उद्यमी बालाघाट जिले में अधिक से अधिक निवेश करें, हम सुविधायें देंगें-मुख्यमंत्री श्री चौहान | Uddhami balaghat jile main adhik se adhik nivesh kare

उद्यमी बालाघाट जिले में अधिक से अधिक निवेश करें, हम सुविधायें देंगें-मुख्यमंत्री श्री चौहान

उद्यमी बालाघाट जिले में अधिक से अधिक निवेश करें, हम सुविधायें देंगें-मुख्यमंत्री श्री चौहान

बालाघाट (देवेंद्र खरे) - उद्यमियों ने लगभग 4500 करोड़ रुपये के निवेश की दी सहमति प्रकृति ने बालाघाट जिले को जल, खनिज एवं वन संपदा प्रचुर मात्रा में उपलब्ध कराया है। बालाघाट जिले में प्रदेश का सर्वाधिक धान पैदा होता है। इस जिले में उपलब्ध संसाधनों पर आधारित उद्योग लगाने एवं उनमें निवेश की अच्छी संभावना है। इससे यह जिला तेजी से विकास की ओर अग्रसर होगा। उद्यमी यहां पर आयें और उद्योग लगाने के लिए अधिक से अधिक राशि का निवेश करें। उद्यमियों को हम सारी सुविधायें उपलब्ध करायेंगें। यह बातें मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज 18 अगस्त को बालाघाट में आयोजित इन्वेस्टसर्स मीट में उपस्थित उद्यमियों को संबोधित करते हुए कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान इस इन्वेटर्स मीट में वर्चुअली शामिल हुए थे। 

उद्यमी बालाघाट जिले में अधिक से अधिक निवेश करें, हम सुविधायें देंगें-मुख्यमंत्री श्री चौहान

बालाघाट जिले में नये उद्योग लगाने एवं निवेश को प्रोत्साहित करने के मकसद से आज 18 अगस्त को शुभारंभ लान नवेगांव-बालाघाट में आयोजित इन्वेस्टर्स मीट में मध्यप्रदेश शासन के औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री श्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव एवं आयुष मंत्री श्री रामकिशोर “नानो” कावरे, मध्यप्रदेश शासन के पूर्व कृषि मंत्री एवं वर्तमान विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन, सांसद डॉ ढालसिंह बिसेन, पूर्व विधायक श्री रमेश भटेरे, कलेक्टर श्री दीपक आर्य, अपर कलेक्टर श्री विवेक कुमार, मायल के सीएमडी श्री मुकुंद चौधरी, अन्य प्रशासनिक अधिकारी, गणमान्य अतिथि एवं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, उड़ीसा एवं पंश्चिम बंगाल के उद्यमी उपस्थित थे। इस इन्वेस्टर्स मीट में उद्यमियों से जिले में निवेश को लेकर एवं उन्हें शासन से मिलने वाली सुविधाओं पर विस्तार से चर्चा की गई। इस अवसर पर कृषि विभाग, कृषि महाविद्यालय एवं कृषि विज्ञान केन्द्र बड़गांव द्वारा धान की प्रदर्शनी लगाई गई थी। इसके अलावा मत्स्योद्योग, मैंगनीज आधारित उत्पादों, वन उत्पाद एवं हाथकरघा वस्त्रों की प्रदर्शनी लगाई गई थी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वर्चुअली इन्वेस्टर्स मीट में उपस्थित उद्यमियों को संबोधित करते हुए कहा कि बालाघाट जिले में प्रचुर मात्रा में बांस पाया जाता है। अब तो नीजी भूमि पर भी बांस की खेती की जा रही है। यहां पर बांस से जुड़े उद्यम भी लगाये जा सकते है। बालाघाट जिले में सुगंधित एवं अच्छी गुणवत्ता का चावल भी होता है। इस जिले में राईस मिल उद्योग के लिए भी अच्छी संभावनायें है। यह जिला अब बाघ (टाईगर) के नाम से भी अपनी अलग पहचान बना रहा है। इस जिले में पर्यटन के क्षेत्र में उद्योग लगाये जा सकते है। हमारी सरकार की मंशा है कि बालाघाट जिला निरंतर आगे बढ़े और तरक्की करें। इसके लिए हमारी सरकार बालाघाट जिले में उद्योग लगाने एवं निवेश करने के इच्छुक उद्यमियों को हर संभव मदद करेगी। आज बालाघाट जिले में इन्वेस्टर्स मीट का आयोजन कर अच्छी पहल की गई है। यह इन्वेस्टर्स मीट बालाघाट जिले के विकास के मामले में मील का पत्थर साबित होगी। 

मध्यप्रदेश शासन के औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री श्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने इस अवसर पर उद्यमियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार की उद्योगों को प्रोत्साहन देने की नीति के कारण मध्यप्रदेश बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर आकर अब विकसित राज्य में आ गया है। प्रदेश सरकार उद्यमियों को निवेश के लिए प्रोत्साहित करने नई नीतियां बना रही है। बालाघाट जिले में उद्यमियों ने बांस, एथेनाल, मैंगनीज एवं राईस मिल उद्योग लगाने के लिए प्रस्ताव दिये है। जिले में इन उद्योगों के लगने से यहां के युवाओं को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि बालाघाट में आयोजित इस इन्वेस्टर्स मीट का प्रदेश एवं देश के उद्यमियों को संदेश है कि, बालाघाट आईये और यहां पर निवेश करिये। उन्होंने बालाघाट जिले में एथेनाल उद्योग के लिए मिले प्रस्तावों पर प्रसन्नता व्यक्त्‍ करते हुए कहा कि भोपाल में भी शीघ्र ही ऐथेनाल उद्योग के लिए प्रदेश स्तरीय इन्वेस्टर्स मीट का आयोजन किया जायेगा। 

  मध्यप्रदेश शासन के आयुष मंत्री श्री रामकिशोर “नानो” कावरे ने इस अवसर पर उद्यमियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज का दिन बालाघाट जिले के लिए गौरव का दिन है। प्रदेश शासन की नीतियों के तहत उद्यमियों को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। इस जिले में मैंगनीज प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। मैगनीज आधारित उद्योग लगने से यहां के युवाओं को रोजगार मिलेगा। जिले में एक उत्पाद योजना के अंतर्गत चिन्नौर की खेती को प्रोत्साहित किया जा रहा है। 

सांसद डॉ ढांलसिंह बिसेन ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि बालाघाट जिले में अधोसंरचना का तेजी से विकास हो रहा है। इससे उद्यमियों को बहुत मदद मिलेगी। बालाघाट एवं तिरोड़ी में रैक पाईंट बन गया है। इससे स्थानीय संसाधनों पर आधारित उद्योगों के लिए लाभ होगा। विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि जिले में उपलब्ध खनिज, वन एवं राईस पर आधारित उद्योगों के लगने से इस जिले के विकास को गति मिलेगी और यह जिला तेजी से विकास करेगा।

फैरो एलाय का हब बनेगा बालाघाट जिला

बालाघाट जिला अब फैरो एलाय का हब बनने की ओर अग्रसर हो रहा है। इन्वेस्टर्स मीट में लगभग 2200 करोड़ रुपये का निवेश फैरो एलाय उद्यम में करने के लिए उद्यमियों ने प्रस्ताव दिया है। इन उद्योगों के प्रारंभ होने पर बालाघाट जिला फैरो एलाय का सबसे बड़ा उत्पादक बन जायेगा। फैरो एलाय के लिए श्री अमर अग्रवाल ने 133 करोड़ रुपये, रायपुर के श्री निकेत खंडेलवाल ने 155 करोड़, रायपुर के उमंग जुनेजा ने 150 करोड़ रुपये, रायगढ़ के श्री संदी डे ने 225 करोड़ रुपये, वर्धमान पंश्चिम बंगाल के श्री तेजपाल सिंह ने 112 करोड़ रुपये, श्री विपिन अग्रवाल ने 110 करोड़ रुपये, श्री संदीप गोयनका ने  112 करोड़ रुपये, श्री अजय खंडेलवाल ने 190 करोड़ रुपये, श्री हर्ष त्रिवेदी ने 269 करोड़ रुपये, श्री तपन खंडेलवाल ने 111 करोड़ रुपये, श्री शंकर केवलानी ने 100 करोड़ रुपये, श्री पार्थ सिंघल ने 126 करोड़ रुपये, श्री विनय कुमार राधेश्याम बाटड़ ने 105 करोड़ रुपये का उद्यम लगाने के लिए सहमति दी है। इस मीट में एथेनाल बायोफ्यूल के लिए श्री सी एस तिवारी ने 800 करोड़ रुपये, श्री अतुल वैद्य ने 212 करोड़ रुपये, आयुषी जैन ने 800 करोड़ रुपये, सुगर मिल के लिए श्री सम्राट सिंह सरस्वार ने  125 करोड़ रुपये, केमिकल उत्पादन के लिए श्री अंकित अग्रवाल ने 200 करोड़ रुपये, स्टील एवं उसके उत्पाद के लिए श्री बालकृष्णा सिंह ने 120 करोड़ रुपये का उद्यम लगाने की सहमति दी है। इसके अलावा 32 अन्य उद्यमियों ने 280 करोड़ रुपये के लघु उद्यम लगाने के प्रस्ताव दिये है। 

मायल के सीएमडी श्री मुकुंद चौधरी ने फैरो एलाय उद्यम के लिए जिले में उपलब्ध मैगनीज उद्यमियों को सुगमता से प्रदाय किया जा सके इसके लिए हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया। बालाघाट जिले के ग्राम बोड़ुन्दाकला में 305 एकड़ उद्योगों के लिए चिन्हित की गई है और शासन द्वारा यहां पर 52 एकड़ जमीन 220 केव्ही का विद्युत उपकेन्द्र बनाने के लिए आबंटित कर दी है। यहां पर विद्युत उपकेन्द्र का काम शीघ्र प्रारंभ होने जा रहा है।

Post a Comment

0 Comments