चाहे कानून ही क्यों न बदलना पड़े राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को दिए जाएंगे पट्टे - मुख्यमंत्री श्री चौहान | Chahe kanoon hi kyu na badalna pade rajasv ki zameen pr kabij logo ko diye jayenge patte

चाहे कानून ही क्यों न बदलना पड़े राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को दिए जाएंगे पट्टे - मुख्यमंत्री श्री चौहान

देड़तलाई में आयोजित हुई सीएम की आमसभा, दूर दराज से सभा सुनने पहुंचे लोग

चाहे कानून ही क्यों न बदलना पड़े राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को दिए जाएंगे पट्टे - मुख्यमंत्री श्री चौहान

बुरहानपुर। (अमर दिवाने) - मुख्यमंत्री ने कहा सुमित्रा कास्डेकर मेरे पास आई मैंने उनकी बात सुनी और एक मिनट की देरी नहीं लगाई नेपानगर अस्पताल के उन्नयन के लिए 1.40 करोड़ स्वीकृत कर दिए। देड़तलाई के रोडों की भी स्वीकृति दी। चाहे हमें कानून ही क्यों न बदलना पड़े हम राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को पट्टे देंगे। अब तक जितने विकास के काम हुए वह तो एक ट्रेलर है पिक्चर अभी बाकी है।

चाहे कानून ही क्यों न बदलना पड़े राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को दिए जाएंगे पट्टे - मुख्यमंत्री श्री चौहान

यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने मंगलवार को ग्राम देड़तलाई में भाजपा प्रत्याशी सुमित्रादेवी कास्डेकर के समर्थन में आयोजित आमसभा में कही। सीएम ने कहा कि सुमित्रादेवी ने ही मुझे बोला कि कांग्रेस सत्ता में आकर जनता को पैरों तले रौंदती है। यह बात सही है, लेकिन मैं तो जनता का पुजारी हूं। बुरहानपुर के लिए 5 बैराज ताप्ती पर बनाए। 56 छोटी बड़ी योजना वाटर रिचार्ज की स्वीकृत की। खकनार में कॉलेज खोला। बिल्डिंग भी बनाएंगे। खकनार विकासखंड के सातपायरी में 43 करोड़ का एकलव्य विद्यालय खुल रहा है।

चाहे कानून ही क्यों न बदलना पड़े राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को दिए जाएंगे पट्टे - मुख्यमंत्री श्री चौहान

सभा को संबोधित करते हुए सीएम शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ कहते थे मेरे पास पैसे नहीं हैं, पैसे नहीं हैं। सब शिवराजसिंह चौहान ले गए। अरे क्या कोई औरंगजेब का खजाना  था जो उठाकर ले गए। हमने ऐसा काम किया कि गरीब के बेटा बेटी पढ़ सके। किसानों को एक लाख रूपए हेक्टेयर केले की फसल नुकसानी दी। राजस्व की जमीन पर बरसो से जिनका कब्जा है उनको अब तक पट्‌टा नहीं मिला। हम उनहें पट्टे देंगे। चाहे कानून बदलना पड़े तो बदलेंगे। पट्‌टे मिलेंगे, मिलेंगे और मिलेंगे। कांग्रेस की हालत यह हो रही है कि उसके विधायक छोड़ छोडकर आ रहे हैं। कह रहे हैं मामा हमें तो आना है। हम कह रहे हें, बहुत हो गए। यह कांग्रेस तबाही का प्रतीक बन गई है। यह चुनाव सुमित्रा का नहीं आपके भविष्य का चुनाव है। गरीब, नौजवान को नौकरी नहीं दी। हमने सरकारी नौकरी में भर्ती चालू कर दी। सुमित्रा जीती तभी शिवराजसिंह चौहान आपकी सेवा करेगा। इसलिए हम अपना भविष्य बनाने के लिए संकल्प लें कि इस बार कोई कसर न रह जाए। आखिरी में सीएम ने कहा कांग्रेसी आएगा दाना डालेगा, दारू लाएगा, कंबल बांटेगा, बोलो फंसोगे तो नहीं। लोगो ने कहा नहीं। इस दौरान सांसद नंदकुमारसिंह चौहान, वन मंत्री विजय शाह, पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस, चुनाव प्रभारी गोपीकृ़ष्ण नेमा, अंतरसिंह आर्य, भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज लधवे, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटिल, खंडवा विधायक देवेन्द्र वर्मा, पूर्व विधायक मंजू दादू, राजू शिवहरे, अनिल भोसले, प्रदीप जाधव, विजय गुप्ता, संजय सहगल, संजय जाधव सहित काफी संख्या में भाजपा नेता मौजूद थे।

चाहे कानून ही क्यों न बदलना पड़े राजस्व की जमीन पर काबिज लोगों को दिए जाएंगे पट्टे - मुख्यमंत्री श्री चौहान

किसी भी वचन पर खरी नहीं उतरी कांग्रेस पार्टी

सभा को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक व भाजपा प्रत्याशी सुमित्रा कास्डेकर ने कहा कि 15 महीने की सरकार में कमलनाथ ने वचन पत्र निकाले थे। हर किसान का कर्जा माफ करने की बात कही थी। बेटियों की शादी के लिए 51 हजार देने की बात कही थी। बेरोजगार भत्ते की बात कही थी, लेकिन किसी भी वचन पर कांग्रेस पार्टी खरी नहीं उतरी। राहुल गांधी ने 10 दिन में मुख्यमंत्री बदलने का कहा था। कागज में दो लाख रूपए माफ हुए। मैं 15 महीने जनता को जवाब नहीं दे पाई। इसलिए भाजपा में शामिल हुई। कांग्रेस की विधायक होने के बाद शिवराजसिंह के पास गई। उन्होंने आधे घंटे तक बैठाकर मेरी बात सुनी और नेपानगर अस्पताल के लिए 1.40 करोड़ की राशि स्वीकृत कर दी। रोड निर्माण के लिए भी राशि स्वीकृत की। अब आपको 3 नवंबर को जवाब देना है।

Post a Comment

0 Comments