मंत्री कावरे एवं विधायक बिसेन ने लामता में उप तहसील कार्यालय भवन का किया लोकार्पण | Mantri kavre evam vidhayak bisen ne lamta main up tehsil karyalay bhavan ka kiya lokarpan

मंत्री कावरे एवं विधायक बिसेन ने लामता में उप तहसील कार्यालय भवन का किया लोकार्पण 

मंत्री कावरे एवं विधायक बिसेन ने लामता में उप तहसील कार्यालय भवन का किया लोकार्पण

बालाघाट (देवेंद्र खरे) - मध्यप्रदेश शासन के राज्य मंत्री आयुष (स्वतंत्र प्रभार) एवं जल संसाधन विभाग श्री रामकिशोर “नानो’’ कावरे, मध्यप्रदेश शासन के पूर्व कृषि मंत्री एवं वर्तमान विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन ने आज लामता में 85 लाख रुपये की लागत से बने नवीन उप तहसील कार्यालय भवन का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने 07 लाख 80 हजार रुपये की लागत से लामता में बनने वाले आंगनवाड़ी केन्द्र क्रमांक-04 के भवन के लिए भूमिपूजन किया और लामता में बने ओपन केप, सामुदायिक स्वच्छता परिसर एवं सीसी रोड़ व नाली का लोकार्पण भी किया।

इस अवसर पर कलेक्टर श्री दीपक आर्य, जनपद पंचायत बालाघाट के प्रधान श्री पूरनलाल ठाकरे, लांजी के पूर्व विधायक श्री रमेश भटेरे, ग्राम पंचायत लामता की प्रधान श्रीमती आरती जायसवाल, श्री जयसिंह नगपुरे, श्री वेदप्रकाश पटेल, श्रीमती लक्ष्मी भलावी, एसडीएम श्री के सी बोपचे, लोक निर्माण विभाग पीआईयू के संभागीय यंत्री श्री जी आर गायकवाड़, एसडीओ श्री पनिका, तहसीलदार श्री रामबाबू देवांगन, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री गायत्री कुमार सारथी, अन्य गणमान्य नागरिक, पत्रकार एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मंत्री श्री कावरे ने इस अवसर पर ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि लामता में उप तहसील तो बन गई थी, लेकिन उसके लिए कोई अच्छा कार्यालय भवन नहीं था। प्रदेश सरकार ने अब 85 लाख रुपये की लागत से लामता में उप तहसील के लिए आलीशान भवन बना दिया है। लामता एवं इस क्षेत्र के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है। लामता के इस नये उप तहसील भवन की गरिमा एवं मर्यादा को हमेशा बनाया रखा जायेगा। लामता के इस उप तहसील में नायब तहसीलदार का कोर्ट भी प्रारंभ हो गया है। यह प्रयास किया जायेगा कि लामता के इस उप तहसील में सप्ताह में दो दिन नोटरी एवं स्टांप वेंडर के बैठने की व्यवस्था हो। जिससे इस क्षेत्र की जनता को बालाघाट न जाना पड़े और उनके सारे काम लामता में ही हो सकें। 

मंत्री श्री कावरे ने कहा कि हमारी सरकार जनता को अच्छा शासन देना चाहती है। केन्द्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ अंतिम छोर के वंचित व्यक्ति तक पहुंचाने का हमारा प्रयास होना चाहिए और इसके लिए हम काम कर रहे है। इस क्षेत्र में सिंचाई की सुविधाओं के विस्तार के लिए सातनारी जलाशय को बनाया जायेगा। इसके अलावा लामता के लिए बड़ी उद्वहन योजना तैयार करने पर काम किया जा रहा है। इस योजना से इस क्षेत्र को बहुत लाभ मिलेगा। 

मंत्री श्री कावरे ने कहा कि कोरोना संकट के समय जब परिवार का कोई भी व्यक्ति घर से बाहर जाना पसंद नहीं कर रहा था, ऐसे समय में आशा कार्यकर्त्ताओं ने शासन का सहयोग किया और अपनी सेवायें दी है। आशा कार्यकर्त्ताओं की सेवाओं के कारण ही हम त्रिकटू चूर्ण को घर-घर तक पहुचाने में सफल रहे है। कोरोना से बचाने में आयुर्वेद का बहुत बड़ा योगदान रहा है। आयुष विभाग देश की इस प्राचीन पद्धति को अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए काम कर रहा है और इसमें आशा कार्यकर्त्ताओं का सहयोग लिया जायेगा। 

कार्यक्रम के अध्यक्ष विधायक श्री गौरीशंकर बिसेन ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि लामता को आज उप तहसील के नये कार्यालय भवन की सौगात मिली है। इससे इस क्षेत्र की जनता को सहूलियत मिलेगी और उसे बालाघाट जाने की जरूरत नहीं होगी। लामता क्षेत्र में हो रहे कार्यों से इस क्षेत्र के विकास को नये आयाम मिलेंगें। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों एवं आम जन की भलाई के लिए निरंतर काम कर रही है। संबल योजना का लाभ आम जन को मिल रहा है। आयुष्मान योजना में एक साल में 05 लाख रुपये का उपचार मुफ्त में किया जायेगा। किसानों की उपज की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जा रही है। प्रदेश सरकार ने किसानों द्वारा लिये गये ऋण पर ब्याज माफ करने का निर्णय कर लिया है। 

उप तहसील के नवीन भवन के लोकार्पण कार्यक्रम के पूर्व अतिथियों द्वारा कन्या पूजन किया गया। कार्यक्रम में 10 लाख रुपये की लागत से बने ओपन कैप, 05 लाख रुपये की लागत से बने सामुदायिक स्वच्छता परिसर, प्रधानमंत्री सड़क से टावर तक 1 लाख 57 हजार रुपये की लागत से बनी सीसी सड़क, प्रधानमंत्री सड़क से कन्हैया के घर तक बनी 3 लाख 78 हजार रुपये की लागत से बनी सीसी सड़क, दिनेश पांचे के घर से रहीम के घर तक एक लाख 87 हजार रुपये की लागत से बनी सीसी सड़क, ईसराईल के घर से खुरसोड़ा रोड तक एक लाख 65 हजार रुपये की लागत से बनी सीसी रोड़, सुभाष के घर से धीरज के घर तक 87 हजार रुपये की लागत से बनी सीसी रोड़ एवं थाने के सामने से मस्जिद तक एक लाख 92 हजार रुपये की लागत से बनी सीमेंट कांक्रीट की नाली का लोकार्पण भी किया गया।

Post a Comment

0 Comments