रंगारंग आतिशबाजी ने लोगों को किया आकर्षित, मैदान पर अव्यवस्थाओं का रहा बोलबाला | Rangarang aatish baji ne logo ko kiya akarshit

रंगारंग आतिशबाजी ने लोगों को किया आकर्षित, मैदान पर अव्यवस्थाओं का रहा बोलबाला

रंगारंग आतिशबाजी ने लोगों को किया आकर्षित, मैदान पर अव्यवस्थाओं का रहा बोलबाला

झाबुआ (मनीष कुमट) -  दशहरा पर्व पर 8 अक्टूबर, मंगलवार शाम को शहर के ग्राम बिलिडोज में मां त्रिपुरा काॅलेज के समीप नगरपालिका द्वारा 51 फिट के रावण पुतला दहन का आयोजन रखा गया। देर शाम 7.15 बजे दशानन का अंत भगवान श्री राम के हाथों हुआ। 2 मिनिट में ही रावण का पुतला जलकर खत्म हो गया। इससे पूर्व जमकर रंगारंग आतिशबाजी भी की गई। रावण दहन स्थल पर अव्यवस्थाओं का भी काफी बोलबाला रहा। मैदान सुव्यवस्थित नहीं होने से रावण दहन देखने के लिए आए हजारों लोगों को काफी परेशानियां हुई।

रंगारंग आतिशबाजी ने लोगों को किया आकर्षित, मैदान पर अव्यवस्थाओं का रहा बोलबाला

ज्ञातव्य रहे है प्रतिवर्ष नगरपालिका द्वारा शहर के काॅलेज मैदान पर रावण दहन का आयोजन परंपरानुसार किया जाता रहा है, लेकिन इस वर्ष कलेक्टर के निर्देश पर रावण दहन का स्थान बदलकर मां त्रिपुरा काॅलेज के समीप रिक्त पड़ी जमीन पर कर दिया गया। उक्त जगह काफी सकरी एवं मैदान सुव्यवस्थित नहीं होने से शहर सहित आसपास के अंचलों से हजारों की संख्या में आने वाले ग्रामीणजनों को काफी परेशानियों भी हुई। व्यवस्थाएं भी गड़बड़ाई। मैदान के एक ओर अतिथियों के बैैठने के लिए मंच बनाया गया। जहां जोबट विधायक सुश्री कलावती भूरिया, पूर्व विधायक जेवियर मेड़ा, जिला कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष हेमचंद डामोर, युवा कांग्रेस नेता गौरव सक्सेना, राजेश डामोर के साथ नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती मन्नूबेन डोडियार, उपाध्यक्ष रोशनी डोडियार, अविनाश डोडियार, दीपू डोउियार आदि अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। विधायक सुश्री कलावती भूरिया, पूर्व विधायक जेवियर मेड़ा एवं नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती मन्नूबेन डोडियार ने मंच से हजारों लोगों को विजयादशमी पर्व की शुभकामनाएं प्रेषित की।

हजारों की संख्या में लोग हुए एकत्रित

रावण दहन स्थल पर शाम 4 बजे से आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के महिला-पुरूष, युवा, बच्चें, बड़े, बुजुर्गो का आना आरंभ हो गया था। शाम करीब 6 बजे पूरा स्थल हजारों लोगों की भीड़ से खचाखच भर गया। यहां ग्रामीणों द्वारा समूह में ढोल-मांदल पर नृत्य किया गया। शहर से भी सैकड़ो लोग अपने दो एवं चार पहिया वाहनों से रावण दहन देखने पहुंचे। 

रंगारंग आतिशबाजी की गई

शाम 6.30 बजे से नगरपालिका द्वारा रावण के पुतले के सामने आतिशबाजी आरंभ की गई। आतिशबाजी इंदौर के कलाकारों द्वारा की गई। करीब आधे धंटे तक रंगारंग आतिशबाजी के बीच ही रावण दहन हेतु नवनीत कला के युवा एवं बाल कलाकार श्री रामजी, लक्ष्मण, हनुमानजी एवं हनुमान की वानर सेना बने बाल कलाकार ट्रेक्टर से आयोजनस्थल पर पहुंचे और अपनी प्रस्तुति दी। युवा एवं बाल कलाकारों की टोली द्वारा ‘जय श्री राम एवं जय हनुमान’ के जयघोश भी लगाए गए। आयोजनस्थल पर पूरा मोर्चा नगरपालिका सीएमओ एलएस डोडिया एवं नपा के सेनेट्री प्रभारी कमलेश जायसवाल ने संभाला। 

शाम 7.15 बजे किया दहन

ठीक शाम 7.15 बजे राम के तीर से रावण के पुतले पर आग लगते ही पुतला 2 मिनिट में पटाखों के साथ जलकर जमीन पर गिर गया। बाद पुतले से जली लकड़ियों को लेनेे के लिए ग्रामीणजन दौड़ पड़े। आयोजन स्थल पर पुलिस सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम रहे। रावण दहन बाद आवागमन मार्ग पर लोगांे की भारी भीड़ जमा हो गई। इस कारण मार्ग पर यातायात भी बाधित हुआ।

Post a Comment

0 Comments