सात दिवसीय शिव पुराण कथा का हुआ समापन | Sat divasiy shiv puran katha ka hua samapan

सात दिवसीय शिव पुराण कथा का हुआ समापन

यजमानों द्वारा लगाया गया छप्पन भोग

सात दिवसीय शिव पुराण कथा का हुआ समापन

खलघाट/धार (मुकेश जाधव) - पतित पावनी माँ नर्मदा की नगरी में पौराणिक दुर्गा मंदिर स्थित परिसर में समस्त ग्राम वासियो द्वारा संगीतमय शिव पुराण कथा का आयोजन किया गया जिसमें कथा वाचक पंडित आचार्य दीपक डोंगरे बमनाला वालो के मुखार बिंद से संगीतमय भगवान शिव की एक से एक कथा के भजनों के माध्यम से वर्णन सुनाए पांडाल में बैठे श्रद्धालु भजनों पर झूमते नजर आए कथा में दिनों दिन दूर दराज से श्रद्धालु कथा श्रवण करने के लिए कथा पांडाल पहुंचे। कथा का समय दोपहर 12 से 4 था। वही कथा पश्चात रात्रि को पंडाल में भजन मंडलियों के द्वारा भजन भी एक से एक हुए। तीन मार्च को संगीतमय महापुराण का समापन के पूर्व श्री डोंगरे जी ने बताया की आज कथा का पूर्ण आहुति दिवस था और आज के दिन भगवान शिव के पंचाक्षर मंत्रो का ओर भगवान शिव ने जो देह के बारे में जानकारी दी है वह सब जानकारी कथा के माध्यम से सुनाई गई है। वही उन्होंने कहा कि आत्मा का कल्याण ही शरीर के माध्यम से हो सकता है अगर इस शरीर को शुद्ध करे तो आत्मा का कल्याण हो सकता है और आत्मा परमात्मा में विलीन हो सकती है।   ऐसे एक से एक वर्णनों से पांडाल में बैठे श्रद्धालुओं की आंखे भर आईं थी साथ ही साथ कथा के महाआरती कर भगवान शिव को महाभोग लगाया गया। वही पांडाल में बैठे सेकड़ो श्रोताओं को आयोजनकर्ताओ महाप्रसादी वितरित की गई।

Post a Comment

0 Comments