स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की समीक्षा बैठक जिलाधिकारी की अध्यक्षता में संपन्न

स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की समीक्षा बैठक जिलाधिकारी की अध्यक्षता में संपन्न

स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की समीक्षा बैठक जिलाधिकारी की अध्यक्षता में संपन्न

संचारी रोग नियन्त्रण व दस्तक अभियान के सफल संचालन हेतु बच्चों द्वारा प्रभात फेरी निकाली जाए व किया जाए जागरूक - जिलाधिकारी

बलरामपुर (प्रमोद पांडेय) - स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की बैठक जिलाधिकारी कृष्णा करुणेश की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुआ। बैठक के दौरान डीएम ने समस्त संबन्धित अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि वे अपने-अपने नक्शे को दुरुस्त कराते हुये, 21 अगस्त तक शतप्रतिशत लक्ष्य को पूरा करें और नया डाटा अपडेट करें जिससे कार्यों का स्पष्ट निर्धारण किया जा सके। 

पंचायतीराज विभाग की समीक्षा के दौरान उन्होंने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देशित किया कि वे ब्लाक व ग्राम पंचायत स्तर पर प्रधानों एवं बीडीओं की मीटिंग करायें। ग्रामीण क्षेत्रों में खराब पड़े हैण्डपंपों की शीघ्र मरम्मत कराये व जो भी रिबोर होना है, स्थानों का चयन कर शीघ्र रिबोर कराये। शौचालय निर्माण की प्रगति में सुधार लाये, तीव्र गति से कार्य करें। शतप्रतिशत लक्ष्य पूरा करें। समस्त ग्राम पंचायतों को स्वच्छता से संबन्धित जो भी योजनाएं चलाये जा रहे है, उनको शतप्रतिशत पूरा कराये, जिससे बीमारियों से बचाया जा सके। 

स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान सीएमओ डॉ. घनश्याम सिंह को निर्देशित करते हुये डीएम ने कहा कि संचारी रोग नियन्त्रण व दस्तक अभियान नियमित चलाया जाए। बच्चों के स्वास्थ्य से संबन्धित जागरूकता अभियान चलाया जाए। शिक्षा विभाग से समन्वय स्थापित कर सभी हाईस्कूल व इण्टर कालेज के प्रधानाचार्यो की मीटिंग कराये और इसके प्रति जागरूक करते हुये ग्रामीण एवं नगर क्षेत्रों में जेई व एईएस नामक बीमारियों को स्कूलों के बच्चों द्वारा प्रभात्फेरी सप्ताह में एक बार निकलवाया जाए और इसके प्रति लागों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रभात्फेरी के दौरान लोगों को बताया जाए कि हाथ साफ रखें, स्वच्छ एवं गुनगुना पानी पीये, साफ-सफाई रखें व मच्छरों से बचाव हेतु मच्छरदानी का प्रयोग करें, कपड़े से पूरा शरीर ढक कर रखे व बैनर, पोस्टर के साथ नारा लगाते हुये गली, मोहल्ला आदि से प्रभात् फेरी निकाला जाए। इसका व्यापक-प्रचार प्रसार किया जाए। 

समस्त ईओं को निर्देशित करते हुये कहा कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में फांगिंग कराये, शुद्ध पेयजल की व्यवस्था कराये, खराब पड़े हैण्डपंपों को दुरुस्त करायें। साफ-सफाई करायें, गन्दगी न होने दें, क्लोरीन की गोलियों को जरुरत के हिसाब से हैण्डपंपों में डलवाये। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं होगी।  

समीक्षा के दौरान डॉ. घनश्याम सिंह ने बताया कि एईएस व जेई व मच्छर जनित रोगों से बचाव के लिए संयुक्त अभियान संचारी रोग नियन्त्रण अभियान व दस्तक अभियान चलाया जा रहा है। इसके अन्तर्गत स्वास्थ्यकर्मी व सहयोगी संस्थाएं घर-घर जाकर लोगो को जागरूक कर रहे है। उन्होंने बताया कि जेई व एईएस मुख्यतः गन्दगी व साफ-सफाई के कमी के चलते होने वाली बीमारियां है। 

दस्तक अभियान में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त नगर विकास विभाग, पंचायती राज विभाग, ग्राम विकास विभाग, जलनिगम, पशुपालन विभाग, महिला व बाल विकास विभाग, कृषि व सिचाईं विभाग शामिल है जिनका कार्य सराहनीय है। सभी विभागों के अधिकारी/कर्मचारी कार्ययोजना के अनुसार कार्य कर रहे है। सीएमओ ने बताया कि प्रत्येक ग्रामों में जागरूकता संबन्धी कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। जिन स्थानों पर जागरूकता कार्यक्रम नहीं हुआ है, वहां प्राथमिकता के आधार पर कराया जायेगा। ऐनम, आॅगनबाड़ी कार्यकत्री, आशा बहु घर-घर जाकर इन बीमारियों के प्रति लोगों को जागरूक कर रहीं है। उन्होंने कहा कि बरसात का मौसम चल रहा है, बीमारियों का प्रकोप ज्यादा रहता है इसलिये लोगो को बताया जाए कि यदि बच्चों को उल्टी-दस्त आ रहा है तो ओआरएस का घोल बनाकर पिलाये, यदि घर में ओआरएस का पाउडर नहीं है तो चीनी, नमक, नीबू का घोल बनाकर पिलाये पानी की कमी न होने दें। यदि कट्रोल नहीं हो रहा है तो नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लें जाए। डाक्टर से सलाह अवश्य लें। 

बैठक में डीएम, सीएमओ डा. घनश्याम सिंह, अपर सीएमओं डा. अरुण कुमार, डा. कमाल अशरफ, डा. एके. पाण्डेय, जल निगम मनोज कुमार, पंचायतीराज अधिकारी, समस्त ईओ, अरविन्द मिश्रा, एमवाईसी व अन्य संबन्धित अधिकारीगण मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments