नर्मदा नदी के बहाव से कटाव का शिकार हो रहा बेंट (टापू) के संरक्षण का कार्य होगा प्रारंभ | Narmada nadi ke bahav se katav ka shikar ho rha bet tapu

नर्मदा नदी के बहाव से कटाव का शिकार हो रहा बेंट (टापू) के संरक्षण का कार्य होगा प्रारंभ

नर्मदा नदी के बहाव से कटाव का शिकार हो रहा बेंट (टापू) के संरक्षण का कार्य होगा प्रारंभ

धरमपुरी (गौतम केवट) - धार जिले कि तहसील धरमपुरी में नर्मदा नदी के बहाव से कटाव का शिकार हो रहे बेंट (टापू) के संरक्षण को लेकर संभागायुक्त गुरुवार देर शाम यहां पहुंचे थे। उन्होंने टापू स्थित मंदिर में पहुंचकर अधिकारियों से चर्चा की। साथ ही टापू के संरक्षण के लिए सुरक्षा दीवार बनाने के निर्देश दिए। जिसके लिए एक करोड़ की राशि स्वीकृत करने के बात कही।

नर्मदा नदी के बहाव से कटाव का शिकार हो रहा बेंट (टापू) के संरक्षण का कार्य होगा प्रारंभ

गौरतलब है कि बेंट के संरक्षण को लेकर राज्यसभा सदस्य डा. सुमेरसिंह सोलंकी ने यहां का दौरा कर अधिकारियों से कार्य पुनः प्रारंभ करने की बात कही थी। संभागायुक्त के दौरे के बाद संरक्षण का कार्य शीघ्र प्रारंभ होगा। संभागायुक्त डा. पवन शर्मा गुरुवार शाम करीब सात बजे नर्मदा नदी के बीच बेंट (टापू) स्थित श्री बिल्वामृतेश्वर महादेव मंदिर पहुंचे। 

मंदिर में उन्होंने भोलनाथ के दर्शन किए व सायंकालीन आरती में शामिल हुए। इस दौरान उनके साथ आइजी राकेश सिंह, कलेक्टर डा. पंकज जैन, जिला पंचायत सीईओ केएस मीणा आदि मौजूद थे। संभागायुक्त ने भगवान भोलेनाथ की आरती पश्चात सरदार सरोवर परियोजना के वाटर लेवल आदि की जानकारी ली। इसके बाद मंदिर परिसर में ही अधिकारियों के साथ चर्चा की। इसमें पूरे टापू के संरक्षण के लिए सुरक्षा दीवार के निर्माण में आने वाली लागत को लेकर आरईएस विभाग के अधिकारियों से जानकारी ली।अधिकारियों ने पूरे टापू के संरक्षण में करीब 16 करोड़ की लागत का अनुमानित खर्च बताया। इसके अलावा विभिन्ना तकनीकी पहलुओं पर चर्चा की। अलग-अलग चरण में टापू के संरक्षण को लेकर कार्य करने की बात कही। संभागायुक्त डा. शर्मा ने कार्य प्रारंभ करने के निर्देश कलेक्टर को देते हुए एक करोड़ की राशि स्वीकृत करने के बात कही।

बेंट संस्थान के संबंध में ली जानकारी

गौरतलब है कि श्री बिल्वामृतेश्वर महादेव मंदिर रेवा गर्भ संस्थान बेंट संभागायुक्त के अधीन है। मंदिर संस्थान के नाम से कृषि भूमि पर कुछ लोगों द्वारा कब्जा किया हुआ है। वहीं कुछ भूमियों का प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है। जिसको लेकर उन्होनें संस्थान के स्थानीय प्रशासक तहसीलदार संजय शर्मा से जानकारी ली व न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण को लेकर निर्देश जारी किए। साथ ही मंदिर की आय व खाते में जमा राशि सहित अन्य जानकारी ली। बैठक पश्चात श्री बिल्वामृतेश्वर महादेव भक्त मंडल की ओर से संभागायुक्त को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया।

*आपके जिले व ग्राम में दैनिक आजतक 24 की एजेंसी के लिए सम्पर्क करे +91 91792 42770, 7222980687

Post a Comment

0 Comments