उद्बोधन मे कहा कि हमारी सहकारी संस्थाएं खेती-किसानी से जुडी हुई है। किसानों को खाद, खाघान्न, बीज, एवं ऋण वितरण कर लाभांवित करती है। वर्तमान विधायक कांतिलाल भूरिया द्वारा पूर्व में केंद्रीय मंत्री एवं पूर्व सांसद रहते हुए झाबुआ एवं अलीराजपुर जिले मे कई विकासात्मक कार्य किए गए है। वैभव लक्ष्मी महिला नागरिक बैंक की अध्यक्ष श्रीमती कल्पना भूरिया ने कहा कि जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित झाबुआ से हमारा काफी समय से जुड़ाव है। महिलाओ के विकास के लिए महिला नागरिक बैंक की स्थापना की गई। जिससे महिलाओ को आवष्यकतानुसार ऋण वितरण किया जाकर आत्मनिर्भर बनाया जा सके। 

सहकारी संस्थाओं का किसानों के विकास मे महत्वपूर्ण योगदान

जिला युवक कांग्रेस डाॅ. विक्र्रांत भूरिया ने अपने उद्बोधन मंे कहा कि ग्रामीण क्षेत्रो मे सहकारी संस्थाओं का किसानों के विकास मे बहुत बडा योगदान है। बैंक एवं सहकारी संस्थाओं द्वारा बहुत ही सराहनीय कार्य किया जा रहा है। उनके द्वारा कहा कि छोटे व्यवसाय एवं छोटे कारीगर एवं लघु किसानों के उत्थान के लिए समुचित प्रयास किए जाना चाहिए। उपायुक्त सहकारिता जिला झाबुआ ने बताया कि नेहरूजी के जन्म दिवस के सुअवसर पर हमारे द्वारा सहकारी सप्ताह का आयोजन वर्षो से किया जा रहा है। जिला सहकारी संघ के कार्यो पर प्रकाष डाला। साथ ही कहा कि बैंक एवं संस्थाओं द्वारा शासन की जनकल्याणकारी योजना का लाभ किसानो तक पहुंचाने के लिये भरसक प्रयास किए जाते है, किन्तु शासकीय डिपाजिट बैंक को नहीं मिलती है, जो मिलना चाहिए। महिला नागरिक सहकारी को भी आधुनिक बैंक बनाए जाने की बात कहीं। साथ ही डाॅ. भूरिया ने कहा कि सहकारिता पर एक पुस्तक तैयार की जाकर विमोचन किया जाना चाहिए।

पांच अक्षरों से बना है सहकारिता

बैंक के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पीएन यादव ने अपने उद्बोधन मे कहा कि सहकारिता शब्द पांच अक्षर से बना है। सहकारिता के बिना कोई भी कार्य किया जाना आसान नहीं होता है। आज का विषय ग्रामीण क्षैत्र मे सहकारिता के माध्यम से नवाचार किया जाना है। आज की आवष्यकता है कि ग्रामीण क्षैत्र में समूहो का गठन कर क्षैत्र की आवष्यकतानुसार समिति गठित कर विकास कार्य किए जाना चाहिए। इस अवसर पर सहकारिता विभाग के अधिकारी-कर्मचारी, बैंक के अधिकारी/कर्मचारी, समस्त शाखा प्रबंधक, पर्यवेक्षक एवं संस्था प्रबंधक बड़ी संख्या मंे उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती सुषीला डामोर ने किया एवं आभार मनोज कोठारी ने माना।

Post a Comment

0 Comments