खेत-खेत जाकर सर्वे का कार्य किया जाए - कृषि मंत्री श्री यादव | Khet khet jakar sarve ka kary kiya jaye

खेत-खेत जाकर सर्वे का कार्य किया जाए - कृषि मंत्री श्री यादव

खेत-खेत जाकर सर्वे का कार्य किया जाए - कृषि मंत्री श्री यादव

दूसरे दिन भी फसलों के अवलोकन के लिए खेतों में पहुंचे कृषि मंत्री

खरगोन (हर्ष गुप्ता) - प्रदेश के कृषि, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री श्री सचिन यादव शुक्रवार को अपने भ्रमण के दूसरे दिन भी कसरावद, गोंगावॉ और भीकनगांव जनपदों में अतिवृष्टि से प्रभावित फसलों के अवलोकन के लिए पहुंचे। कृषि मंत्री श्री यादव अपने दूसरे दिन के सघन भ्रमण कार्यक्रम के दौरान ककड़गांव, बिटनेरा, वड़िया, मछलगांव, अंदड़, रेहगांव, बलखड़िया, सगुर, पोई व सूर्वा के अलावा इन गांवों के बीच में आने वाले गांवों में फसलों का अवलोकन करने भी पहुंचे। कृषि मंत्री श्री यादव ने मौके पर उपस्थित एसडीएम, तहसीलदार, सहकारिता विभाग, कृषि विभाग और बैंकर्स को निर्देश दिए कि जिस तरह वे खेत-खेत पहुंचकर अवलोकन कर रहे है, ऐसे ही सर्वे करने वाली टीम भी खेत-खेत जाकर सर्वें कार्य पूरी ईमानदारी के साथ करें। सर्वें करने वाले दलों को स्पष्ट तौर पर बताया जाए कि प्रत्येक किसान की समस्या को सुने। किसानों की बातों को अनदेखा न करें। किसान इन दिनों बड़ी मुसीबत है, इस बात का ख्याल दल को होना चाहिए। इस दौरान कृषि अपर संचालक भोपाल श्री बीएम सहारे, कसरावद एसडीएम श्रीमती नेहा शिवहरे, भीकनगांव एसडीएम श्री त्रिलोचंद गौड़, तहसीलदार ममता मिमरोट, कृषि उप संचालक श्री एमएल चौहान, उद्यानिकी उप संचालक श्री केके गिरवाल, डीआरसीएस श्री मुकेश जैन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

खेत-खेत जाकर सर्वे का कार्य किया जाए - कृषि मंत्री श्री यादव

अपर संचालक को दिखाई फसलें

अतिवृष्टि से प्रभावित हुई फसलों के अवलोकन के लिए भोपाल के अपर संचालक श्री बीएम सहारे भी पहुंचे। कृषि मंत्री श्री यादव ने उन्हें भी खेतों के बीच तक ले जाकर कपास, सोयाबीन व मक्का की फसलों का अवलोकन कराया। साथ ही कहा कि इन हालातों से किसानों को उभारने के लिए सरकार हर संभव प्रयास करेगी। आप वस्तु स्थिति देखकर किसानों के हित में कोई बेहतर विकल्प निकालने के प्रयास करें। ग्राम अंदड़ में किसान मोहन रामलाल यादव की कपास की फसल देखकर कृषि मंत्री श्री यादव ने कहा कि अब ऐसी फसलें कैसे उपज देगी ? किसानों के यह बुरे दिन है। इसके लिए उन्हें मुआवजा राशि की सख्त आवश्कता होगी। कृषि मंत्री श्री यादव ने किसानों से कहा कि वास्तव में फसलें बर्बाद हुई है। हमारा निमाड़ विशेष तौर पर कपास की फसल के लिए जाना जाता है। किसानों को कपास की फसल सें बड़ी उम्मीदें रहती है। अब हालात ऐसे है कि कपास की फसल ही नहीं रहीं। किसानों के दर्द को समझते हुए मुआवजा राशि प्रदान करने के पूरे प्रयास किए जाएंगे।

आज शनिवार को फसल नुकसानी की करेंगे समीक्षा बैठक

कृषि मंत्री श्री यादव शनिवार को भी विभिन्न गांवों में जाकर अतिवृष्टि से हुई फसल नुकसानी का जायजा लेंगे। उनके निर्धारित कार्यक्रमानुसार कृषि मंत्री श्री यादव प्रातः 11 बजे उमरखली जाएंगे। यहां वे प्रातः 11.30 बजे कोठा, दोपहर 12.5 बजे छोटी कोठा, दोपहर 1.10 बजे बिस्टान, दोपहर 1.20 बजे बनिहार, दोपहर 2 बजे सेजला, दोपहर 2.30 बजे भातुड़ तथा दोपहर 3 बजे घट्टी में अतिवृष्टि से हुई फसल नुकसानी का जायजा लेंगे। मंत्री श्री यादव शाम 4.15 बजे खरगोन आएंगे और जिला अधिकारियों के साथ फसल नुकसानी को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे। इसके पश्चात वे शाम 7 बजे इंदौर के लिए रवाना होंगे।

Comments

Popular posts from this blog

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News

कुल देवी देवताओं के प्रताप से होती है गांव की समृद्धि smradhi Aajtak24 News