कोरोना काल में जारी है उम्मीदों का बजट | Corona kaal main jari hai ummeedo ka budget

कोरोना काल में जारी है उम्मीदों का बजट

कोरोना काल में जारी है उम्मीदों का बजट

वित्तीय वर्ष 2021-22 का आम बजट (यूनियन बजट) संसद में पेश किया जा रहा है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बजट भाषण जारी है। वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण के शुरू में कोरोना काल का जिक्र दिया और बताया कि किस तरह मुश्किल वक्त में सरकार ने अपनी योजनाओं के जरिए जनता तक राहत पहुंचाने की कोशिश की। उस दौरान पांच मिनी बजट पेश किए गए। इससे अर्थव्यवस्था को गति देने का कोशिश की गई। वित्त मंत्री ने वैज्ञानिकों को धन्यवाद दिया और स्वदेशी वैक्सीन के महत्व के बारे में बताया। उन्होंने कहा, यह बजट ऐसी परिस्थितियों में तैयार किया गया है जो पूर्व में कभी नहीं थी, 2020 में हमने कोविड-19 के साथ क्या-क्या सहन किया उसका कोई उदाहरण नहीं। प्रधानमंत्री ने 2.76 लाख करोड़ रुपए की पीएम गरीब कल्याण योजना घोषित की, इसके साथ ही 800 मिलियन लोगों के लिए मुफ्त खाद्यान उपलब्ध कराया। नीचे देखिए बजट का लाइव वीडियो और बजट भाषण की बड़ी बातें पीएम ने 80 मिलियन परिवारों को कई महीनों तक मुफ्त गैस मुहैया कराया, 40 मिलियन से अधिक किसानों, महिलाओं, गरीबों के लिए सीधे नकद राशि मुहैया कराई।

कोरोना काल में जारी है उम्मीदों का बजट

कोरोना महामारी के कारण इस बार देश की आर्थिक स्थिति बिल्कुल अलग है। कहा जा रहा है कि आजादी के बाद यह पहला मौका है जब अर्थव्यवस्था पर इतना अधिक दबाव है। लगभग हर सेक्टर को इस बजट से बड़ी उम्मीद है। किसानों और कृषि सेक्टर की अपनी मांग है तो नौकरीपेश भी PF, EPF, टैक्स और वर्क फ्रॉम होम से जुड़ी बातें में राहत चाहता है। वहीं हर इंडस्ट्री की सेहत पर कोरोना ने हमला किया है और इस बार फायनेंशियल वैक्सीन की दरकार है। हालांकि वित्त मंत्री के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी संकेत दे चुके हैं कि यह आम जनता के बजट हो सकता है। पीएम मोदी ने बजट सत्र की शुरुआत में कहा था कि 2020 में कोरोना महामारी के कारण कई मिनी बजट पेश हुए और इस बजट को भी उसी श्रेणी में गिना जाना चाहिए।

कोरोना काल में जारी है उम्मीदों का बजट

बजट 2021 से पहले वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने अपने घर में मौजूद हनुमानजी के मंदिर में पूजा की। मंत्रालय के लिए रवाना होने से पहले अनुराट ठाकुर ने कहा, बजट लोगों की अपेक्षाओं के अनुरूप होगा। सरकार ने 'सबका साथ, सबका विकास, सबका विकास' के मंत्र पर काम किया है। इसी सोच के तहत आत्मानिहार पैकेज की घोषणा करके देश को महामारी से बचाने और अर्थव्यवस्था को तेजी से पटरी पर लाने के लिए नई दिशा दी गई है।

कोरोना काल में जारी है उम्मीदों का बजट


Post a Comment

0 Comments