गृहस्थ जीवन में रहकर भावनात्मक रूप से साधु बने यही मोक्ष का मार्ग है | Grahsth jivan main rehkar bhavnatmat roop se sadhu bane yahi moksh ka marg hai

गृहस्थ जीवन में रहकर भावनात्मक रूप से साधु बने यही मोक्ष का मार्ग है

योग साधना से आत्मा का कल्याण होता है - आचार्य महाश्रमण

गृहस्थ जीवन में रहकर भावनात्मक रूप से साधु बने यही मोक्ष का मार्ग है

बुरहानपुर (अमर दिवाने) - जैन श्वेतांबर तेरापंथ के 11वे आचार्य श्री महाश्रमणजी ने शाहपुर के ज्ञानदीप स्कूल में अपनी ओजस्वी वाणी से उद्बोधन देते हुए बताया कि योग और भोग यह दोनों मनुष्य के जीवन में रहते हैं भोग बंधनकारक है प्रयोग से मुक्ति मिलती है। भोग पर अंकुश होना चाहिए योग के बहुत अंग हैं। जिसमें एक अष्टांग योग भी है। आचार्य हेमचंद जी ने कहा है कि मोक्ष का उपाय योग है और भोग पर योग का अंकुश होना चाहिए। साधना करना भी एक प्रकार का योग है, जो भौतिकता पर आध्यात्मिकता का अंकुश है। जीवन में योग का महत्व अधिक है। भोग आपको शारीरिक सुख दे सकता है। परंतु योग साधना से आत्मा का कल्याण किया जा सकता है। मानव जीवन में आत्मा के कल्याण के लिए योग साधना करना चाहिए। जो व्यक्ति आध्यात्मिक दृष्टिकोण वाला होता है। वह भीतरी सुख के लिए प्रयास करता है और वह सुख केवल साधना से ही प्राप्त होता है। जीवन में भावनात्मक रूप से साधु बने यही मोक्ष का असली मार्ग है।

गृहस्थ जीवन में रहकर भावनात्मक रूप से साधु बने यही मोक्ष का मार्ग है

सोमवार प्रातः 6 इच्छापुर से आचार्य श्री ने अपने शिष्टमंडल के साथ विहार आरंभ किया। आचार्य श्री यात्रा करते हुए प्रातः 9 शाहपुर के ज्ञानदीप स्कूल पहुंचे। आचार्य श्री का मंगल आशीर्वाद लेने हेतु बुरहानपुर के विधायक ठाकुर सुरेंद्र सिंह ने भी आचार्य श्री के साथ इच्छापुर से शाहपुर तक पदयात्रा कर सेवा लाभ लिया। शाहपुर आगमन पर ज्ञानदीप स्कूल के संचालक विजय राठौर ने सपत्नीनिक आचार्य श्री महाश्रमण की अगवानी कर आशीर्वाद लिया।

दिगंबर जैन समाज ने की आचार्य श्री की अगवानी

अभी तक केवल सुनते आए थे कि हम जैनी अपना धर्म जैन हम एक पंथ के अनुयाई परंतु आज यह बात चरितार्थ होते हुए शाहपुर में देखी गई। जहां तेरापंथ श्वेतांबर जैन समाज के आचार्य श्री महाश्रमण की अगवानी करने शाहपुर दिगंबर जैन समाज उमड़ पड़ा। आचार्य महाश्रमण के शाहपुर मंगल प्रवेश करने पर शाहपुर दिगंबर जैन समाजजनों द्वारा स्थानीय बस स्टैंड क्षेत्र पर पहुंचकर आचार्य श्री की अगवानी कर आशीर्वाद प्राप्त कर पुण्य लाभ अर्जित किया। इस मौके पर जैन समाज के अध्यक्ष धर्मेंद्र जैन, संदीप कुमार जैन, रविंद्र कुमार जैन, संजय जैन, प्रदीप धनोदे, राजेश्वर जैन, संतोष कुमार जैन, निलेश कुमार जैन, भाजपा मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र तिवारी, मनोज चौधरी आदि मौजूद थे।

मंगलवार को सेवा सदन कॉलेज में पहुंचेंगे आचार्य श्री

आचार्य महाश्रमण पदयात्रा करते हुए अपने शिष्टमंडल के साथ शाहपुर से प्रातः 6 विहार करते हुए करीब 9 बजे सेवा सदन कॉलेज पहुंचेंगे। जहां उनकी अगवानी तेरापंथ युवक परिषद तेरापंथ जैन समाज एवं महिला मंडल के साथ-साथ समग्र जैन समाज के जनप्रतिनिधि एवं सेवासदन शिक्षा समिति के पदाधिकारी कर आशीर्वाद लेंगे।

Post a Comment

0 Comments