उच्च मैनेजमेंट का धौंस दिखाकर धड़ल्ले से अवैध कबाड़ के कारोबार को अंजाम दे रहा सिम्मा simma Aajtak24 News

 

उच्च मैनेजमेंट का धौंस दिखाकर धड़ल्ले से अवैध कबाड़ के कारोबार को अंजाम दे रहा सिम्मा simma Aajtak24 News 

अनूपपुर - अनूपपुर तथा शहडोल जिले के सीमा पर क्षेत्र के इंदिरा नगर अमलाई में स्थित सिम्मा का ठीहा इन दिनों कबाड़ कारोबार का हब बन चुका है, जहां धड़ल्ले से कबाड़ सरगना द्वारा कबाड़ के नाम पर चोरी की वारदातों को ना सिर्फ गुर्गों के माध्यम से अंजाम दिलाया जा रहा है  बड़े पैमाने पर चोरी का माल प्लास्टिक और पुट्ठो में के नीचे दबा कर रायपुर तथा जबलपुर भी भेजा जा रहा है, आलम यह है कि इन पर लगाम कसने में बेचारे थाना प्रभारी अमलाई और थाना प्रभारी चचाई बेबस नजर आ रहे हैं, और कथित माफिया अनूपपुर तथा शहडोल मुख्यालय सेटिंग का गाना गुनगुना रहे हैं। हालांकि यह छुटपुट माफिया सिर्फ आन द रिकार्ड गुर्गे ही है, पर्दे के पीछे इन गुर्गों का राजा कोई और ही है। कम शब्दों में कहें तो पर्दे के पीछे से गुर्गों के माध्यम से इन गुर्गों  का राजा मोनोपली बना कर कबाड़ के इस अवैध कारोबार का सरगना बन बैठा है। लेकिन बात अगर जमीनी हकीकत की करें तो प्रतीत होता है कि संयंत्र के तहत छोटा-मोटे कबाड़ियों  को रास्ते से हटाकर 4 गुने रफ्तार से अवैध कबाड़ कारोबार को अंजाम सिम्मा द्वारा दिया जा रहा है।

मुख्य सरगना बना सिम्मा -

बात अगर अब से 6 महीने पूर्व की करें तो शहडोल जिला मुख्यालय सहित जिले भर में अलग-अलग छुटपुट कबाड़ी थे, जो छोटे-मोटे कबाड़ के साथ थोड़ा बहुत चोरी का माल खरीदी बिक्री का काम करते हुए डायरेक्ट अपने माल की सप्लाई रायपुर तथा जबलपुर किया करते थे, लेकिन अचानक से कथित माफिया  ने एक फतवा लागू किया कि जिसको भी कबाड़ का काम करना है तो माल सिम्मा को ही देना पड़ेगा नहीं तो कारोबार तो बंद होगा ही जिला बदर और रासुका जैसी कार्यवाही भी की जाएगी, इसी तारतम्य में कई छोटे कबाड़ कारोबारियों को 379 के तहत पीली कोठी का सफर भी कराया गया। कुछ बेचारे शिकायत लेकर आलाकमान के पास भी पहुंचे पर कहते हैं ना कि सैंया भए कोतवाल तो डर काहे का और अंततः जिले भर के कबाड़ कारोबारियों ने कथित माफिया के आगे अपने घुटने टेक दिए और कल तक फेरी वालों से कबाड़ खरीद कर जबलपुर भेजने वाले कबाड़ कारोबारी मजबूरी में एफआईआर,जिला बदर एवं अन्य कार्यवाही से बचने के लिए 41 रुपए किलो का माल 31 रुपए किलो में कथित माफिया बंधुओं को देने को मजबूर हैं।

आखिर कबाड़ माफिया सिम्मा पर कार्यवाही कब-

अगर  माफिया मुक्त अभियान की तर्ज पर काम कर रहा है और अवैध कबाड़ कारोबार पर अंकुश लगाने की तैयारी है तो सिर्फ जिला बदर की श्रेणी में और अन्य को ही क्यों शामिल किया गया है, इंदिरा नगर अमलाई के कथित माफिया के ऊपर भारी मात्रा में शराब तस्करी सहित कबाड़ के अन्य मामले दर्ज हैं, फिर भी बदस्तूर  कारोबार को अंजाम दे रहे हैं। निश्चित तौर पर अमलाई पुलिस द्वारा बड़े पैमाने पर कार्यवाही या कबाड़ कारोबारियों पर की गई है लेकिन अब यही कार्यवाही या यह दिखाती हुई प्रतीत हो रही है क्या किसी एक माफिया के इशारे पर सारे कबाड़ कारोबारियों को एक ही झंडे के नीचे लाने का प्रयास था जिसमें सफलता मिली और अब कांटा और गोदाम नया बनाया गया और माल सीधे रायपुर में पलटी हो रहा है। गौरतलब है कि माल अनूपपुर जिले से होकर गुजरता है जहां की स्थानी पुलिस की भी कार्यशैली पर सवाल उठने लाजमी है।

इंदिरा नगर बना कबाड़ का हब-

छुटपुट कबाड़ कारोबारियों के पहिए अब उल्टी दिशा की ओर मुड़ चुके हैं क्यों की  मरता क्या न करता की तर्ज पर छोटे कारोबारी एक ऐसे माफिया को 10 रुपए प्रति किलो कम रेट पर माल देने को मजबूर है जो तत्काल प्रभाव से किसी भी छोटे कारोबारी के ठीहे पर दबिश दे सकता है। कल तक जो माल शहडोल से जबलपुर बड़े ठीहो में जाया करता था,कम शब्दों में कहें तो 5 साल पहले जैसे सिंडिकेट बनाकर कारोबार गुलजार था वैसे ही अब सरगना बनाकर कारोबार गुलजार हो रहा है, बताया जाता है कि उस गोदाम में ऐसे ऐसे अस्त्र- शास्त्र है कि महज कुछ ही घंटों में हाईवा और पोकलेन जैसी बड़ी गाड़ियों को भी काट -पीट के मिनी ट्रक, 709 में फिट कर दिया जाता है, जहां जाने की आज तक स्थानीय पुलिस ने हिम्मत नहीं जुटाई है लगातार रेलवे तथा बंद पड़ी खदानो और कॉलरी से लोहे की चोरी हो रही है जिस पर सिम्मा पर पूरा जिम्मा बरकरार है। जिस पर स्थानीय पुलिस मेहरबान है।



uchch mainejament ka dhauns dikhaakar dhadalle se avaidh kabaad ke kaarobaar ko anjaam de raha simma
anoopapur - anoopapur tatha shahadol jile ke seema par kshetr ke indira nagar amalaee mein sthit simma ka theeha in dinon kabaad kaarobaar ka hab ban chuka hai, jahaan dhadalle se kabaad saragana dvaara kabaad ke naam par choree kee vaaradaaton ko na sirph gurgon ke maadhyam se anjaam dilaaya ja raha hai bade paimaane par choree ka maal plaastik aur puttho mein ke neeche daba kar raayapur tatha jabalapur bhee bheja ja raha hai, aalam yah hai ki in par lagaam kasane mein bechaare thaana prabhaaree amalaee aur thaana prabhaaree chachaee bebas najar aa rahe hain, aur kathit maaphiya anoopapur tatha shahadol mukhyaalay seting ka gaana gunaguna rahe hain. haalaanki yah chhutaput maaphiya sirph aan da rikaard gurge hee hai, parde ke peechhe in gurgon ka raaja koee aur hee hai. kam shabdon mein kahen to parde ke peechhe se gurgon ke maadhyam se in gurgon ka raaja monopalee bana kar kabaad ke is avaidh kaarobaar ka saragana ban baitha hai. lekin baat agar jameenee hakeekat kee karen to prateet hota hai ki sanyantr ke tahat chhota-mote kabaadiyon ko raaste se hataakar 4 gune raphtaar se avaidh kabaad kaarobaar ko anjaam simma dvaara diya ja raha hai. mukhy saragana bana simma - baat agar ab se 6 maheene poorv kee karen to shahadol jila mukhyaalay sahit jile bhar mein alag-alag chhutaput kabaadee the, jo chhote-mote kabaad ke saath thoda bahut choree ka maal khareedee bikree ka kaam karate hue daayarekt apane maal kee saplaee raayapur tatha jabalapur kiya karate the, lekin achaanak se kathit maaphiya ne ek phatava laagoo kiya ki jisako bhee kabaad ka kaam karana hai to maal simma ko hee dena padega nahin to kaarobaar to band hoga hee jila badar aur raasuka jaisee kaaryavaahee bhee kee jaegee, isee taaratamy mein kaee chhote kabaad kaarobaariyon ko 379 ke tahat peelee kothee ka saphar bhee karaaya gaya. kuchh bechaare shikaayat lekar aalaakamaan ke paas bhee pahunche par kahate hain na ki sainya bhe kotavaal to dar kaahe ka aur antatah jile bhar ke kabaad kaarobaariyon ne kathit maaphiya ke aage apane ghutane tek die aur kal tak pheree vaalon se kabaad khareed kar jabalapur bhejane vaale kabaad kaarobaaree majabooree mein ephaeeaar,jila badar evan any kaaryavaahee se bachane ke lie 41 rupe kilo ka maal 31 rupe kilo mein kathit maaphiya bandhuon ko dene ko majaboor hain. aakhir kabaad maaphiya simma par kaaryavaahee kab- agar maaphiya mukt abhiyaan kee tarj par kaam kar raha hai aur avaidh kabaad kaarobaar par ankush lagaane kee taiyaaree hai to sirph jila badar kee shrenee mein aur any ko hee kyon shaamil kiya gaya hai, indira nagar amalaee ke kathit maaphiya ke oopar bhaaree maatra mein sharaab taskaree sahit kabaad ke any maamale darj hain, phir bhee badastoor kaarobaar ko anjaam de rahe hain. nishchit taur par amalaee pulis dvaara bade paimaane par kaaryavaahee ya kabaad kaarobaariyon par kee gaee hai lekin ab yahee kaaryavaahee ya yah dikhaatee huee prateet ho rahee hai kya kisee ek maaphiya ke ishaare par saare kabaad kaarobaariyon ko ek hee jhande ke neeche laane ka prayaas tha jisamen saphalata milee aur ab kaanta aur godaam naya banaaya gaya aur maal seedhe raayapur mein palatee ho raha hai. gauratalab hai ki maal anoopapur jile se hokar gujarata hai jahaan kee sthaanee pulis kee bhee kaaryashailee par savaal uthane laajamee hai. indira nagar bana kabaad ka hab- chhutaput kabaad kaarobaariyon ke pahie ab ultee disha kee or mud chuke hain kyon kee marata kya na karata kee tarj par chhote kaarobaaree ek aise maaphiya ko 10 rupe prati kilo kam ret par maal dene ko majaboor hai jo tatkaal prabhaav se kisee bhee chhote kaarobaaree ke theehe par dabish de sakata hai. kal tak jo maal shahadol se jabalapur bade theeho mein jaaya karata tha,kam shabdon mein kahen to 5 saal pahale jaise sindiket banaakar kaarobaar gulajaar tha vaise hee ab saragana banaakar kaarobaar gulajaar ho raha hai, bataaya jaata hai ki us godaam mein aise aise astr- shaastr hai ki mahaj kuchh hee ghanton mein haeeva aur pokalen jaisee badee gaadiyon ko bhee kaat -peet ke minee trak, 709 mein phit kar diya jaata hai, jahaan jaane kee aaj tak sthaaneey pulis ne himmat nahin jutaee hai lagaataar relave tatha band padee khadaano aur kolaree se lohe kee choree ho rahee hai jis par simma par poora jimma barakaraar hai l jis par sthaaneey pulis meharabaan hai 

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News