अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: पुसौर विकासखंड की शिक्षिकाएं हुई सम्मानित sammanit Aaj Tak 24 News


अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस: पुसौर विकासखंड की शिक्षिकाएं हुई सम्मानित sammanit Aaj Tak 24 News 




रायगढ़ - अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आज पुसौर विकासखंड के सांस्कृतिक भवन में विकासखंड के शिक्षिकाएं जिन्होंने अध्यापन के साथ-साथ अन्य उत्कृष्ट कार्य किए हैं उन्हें महिला सम्मान समारोह में मेडल प्रशस्ति पत्र एवं कलम देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन के वित्त मंत्री श्री ओ.पी.चौधरी की माता कौशल्या चौधरी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रही। 
वित्त मंत्री श्री ओ.पी.चौधरी की माता कौशल्या चौधरी ने कार्यक्रम को संबोधित किया एवं सभी शिक्षिकाओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित करते हुए अपनी शुभकामनाएं दी। माताजी के हाथों सम्मानित होकर सभी शिक्षिका खुशी व्यक्त किये। इस दौरान अधिवक्ता मधुलिका पटेल भी उपस्थित रही। कार्यक्रम में शिक्षिका बेला चौहान और बेनी प्रसाद उरांव द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। क्षेत्र के जाने माने हास्य व्यंग और प्रसिद्ध रामायणी लोक कलाकार प्रधान पाठक चूड़ामणि सिदार द्वारा स्वागत गीत, गजल नारी सम्मान संबंधित गीत ने समां बांध दिया। प्रमुख वक्ता पुष्पांजलि दासे, सुलेखा दास, बिनोदिनि शर्मा, चंद्रप्रभा नायक, नीलिमा कुजूर, सुषमा स्वर्णकार विशेष वक्ता के रूप में महिला दिवस की महत्ता पर अपने विचार रखे। शैलेंद्र मिश्रा, सनत पटेल सुरंजना रावत, अधिवक्ता मधुलिका पटेल द्वारा समाज परिवार और राष्ट्र की निर्माण में महिलाओं की सहभागिता की प्रशंसा किया गया। विकास खंड शिक्षा अधिकारी दिनेश पटेल द्वारा पुसौर के उत्कृष्ट शिक्षा और अन्य गतिविधियों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों के निर्वहन के लिए शिक्षिकाओं की मुक्त कंठ से प्रशंसा किया गया। इस अवसर पर जानकी चौधरी, प्राचार्य श्रीमती सुरंजना रावत, प्राचार्य सनत पटेल, प्राचार्य अमरबेल केरकेट्टा, प्राचार्य पुसौर बाबूलाल नायक कोडातराई प्रधान पाठक बी आर सी शैलेंद्र मिश्रा, सीएसी राजकिशोर स्वर्णकार, बेनी उरांव, हरिशंकर साहू, चिता गुप्ता, शिशुपाल  चौहान, देवेन्द्र निषाद, सालिकराम नायक, पंकज विश्वाल, गुरूदेव गुप्ता, विनय मोहन पटेल, यशवन्त गुप्ता, जयशंकर सिदार, दामोदर सोनी सहित कार्यक्रम में बड़ी संख्या में शिक्षिकाए उपस्थित रहीं। कार्यक्रम का सफल संचालन पुष्पांजलि दासे, मुरलीधर गुप्ता द्वारा किया गया।

Post a Comment

0 Comments