’परीक्षा परिणाम से उत्पन्न तनाव एवं डिप्रेशन को दूर करने के संबंध में सीईओ ने ली बैठक bhaithak Aajtak24 News

 

’परीक्षा परिणाम से उत्पन्न तनाव एवं डिप्रेशन को दूर करने के संबंध में सीईओ ने ली बैठक bhaithak Aajtak24 News 

धमतरी - स्कूली बच्चों में परीक्षा परिणाम से उत्पन्न तनाव एवं डिप्रेशन को दूर करने के संबंध में आज जिला पंचायत सीईओ सुश्री रोमा श्रीवास्तव ने जिला पंचायत के सभाकक्ष में अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर द्वारा कक्षा 10 वीं एवं 12 वीं के परीक्षा परिणाम प्रतिवर्ष घोषित किए जाते हैं। विद्यार्थियों के अपेक्षित परिणाम नहीं आने से विद्यार्थी प्रायः तनाव में रहते हैं तथा कुछ विद्यार्थी तो डिप्रेशन में चले जाते हैं। परीक्षा परिणाम घोषित होने के पहले या बाद में विद्यार्थियों को निराश होने या तनाव लेने की आवश्यकता नहीं है। पालकों को भी बच्चों से बहुत अधिक अपेक्षा नहीं रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि किसी भी बच्चे में यह प्रवृत्ति पायी जाती है या इस संदर्भ में कोई सूचना मिलती है, तो स्वास्थ्य विभाग के ’’टोल फ्री नंबर 104 आरोग्य सेवा निःशुल्क परामर्श” पर सूचित किया जा सकता है। राज्य शासन ने इस विषय को गंभीरता से लेते हुए जिले में बच्चों एवं पालकों को जागरूक करने मुहिम चलाने के निर्देश दिये है। सीईओ जिला पंचायत सुश्री श्रीवास्तव ने अभिभावकों और बच्चों की सहायता के लिए जिले में भी टोल फ्री नंबर जारी करने के निर्देश दिये है, सूचना प्राप्त होने पर विद्यार्थियों के हित में तत्काल समाधान उपलब्ध कराया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि बच्चे अपेक्षानुसार परिणाम नहीं ला पाते, इस स्थिति में तनाव नहीं लेना चाहिए। कम नंबर लाने का मतलब यह नहीं है कि नॉलेज कम है ,कई व्यक्तित्व ऐसे हैं जो अपने बचपन में अच्छे नंबर नहीं ला पाए पर आगे जाकर उन्होंने बहुत ख्याति प्राप्त की। सीईओ सुश्री श्रीवास्तव ने कुछ ऐसे व्यक्तित्व का उदाहरण दिया-जिनके प्रारंभिक जीवन में चुनौतियां थी परंतु बाद में भी सफल हुए। उदाहरण के लिए बिल गेट्स, अल्बर्ट आइंस्टीन, थॉमस एडिसन। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि बच्चों को हमेशा प्रोत्साहित करते रहना चाहिए। परिवार का वातावरण हमेशा सकारात्मक होना चाहिए, बच्चों को अन्य बच्चों के साथ तुलना नहीं करना चाहिए और अभिभावकों या माता-पिता को हमेशा बच्चों के साथ समय बिताना चाहिए। बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी श्री टी.आर. जगदल्ले, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी, डीपीएम प्रिया कंवर के अलावा विभिन्न स्कूलों के प्राचार्य उपस्थित थे।




pareeksha parinaam se utpann tanaav evan dipreshan ko door karane ke sambandh mein seeeeo ne lee baithak
dhamataree - skoolee bachchon mein pareeksha parinaam se utpann tanaav evan dipreshan ko door karane ke sambandh mein aaj jila panchaayat seeeeo sushree roma shreevaastav ne jila panchaayat ke sabhaakaksh mein adhikaariyon kee baithak lee. baithak mein unhonne kaha ki maadhyamik shiksha mandal raayapur dvaara kaksha 10 veen evan 12 veen ke pareeksha parinaam prativarsh ghoshit kie jaate hain. vidyaarthiyon ke apekshit parinaam nahin aane se vidyaarthee praayah tanaav mein rahate hain tatha kuchh vidyaarthee to dipreshan mein chale jaate hain. pareeksha parinaam ghoshit hone ke pahale ya baad mein vidyaarthiyon ko niraash hone ya tanaav lene kee aavashyakata nahin hai. paalakon ko bhee bachchon se bahut adhik apeksha nahin rakhanee chaahie. unhonne kaha ki yadi kisee bhee bachche mein yah pravrtti paayee jaatee hai ya is sandarbh mein koee soochana milatee hai, to svaasthy vibhaag ke ’’tol phree nambar 104 aarogy seva nihshulk paraamarsh” par soochit kiya ja sakata hai. raajy shaasan ne is vishay ko gambheerata se lete hue jile mein bachchon evan paalakon ko jaagarook karane muhim chalaane ke nirdesh diye hai. seeeeo jila panchaayat sushree shreevaastav ne abhibhaavakon aur bachchon kee sahaayata ke lie jile mein bhee tol phree nambar jaaree karane ke nirdesh diye hai, soochana praapt hone par vidyaarthiyon ke hit mein tatkaal samaadhaan upalabdh karaaya ja sakega. unhonne kaha ki bachche apekshaanusaar parinaam nahin la paate, is sthiti mein tanaav nahin lena chaahie. kam nambar laane ka matalab yah nahin hai ki nolej kam hai ,kaee vyaktitv aise hain jo apane bachapan mein achchhe nambar nahin la pae par aage jaakar unhonne bahut khyaati praapt kee. seeeeo sushree shreevaastav ne kuchh aise vyaktitv ka udaaharan diya-jinake praarambhik jeevan mein chunautiyaan thee parantu baad mein bhee saphal hue. udaaharan ke lie bil gets, albart aainsteen, thomas edisan. saath hee unhonne yah bhee kaha ki bachchon ko hamesha protsaahit karate rahana chaahie. parivaar ka vaataavaran hamesha sakaaraatmak hona chaahie, bachchon ko any bachchon ke saath tulana nahin karana chaahie aur abhibhaavakon ya maata-pita ko hamesha bachchon ke saath samay bitaana chaahie. baithak mein jila shiksha adhikaaree shree tee.aar. jagadalle, vikaasakhand shiksha adhikaaree, deepeeem priya kanvar ke alaava vibhinn skoolon ke praachaary upasthit the.

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News