धैर्य रखिए, हम जीत रहे हैं, कोरोना हार रहा है | Dherya rakhiye hum jit rhe hai corona har rha hai

धैर्य रखिए, हम जीत रहे हैं, कोरोना हार रहा है

स्वास्थ्य विभाग के अथक परिश्रम और प्रशासन की सख्ती के चलते कोरोना चेन तोड़ ने में तेजी से मिल रही है कामयाबी।

एक माह से भी ज्यादा समय से घरों में कैद है नागरिक, जागरूकता के साथ कोरोना प्रोटोकॉल का कर रहे हैं पालन।

धैर्य रखिए, हम जीत रहे हैं, कोरोना हार रहा है

मनावर (पवन प्रजापत) - कोरोना की दूसरी लहर के चलते विगत 1 माह से अधिक समय से नागरिक अपने अपने घरों में कैद होकर पूरी तरह से कॉरॉना प्रोटोकॉल नियमों का पालन कर रहे हैं। वही चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों की दिन-रात की मेहनत एवं राजस्व, पुलिस, नगर पालिका ,शिक्षा व पंचायत विभाग के अथक परिश्रम और सख्ती से लाकडाउन का पालन कराने के चलते सामूहिक रूप से प्रशासन को कोरोना की चेन तोड़ने के साथ-साथ काफी हद तक कोरोना संक्रमण पर काबू पाया जा रहा है।

इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जहां एक और 21 अप्रैल को अधिकतम 77 पोजिटिव कैसे दर्ज किए गए थे, वह घटकर 12 मई को मात्र चार पॉजिटिव केस दर्ज हुए।

जहां तक मनावर की कुल कोरोना रिपोर्ट की बात है बीएमओ जी एस चौहान के अनुसार 12 मई तक कुल 3154 कोरोना जांचें की जा चुकी है। जिनमें से कुल 810 रिपोर्ट पोजिटिव आईं है। कोविड केयर सेंटर में मात्र 20 भर्ती मरीजों का इलाज चल रहा है।  जिले के बाहर भर्ती पॉजिटिव मरीजों की कुल संख्या 13 है। जबकि अब तक 18 लोग कोरोना थे जान गवा बैठे हैं। वहीं 228 लोग घर पर ही अपना इलाज करवा रहे हैं। अब तक कुल 755 लोगो ने अपना घर पर ही रहकर इलाज़ किया है। यदि पूरे विकासखंड की बात कि जाए तो अब तक कुल 243 मरीज पॉजिटिव  हैं।।

मनावर में गंभीर कोरोना मरीजों के लिए 50 बिस्तर वाला अस्पताल तैयार किया गया है। विधायक डॉ हीरालाल अलावा सहित कई दानदाताओं की मदद से यहां पर बेहतर सुविधाएं जुटाई गई है। वर्तमान में यहां पर 8 कोरोना पॉजिटिव और 12 कोरोना संदिग्ध  कुल 20 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। यहां अब तक 58 पोजिटिव और 85 कोरोना संदिग्ध कुल 143 मरीजों का इलाज किया जा चुका है।जिसमें से 69 मरीज पूर्णता स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं जबकि कुल 26 मरीजों को रेफर किया गया है। वही कुल 7 मरीजों का ऑक्सीजन बेड और 4 मरीजों का ऑक्सीजन कंसंट्रेटर में इलाज किया गया।

कोरॉना टिकाकरण की जहां तक बात है। 12 मई तक कुल 14011 लोगों को टीके की पहली डोज और 4260 लोग दूसरी खुराक ले चुके हैं। इस प्रकार तब तक क्षेत्रों में 18271 लोगों को टीका लग चुका है।

स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन क्षेत्र में तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने में किस प्रकार कामयाब हुआ है हम इन आंकड़ों से भलीभांति समझ सकते हैं।

14 अप्रैल को जहां 21 रिपोर्ट पॉजिटिव प्राप्त हुई थी वही 15 अप्रैल को 4, 16 को 2, 17 को 1, अट्ठारह को 42, 19 को 45 ,20 को 31 ,21 को 77, 22 को 44 ,23 को 67, 24 को 3 ,25 को 0 ,26 को 55, 27 को 15 ,28 को 9, 29 को 23, तथा 30 अप्रैल को 37, वहीं मई में 1 मई को 50, 2 मई को 6, 3 को 24 ,4 को 16 ,5 को 32, 6 को 25, 7 को 14 ,8 को 18, 9 को 10, 10 को 2 ,11 को 7 तथा 12 मई को मात्र चार पोजीटिव रिपोर्ट दर्ज की गई। कहने का तात्पर्य यह है कि एक समय जब अधिकतम संख्या 77 तक जा पहुंची थी 1 माह के लॉक डाउन के बाद अब वह मात्र 2  - 4पर आकर टिक गई है।

सामाजिक कार्यकर्ता विश्वदीप मिश्रा का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग प्रशासनिक अमले के अथक परिश्रम और नागरिकों की जागरुकता के चलते क्षेत्र में तेजी से फैलते संक्रमण को काफी हद तक रोका जा सका है। सभी से विनम्र अपील है कि सभी नागरिक गण कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करते हुए घर पर ही इसी प्रकार रहकर अपने और अपने परिवार को सुरक्षित रखें। आप घर के अंदर है तभी कोरोना बाहर है। निसंदेह हम जीत रहे हैं और कोरोना हार रहा है। बस थोड़ा धैर्य और रखें।

Post a Comment

0 Comments