पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के स्वास्थ्य लाभ हेतु जप - पाठ | Pujya sant shri asharamji bapu ke swasthya labh hetu jap

पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के स्वास्थ्य लाभ हेतु जप - पाठ

पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के स्वास्थ्य लाभ हेतु जप - पाठ

छिन्दवाड़ा (शुभम सहारे) – श्री योग वेदान्त सेवा समिति के साधक भाई - बहनों ने आज पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के शीघ्र स्वस्थ्य होने के निमित्त महामृत्युंज्य मंत्र का जप-पाठ एवं हवन किया । सैकड़ों की संख्या में लोग उपस्थित रहे। समिति के अध्यक्ष मदन मोहन परसाई ने बताया कि , बीति रात को जैसे ही जोधपुर से समाचार प्राप्त हुआ कि पूज्य बापू जी को हृदय रोग की समस्या एवं अन्य बिमारियों के कारण जेल प्रशासन द्वारा स्थानीय मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया ,पूज्य बापूजी फिल्हाल मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं ; तो सभी साधकों को जब पता चला सोशल मिडिया एवं मोबाइल पर परस्पर एक - दूसरे से सम्पर्क कर खजरी स्थित आश्रम में 12 बजे उपस्थित होकर सभी ने मिलकर महामृत्युंज्य मंत्र का जप पाठ किया । सैकड़ों साधकों के बीच चर्चा आम रही , कि पूज्य बापूजी के खिलाफ कोई सबूत नहीं है फिर भी एक राजनैतिक षड़यंत्र के तहत उन्हें जेल में रखा जा गया है । माननीय सुप्रीम कोर्ट ने आदेशित किया था कि 70 साल से अधिक उम्र वाले देश की जेलों में बंद बंदियों को शीघ्र रिहा किया जाये या पैरोल या जमानत दिया जाये। पर आज तक इस आदेश को कई राज्य सरकार एवं निचली अदालतों ने गंभीरता से नहीं लिया । पूज्य बापू जी की उम्र 86 वर्ष है और वे गंभीर बिमारी से पीड़ित है । इनके साथ जानबुझकर न्यायपालिका द्वारा सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। न्यापालिका और सरकार को चाहिए की हिन्दूओं तथा साधकों को लाचार एवं तुच्छ न समझें । देश में दंगे करने वाले, अराजकता फैलाने वाले, देशद्रोही गतिविधियों में संलग्न लोगों के साथ न्यायपालिका लचीला व्यवहार करती है। वहीं संतों के साथ भेदभाव किया जाता है। माननीय सुप्रीम कोर्ट , केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार को इस विषय पर गंभीरता से विचार करना चाहिए । क्योंकि संत हमारी संस्कृति की पहचान हैं । कार्यक्रम में साध्वी रेखा बहन , साध्वी प्रतिमा बहन , खजरी आश्रम के संचालक जयराम भाई , गुरूकुल संचालिका दर्शना खट्टर , समिति के अध्यक्ष मदन मोहन परसाई , युवा सेवा संघ के अध्यक्ष दीपक दोईफोडे , पी.आर.शेरके एम.आर. पराड़कर , सुमन दोईफोडे , डॉ . मीरा पराड़कर , छाया सूर्यवंशी , करूणेश पाल , शकुंतला कराड़े , आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे ।

Post a Comment

0 Comments