किसानों के रेल आंदोलन के चलते प्रभावित रहेंगी ये ट्रेनें और रूट | Kisano ke rail andolan ke chalte prabhavit rahengi ye train or root

किसानों के रेल आंदोलन के चलते प्रभावित रहेंगी ये ट्रेनें और रूट

सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील स्टेशनों पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. RPF के अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई है. राज्यों की पुलिस भी अलर्ट पर है.

किसानों के रेल आंदोलन के चलते प्रभावित रहेंगी ये ट्रेनें और रूट

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) - कृषि कानूनों के विरोध में महीनों से आंदोलन कर रहे किसान, गुरुवार को किसान संगठनों के नेतृत्व में देश के कई राज्यों में रेल रोको आंदोलन कर रहे हैं. आज दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे के बीच कई राज्यों, खासकर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के कई जिलों में रेल की पटरियों पर किसान आंदोलन करेंगे और ट्रेनों का चक्का रोक देंगे.

सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील स्टेशनों पर पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. वहीं, रेलवे पुलिस फोर्स के अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई है. राज्यों की पुलिस भी अलर्ट पर है. हापुड़ जंक्शन, गढ़मुक्तेश्वर, धौलानाऔर पिलखुवा रेलवे स्टेशन की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. इन चार रेलवे स्टेशनों के लिए चार मजिस्ट्रेट भी तैमान किए गए हैं. 

आज कई राज्यों में रेल सेवाएं प्रभावित रहेंगी. रेल रोको आंदोलन के चलते कुछ संवेदनशील रेलवे रूटों की पहचान की गई है.  

दिल्ली-लखनऊ रूट

दिल्ली- रोहतक जींद जाखल भटिंडा लाइन 

दिल्ली- पानीपत करनाल अंबाला लाइन 

दिल्ली- मुरादाबाद सहारनपुर मेरठ अंबाला

दिल्ली- पलवल- मथुरा- कोटा लाइन

दिल्ली-पलवल - मथुरा- झांसी-लाइन

मुरादाबाद में सहारनपुर की ओर जाने वाली ट्रेनों को रोके जाने की संभावना

रेलवे की ओर से ट्रेनों के रेगुलेशन या फिर टाइम बदले जाने की जानकारी दी गई है - 

किसानों के रेल आंदोलन के चलते प्रभावित रहेंगी ये ट्रेनें और रूट

रेलवे की ओर से फिलहाल ट्रेनों का टाइम या फिर रेगुलेशन स्टेशन अपडेट किया गया है, अभी तक किसी ट्रेन के कैंसल होने की जानकारी नहीं है.

किसानों के रेल आंदोलन के चलते प्रभावित रहेंगी ये ट्रेनें और रूट

भारतीय किसान यूनियन ने अपील की है कि किसी तरह की कोई हिंसा या परेशानी यात्रियों को नहीं आने दी जाएगी. संगठन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलनकारी पूरा ध्यान रखेंगे कि यात्रियों को परेशानी न हो. उन्होंने यह भी कहा कि 'हम लोगों को पानी, दूध, लस्सी और फल वगैरह देंगे और उन्हें बताएंगे कि हमारी समस्या क्या है.'

सूत्रों के हवाले से जानकारी है कि रेल रोको आंदोलन पर गृह मंत्रालय की भी नजर है. बुधवार को रेलवे बोर्ड के साथ एक मीटिंग हुई थी, जिसमें तैयारियों की जानकारी दी गई थी. गणतंत्र दिवस को किसान आंदोलन के तहत हुई ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद सबक लेकर इस आंदोलन के लिए तैयारियां दिखाई दे रही हैं. 

Post a Comment

0 Comments