गिरिराज पर्वत बनाकर पुजा अर्चना कर लगाई परीक्रमा, भगवान को लगाया छप्पन भोग | Giriraj parvat banakar puja archana kr lagai parikrama

गिरिराज पर्वत बनाकर पुजा अर्चना कर लगाई परीक्रमा, भगवान को लगाया छप्पन भोग

गिरिराज पर्वत बनाकर पुजा अर्चना कर लगाई परीक्रमा, भगवान को लगाया छप्पन भोग

आलीराजपुर (रफीक क़ुरैशी) - स्थानीय केशव नगर में काबरा एवं नवाल परिवार द्वारा सात दिवसीय आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पांचवे दिन शनिवार को कथा पांडाल में गिरिराज पर्वत बनाया गया। इस अवसर पर श्रद्धालुओं द्वारा पूजा-अर्चना कर परीक्रमा लगाई गई। इसके पश्चात कथा का वाचन पंडित लोकेशानंद शास्त्री द्वारा किया गया। कथा के दौरान पुतना वध की कथा भी सुनाई गई। वहीं भगवान गिरिराज जी को छप्पन भोग की प्रसादी का भोग भी लगाया गया। इस अवसर पर कथा वाचक पंडित शास्त्री ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने कई वर्षों से चली आ रही भगवान इंद्र देव की पूजा अर्चना को बंद कराकर ब्रजवासियों से गिरिराज की ही पूजा करानी शुरू कर दी। यह देख कर इंद्र को बहुत ही क्रोध में आ गया। उन्होंने ब्रज में भारी वर्षा कर दी थी। जिससे ब्रज के लोग बारिश से परेशान हो गए और उनके पशु मकान आदि तेज बारिश में बहने लगे। परेशान होकर प्रजा भगवान श्रीकृष्ण के पास पहुंचती है। जहां पर भगवान श्रीकृष्ण प्रजा को इंद्र के इस क्रोध से बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी कंचक की अंगुली पर उठा लेते हैं और पूरे ब्रजवासियों को उनके नीचे बुला कर बारिश से राहत देते हैं। उन्होंने सभी लोगों से कहा कि आप ब्रज में जब भी जाए गोवर्धन की परिक्रमा अवश्य करे। जिससे आपके संकट दूर होंगे। पंडित जी ने पूतना वध की कथा विस्तार से सुनाई। कथा के दौरान गिरिराज पर्वत की महिमा बताते हुए पंडित शास्त्री ने कहा कि गिरिराज पर्वत भगवान श्रीकृष्ण की लीलास्थली है। यहीं पर भगवान श्रीकृष्ण ने द्वापर युग में ब्रजवासियों को इन्द्र के प्रकोप से बचाने के लिए गोवर्धन पर्वत अपनी कनिष्ठ अंगुली पर उठाया था। गोवर्धन पर्वत को भक्तजन गिरिराजजी भी कहते हैं। उन्होंने कहा कि सदियों से यहां दूर दूर से भक्तजन गिरिराज जी की परिक्रमा करने आते रहे हैं। यह 7 कोस की परिक्रमा लगभग 21 किलोमीटर की है। उन्होंने कहा कि इस चमत्कारी पर्वत की परिक्रमा करने वालों की सभी इच्छाएं पूर्ण होती है उसके जीवन में कभी पैसे की कमी नहीं रहती। कथा आयोजन समिति के सदस्यों ने बताया कि श्रीमद भागवत कथा के पहले दिन से ही कथा पांडाल में कथा का लाभ लेने के लिए सैंकड़ो की संख्या में श्रोताजन आ रहे है। कथा का समय दोपहर 3 बजे से है जो शाम 6.30 बजे तक चल रही है। जिसके पश्चात भागवतजी की आरती उतारकर प्रसादी का वितरण किया जा रहा है। उन्होंने समस्त धर्म प्रेमी जनता से कथा श्रवण कर लाभ लेने की अपील की है। कथा में भाजपा के जिलाध्यक्ष वकील सिंह ठकराला द्वारा स्वामीजी का पुष्प हार पहनाकर स्वागत किया गया। 

गिरिराज पर्वत बनाकर पुजा अर्चना कर लगाई परीक्रमा, भगवान को लगाया छप्पन भोग

कथा के दौरान जैन समाज अध्यक्ष मनीष जैन, ब्राह्मण समाज महिला मंडल अध्यक्ष पूर्णिमा व्यास, नरसिंह मंदिर समिति की महिला मंडल एवं अन्य सदस्यों के द्वारा भी स्वामीजी का स्वागत कर आरती उतारी गई।

Post a Comment

0 Comments