महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के परिवार मे 27 दिनो में पांचवी मौत | Mahasabha ke rashtriya adhyaksh ke parivar main 27 dino main panchvi mout

महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के परिवार मे 27 दिनो में पांचवी मौत

महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के परिवार मे 27 दिनो में पांचवी मौत

रतलाम (यूसुफ अली बोहरा) - अखिल भारतीय राठौर क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष  रतनसिंह राठौर के परिवार में लगातार मौत का क्रम जारी है और प्रकृति की नियति के आगे  हम सब असहाय है कल्पना कीजिए कि  यदि एक ही परिवार में  27 दिनों के अंतराल  के भीतर  5 व्यक्ति दुनिया को अलविदा कहे  यह कितनी बड़ी पीड़ादायक  एवं  ह्रदय विदारक  बात है । गुरुवार 6 मई को अखिल भारतीय  राठौर क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष  रतन सिंह राठौर (सेवानिवृत्त डिप्टी डायरेक्टर पुलिस   प्रॉसीक्यूशन) के  बड़े साले  जय कुमार राठौर के सुपुत्र  वरिष्ठ कांग्रेसी नेता  अजय राठौर एवं जीतू सिंह राठौर के भतीजे जीतसिंह राठौर का इंदौर में आकस्मिक देहावसान हो गया । अखिल भारतीय राठौर क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय  उपाध्यक्ष  प्रकाश राठौर एवं राष्ट्रीय सह प्रवक्ता जगदीश राठौर पत्रकार  ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के बड़े भ्राता  स्वर्गीय भागीरथ  राठौर का 10 अप्रैल, उनके बड़े साले के जयेष्ठ पुत्र मोंटी राठौर का 18 अप्रैल, बड़े भ्राता बाबूलाल राठौर (बैंक वाले) की बडी पुत्र वधू (जितेंद्र राठौर की पत्नी) श्रीमती  प्रीति राठोर (शाजापुर) एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष के दामाद (सगी भतीजी  श्रीमती  बबली राठौर  के पति) प्रेम सोलंकी ( उज्जैन) का एक ही दिन 29 अप्रैल को निधन हो गया / इस प्रकार जीत सिंह राठौर की इंदौर में हुई मृत्यु पांचवी मौत है ।

   अखिल भारतीय राठौर क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री  देवी लाल  राठौर (शिवपुरी) उपाध्यक्ष आशाराम राठौर  (ललितपुर )राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष  चूलेश्वर सिंह राठौर (छत्तीसगढ़ ) राष्ट्रीय प्रचार मंत्री गोवर्धन लाल राठौर (उज्जैन) सर्वोच्च  समिति के सदस्य महेश  राठौर  (नई दिल्ली) राष्ट्रीय महासभा के समस्त पदाधिकारीगणों एवं कार्यकारिणी सदस्यों ने दिवंगत आत्माओं को श्रद्धा सुमन अर्पित  करते हुए परम पिता परमेश्वर से प्रार्थना की है कि  इस परिवार में लगातार मौत का सिलसिला रोके तथा शोक संतप्त परिवार को लगातार हो रहे वज्रपात को सहन करने की शक्ति प्रदान करें ।

Post a Comment

0 Comments