प्रदेश में गोवंश बढ़ाने बनी देश की पहली गो कैबिनेट, छ विभाग करेंगे संवर्धन | Pradesh main go vansh badhane ki pehli cabinet

प्रदेश में गोवंश बढ़ाने बनी देश की पहली गो कैबिनेट, छ विभाग करेंगे संवर्धन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की घोषणा 22 को आगर मालवा में होगी पहली बैठक

प्रदेश में गोवंश बढ़ाने बनी देश की पहली गो कैबिनेट, छ विभाग करेंगे संवर्धन

भोपाल (संतोष जैन) - मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को देश की पहली गो कैबिनेट का गठन किया है यह कैबिनेट प्रदेश में गोवर्धन संरक्षण और संवर्धन के लिए काम करेगी इसमें 6 विभागों को शामिल किया गया है जो मिलकर गायों के लिए काम  करेगी इस कैबिनेट की अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री करेंगे वह कैबिनेट की पहली बैठक आगर मालवा जिले में सांवरिया स्थित गो अभ्यारण में 22 नवंबर को गोपाष्टमी के दिन दोपहर 12:00 बजे होगी कैबिनेट में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा मंत्री कृषि मंत्री कमल पटेल पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया और पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल सदस्य के तौर पर शामिल किए गए हैं


 यह होगा काम


 यह कैबिनेट प्रदेश में गोधन संरक्षण और संवर्धन के लिए काम करेगी प्रदेश में आवारा गायों की बेहतरी गौ तस्करी पर रोकथाम गौ मांस पर रोक और गौशालाओं के बेहतर पर्यावरण के लिए नियम बनाने और उसे क्रियान्वित करने से संबंधित फैसले भी यह कैबिनेट करेगी


 गो मंत्रालय का वादा



 भाजपा ने 2018 के चुनाव में अपने संकल्प पत्र की घोषणा पत्र में गो मंत्रालय बनाने का वादा किया था तब भाजपा चुनाव हार गई अब सत्ता परिवर्तन के बाद भाजपा ने सरकार बनाई तो वह गो केबिनेट बनाई है 


फेल हो चुके हैं पहले के फैसले


 शिवराज सरकार इससे पहले कृषि कैबिनेट पर्यटन कैबिनेट और हैप्पीनेस मंत्रालय जैसे कदम भी उठा चुकी है लेकिन यह कारगर साबित नहीं हुए


 मध्य प्रदेश में निजी गौशालाओं की रही है भरमार 


अभी तक निजी गौशालाओं की भरमार रही है 2018 तक एक भी सरकारी गौशाला नहीं थी लेकिन पिछली कमलनाथ सरकार ने करीब एक हजार गौशालाओं के निर्माण का लक्ष्य रखा इन पर काम भी शुरू हुआ लेकिन काम साकार नहीं हो सका है अब शिवराज सरकार आने के बाद गौशाला को लेकर सरकारी और निजी दोनों स्तर पर काम शुरू हो गया है सरकारी स्तर पर 3000 गौशाला बनना है वहीं निजी सेक्टर में भी इस पर काम हो रहा है

Post a Comment

0 Comments