पुराने जर्जर स्नानागार के अवैध अतिक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री, कलेक्टर ओर नपा सीएमओ को शिकायती पत्र लिखा | Purane jarjar snanagar ke awaidh atikraman ko lekar cm collector or np cmo ko

पुराने जर्जर स्नानागार के अवैध अतिक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री, कलेक्टर ओर नपा सीएमओ को शिकायती पत्र लिखा

पुराने जर्जर स्नानागार के अवैध अतिक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री, कलेक्टर ओर नपा सीएमओ को शिकायती पत्र लिखा

आलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - स्थानीय श्री पंचेश्वर महादेव मंदिर परिसर में बने पुराने जर्जर स्नानागार में हो रहे अवैध अतिक्रमण को तोडे जाने के लिए जिला कांग्रेस अध्यक्ष महेश पटेल द्वारा मुख्य नगरपालिका अधिकारी, कलेक्टर अलीराजपुर एवं मुख्यमंत्री को पत्र के माध्यम से शिकायत की गई। मंदिर प्रांगण में असामाजिक तत्वों के द्वारा अवैध कब्जा कर जल्द हटाये जाने की मांग की गई। पटेल ने मुख्य नगरपालिका अधिकारी को पत्र देते हुए कहा कि उक्त अवैध अतिक्रमण को जल्द हटावे ताकि मंदिर परिसर में धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन व्यवस्थित तरीके से किया जावे। कल से इस प्रांगण में रामकथा प्रारंभ होने जा रही है, जिसमें आप स्वयं आकर देखना कि उक्त अवैध परिसर के कारण एसे आयोजन सुव्यस्थित रूप से नही हो पाते है। यह अतिक्रमण जल्द नही हटाया गया तो नगर की धार्मिक जनता के साथ व्यापक विरोध प्रदर्शन किया जावेगा। इस दौरान पटेल के साथ जिला कांग्रेस के मंदिर समिति के सदस्य, कार्यवाहक अध्यक्ष ओमप्रकाश राठौर, राजेन्द्र टवली, राजेन्द्र राठौर, चितल पंवार सोनु वर्मा, तरूण मंडलोई, एवं अन्य आमजन उपस्थित थे। 

*नगर हित को लेकर जीर्णोद्धार किया जाए*

श्री पटेल ने पत्र में बताया कि अलीराजपुर नगर की जनता की धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुए नगर का अति प्राचीन एवं प्रसिद्ध मंदिर श्री पंचेश्वर मंदिर प्रांगण में मंदिर समिति एवं आमजन के सहयोग से मंदिर परिसर का जीर्णोद्धार किया जाकर इस परिसर की सुंदरता को बडावा दिया गया है। इस मंदिर में श्रद्धालुओं के दर्शन के साथ अन्य धार्मिक कार्यक्रम, कथा, भोजन भंण्डारा इत्यादि कार्य किये जाते है साथ ही यह मंदिर नर्मदा परिक्रमा यात्रियों एवं अन्य साधु संतो के लघु विश्राम का भी स्थल है।

यह कि उक्त परिसर के मध्य में पुराना जर्जर स्नानागार है जिसका उपयोग कई वर्षो से नही किया जा रहा है। इस स्नानागार को तोडे जाने की मांग नगर की धर्मप्रेमी जनता द्वारा कई दिनों से की जा रही है। इस स्नानागार को तोडने से उक्त स्थान पर भागवत कथा, राम कथा, भजन कीर्तन जैसे अन्य धार्मिक कार्यक्रम सुचारू तथा व्यवस्थित रूप से किये जाना है। वर्तमान में परिसर में नवीन बडा स्वच्छ स्नानागार-सार्वजनिक शौचालय उचित स्थान पर निर्मित किया जा चुका है ।जिसका उपयोग धार्मिक यात्रियों द्वारा किया जा रहा है। परिसर के मध्य में स्थित पुराने स्नानागार पर किसी व्यक्ति विशेष द्वारा अवैध कब्जा किया गया है, एवं अवैध कब्जाधारी व्यक्ति द्वारा अपने राजनैतिक संबंधो के चलते उक्त स्नानागार को हटाने नही दिया जा रहा है।

उक्त जर्जर स्नानागार को हटाने के लिए मंदिर समिति एवं नगर के धार्मिक लोगो द्वारा कई बार मुख्य नगरपालिका अधिकारी को पूर्व में भी शिकायत की गई किंतु आवेदन पर किसी भी प्रकार की कार्यवाही नही की गई है। श्रीमान से निवेदन है कि उक्त जर्जर स्नानागार को जल्द तुडवाये जाने का कष्ट करें जिससे मंदिर परिसर में आगामी होने वाले धार्मिक कार्यक्रम सुचारू रूप से हो सके ।

Post a Comment

0 Comments