महाविद्यालय प्राचार्य और ठेकेदार के बीच हुई तीखी नोकझोंक, ठेकेदार ने प्रचार पर लगाए लेन-देन के गंभीर आरोप | Mahavidhyalay prachar or thekedar ke bich hui tikhi nokjhok

महाविद्यालय प्राचार्य और ठेकेदार के बीच हुई तीखी नोकझोंक, ठेकेदार ने प्रचार पर लगाए लेन-देन के गंभीर आरोप

महाविद्यालय परिसर में 4 वर्ष पूर्व तूफान से उखड़े पेड़ की लकड़ी काटने को लेकर विवाद का मामला

महाविद्यालय प्राचार्य और ठेकेदार के बीच हुई तीखी नोकझोंक, ठेकेदार ने प्रचार पर लगाए लेन-देन के गंभीर आरोप

जुन्नारदेव (मनेश साहू) - नगर के शासकीय महाविद्यालय जुन्नारदेव में महाविद्यालय प्राचार्य लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं बीते दिनों लोकसभा प्रत्याशी नत्थन शाह कवरेती द्वारा प्राचार्य के संबंध में उच्च शिक्षा मंत्री को शिकायती पत्र प्रेषित किया गया था वहीं अब वर्तमान में शासकीय महाविद्यालय में वनस्पति शास्त्र प्रयोगशाला का निर्माण कर रहे ठेकेदार के साथ प्राचार्य की तीखी नोकझोंक ने एक बार फिर महाविद्यालय प्राचार्य को सुर्खियों में ला दिया है निर्माण कार्य कर रहे ठेकेदार द्वारा प्राचार्य से तीखी नोकझोंक के दौरान उन पर प्रतिमाह राशि की मांग करने के आरोप लगाए गए हैं इस दौरान महाविद्यालय के बाहर हुए इस घटनाक्रम के दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के विद्यार्थियों द्वारा भी यह पूरा वाक्य देखा और सुना गया इसके बाद सोशल मीडिया पर जमकर यह खबर उड़ी और नगर में हर किसी के मुंह पर महाविद्यालय का यह घटनाक्रम ही रहा।

महाविद्यालय प्राचार्य और ठेकेदार के बीच हुई तीखी नोकझोंक, ठेकेदार ने प्रचार पर लगाए लेन-देन के गंभीर आरोप

मिली जानकारी अनुसार शासकीय महाविद्यालय जुन्नारदेव के प्रभारी प्राचार्य डॉ एके शर्मा द्वारा महाविद्यालय परिसर में लगभग 4 वर्ष पूर्व तूफान में उखड़ गए पेड़ों को काटे जाने को लेकर चौकीदारों से मिली जानकारी अनुसार ठेकेदार के लेबरों द्वारा पेड़ काटने की बात पर ठेकेदार को कहा गया जिस पर ठेकेदार द्वारा कहा गया कि उनके लेबरों द्वारा पेड़ नहीं काटा गया यदि इसका कोई सबूत हो तो उपलब्ध कराएं देखते ही देखते बात बढ़ गई और ठेकेदार द्वारा प्राचार्य पर गंभीर आरोप लगाने शुरू कर दिए गए जिसमें ठेकेदार से प्रतिमाह राशि के लेन-देन की बात भी सामने आई वही महाविद्यालय में पूर्व से जारी निर्माण कार्य के लिए प्राचार्य द्वारा ठेकेदार को बिजली पानी देने की बात कहते हुए उन्हें भी सुविधाएं उपलब्ध कराने की बात कही गई।

*विद्यार्थी परिषद के विद्यार्थी रहे मौजूद*

सारे घटनाक्रम के दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्र नेता इस दौरान मौजूद रहे जिन्होंने प्राचार्य की कार्यप्रणाली पर ही सवालिया निशान खड़े कर दिए पूर्व छात्र संघ उपाध्यक्ष रोहित मालवीय ने कहा कि कोरोना काल के पूर्व से महाविद्यालय का वाटर फिल्टर खराब है जिसको आज तक प्राचार्य द्वारा ठीक नहीं कराया गया है और लगातार निर्माण कार्य और सामग्री क्रय का काम प्राचार्य द्वारा कराया जा रहा है छिंदवाड़ा के लिए लेवर महाविद्यालय में काम कर रहे हैं और छिंदवाड़ा से ही खरीदी कर के जुन्नारदेव के व्यापार व्यवसाय को प्रभावित किया जा रहा है उन्होंने ठेकेदार द्वारा लगाए गए आरोपों की निष्पक्ष जांच के साथ अन्य मामलों की जांच कराए जाने का आग्रह शासन प्रशासन और जनप्रतिनिधियों से किया है जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो सके 

*इनका कहना*

ठेकेदार द्वारा प्रथम श्रेणी अधिकारी को केबिन में घुसकर धमकी दी गई है ठेकेदार महाविद्यालय के साधनों का अनुचित उपयोग कर रहा था इस संबंध में मना करने पर निराधार आरोप प्रत्यारोप किए जा रहे हैं की गई समस्त शिकायतें झूठी है 

डॉ वाय के शर्मा 
प्राचार्य शासकीय महाविद्यालय जुन्नारदेव

लेबरों को पीने के पानी देने के संबंध में प्राचार्य से बात कही गई थी साथ ही अन्य सुविधाओं के लिए भी कहा गया था इसी पर से बातें हुई है 

लक्ष्मी विश्वकर्मा 
ठेकेदार निर्माण कंपनी

Post a Comment

0 Comments