जननायक टंट्या मामा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले भूपेंद्र राठौर के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग | Jannayak tatya mama ki khilaf abhdra tippani karne wale bhupendr rathor ke khilaf

जननायक टंट्या मामा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले भूपेंद्र राठौर के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग

*आदिवासी समाजजनो ने सौपा ज्ञापन*

जननायक टंट्या मामा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले भूपेंद्र राठौर के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग

आलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - आदिवासी समाज के महानायक एवं क्रांतिवीर टंट्या मामा भील के खिलाफ फेसबुक पोस्ट के माध्यम से आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले भूपेंद्रसिंह राठौर निवासी नाहरवाड़ी तहसील पंधाना, जिला खण्डवा के खिलाफ आदिवासी समाजजनो ने गिरफ्तार कर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग को लेकर थाना प्रभारी के नाम एक ज्ञापन दिलीपसिंह चंदेल को सौपा है। ज्ञापन की प्रतिलिपि पुलिस अधीक्षक सहित पुलिस कमिश्नर को भी प्रषित की गई है। समाजजनो ने भूपेंद्रसिंह राठौर पर कार्यवाही ना होने पर प्रदेषभर में आंदोलन करने की चेतावनी दी है। इस अवसर पर बडी संख्या मे आदिवासी समाजजन मोजुद थे। 

*क्या है ज्ञापन मे*

सोपे गए ज्ञापन मे आदिवासी समाजजनो ने बताया कि जहां एक तरफ भारत सरकार आजादी का अमृत महोत्सव मनाकर आदिवासी क्रांतिकारियो की जयंती ओर गौरव दिवस मना रही है। वही दूसरी तरफ कुछ छोटी मानसिकता वाले देशद्रोही सोच लिए जातिवाद, द्वेष भावनाओ को लेकर जीने वाले लोग इन कार्यक्रम का विरोध कर रहे है। वेसे ही एक भूपेंद्रसिंह राठौर नामक व्यक्ति निवासी नाहरवाड़ी तहसील पंधाना, जिला खण्डवा जो जननायक टंट्या मामा भील की जन्मस्थली है। राठौर ने दो फेसबुक पोस्ट के माध्यम से आपत्तिजनक टिप्पणी कर क्रांतिकारी टंट्या भील का अपमान किया है। पोस्ट में उसने जननायक को चोर ओर लुटेरा कहा है, यही नही दूसरी पोस्ट में सरकार के कार्यक्रम ओर पर्यटन विकास, मंदिर बनाने जैसी घोषणा पर भी सवाल करते हुए घोर कलियुग आने जैसे शब्दों का प्रयोग कर न सिर्फ सरकार के आयोजन ओर क्रांतिकारियों के खिलाफ कहा है बल्कि देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले निमाड़ मालवा क्षेत्र में अंग्रेजी हुकूमत की नाक में दम कर देने वाले शहीद टंट्या भील का अपमान किया है। ज्ञात है कि गत दिनों 04 दिसम्बर को देश के जननायक महान स्वतंत्रता सेनानी टंट्या भील की शहादत पर पूरे मप्र में कलश यात्रा निकालकर मप्र सरकार द्वारा उन्हें सम्मानित कर उनके गृह गाँव से मिट्टी को प्रदेशभर में यात्रा के माध्यम से घुमाया ओर उनके नाम पर उनके शहादत स्थल पातालपानी में भव्य मंदिर के साथ साथ पर्यटन स्थल डेवलपमेंट करने की घोषणा कर मूर्तिस्थापना की है। यही नही उसके पश्चात इस घटिया सोच के देशद्रोही विचारधारा वाले व्यक्ति ने टंट्या भील को चोर लुटेरा कहा और भगवान का दर्जा देने पर घोर कलयुग आने की बात कही है। देश के शहीद का इस तरह से सार्वजनिक अपमान करना न सिर्फ प्रदेश, देश की सरकार की गत दिनों कलश यात्रा, इंदौर, भोपाल में आयोजित भव्य आजादी के अमृत महोत्सव, जनजाति गौरव दिवस के विरुद्ध है, बल्कि सम्पूर्ण आदिवासी ओर देश के गौरवशाली इतिहास के खिलाफ षड्यंत्र, ओर सोच को दर्शाता है। जिससे सम्पूर्ण आदिवासी समाजजनो मे आक्रोश है। ज्ञात रहे कि जननायक टंट्या भील तत्कालीन ब्रिटिश सरकार, साहूकार, जमीदारों द्वारा आम जनता से लूटी गई जमीन, जेवर, अनाज ओर रुपया छीनकर वापस उसी आमजनता को दिया करते थे। साथ ही जरूरतमंद भूखे प्यासे गरीब, असहाय लोगो की मदद करते थे। 18वी सदी के इस महानायक ने अंग्रेजी हुकूमत को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था। सम्पूर्ण मालवा-निमाड़ क्षेत्र में नई क्रांति का आगाज करने वाले ऐसे कशेर योद्धा को जिसे स्वयं न्यूयार्क टाईम्स, अंग्रेजी हुकूमत ने इंडियन रॉबिनहुड की उपाधि से नवाजा था के खिलाफ इस तरह अभद्र भाषा, विचार रखने वाले देशद्रोही का फन कुचलना अनिवार्य है। ताकि देश मे सामाजिक सौहार्द बना रहे ओर देश के क्रांतिकारी का सम्मान बना रहे। अतः उक्त आरोपी पर तत्काल देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही गिरफ्तार किया जाए। ऐसा नही होने पर आदिवासी समाज द्वारा पूरे प्रदेषभर में आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान आदिवासी समाज के कार्यकर्ता नितेश अलावा, सुरेश सेमलिया, संजय भूरिया, जयस मीडिया प्रभारी रितु लोहारिया, संदीप वास्कले, संदीप डावर, सन्नी बारेला, राहुल, शशांक आदी मौजूद थे।

*आपके जिले व ग्राम में दैनिक आजतक 24 की एजेंसी के लिए सम्पर्क करे +91 91792 42770, 7222980687*

Post a Comment

0 Comments