वन विभाग के वाहन से हो रही थी शराब की तस्करी | Van vibhag ke vahan se ho rhi thi sharab ki taskari

वन विभाग के वाहन से हो रही थी शराब की तस्करी

वन विभाग के वाहन से हो रही थी शराब की तस्करी

डिंडौरी (पप्पू पड़वार) - वन मंडल सामान्य कार्यालय में लगे चार पहिया वाहन से शराब की तस्करी करते पुलिस ने दो आरोपितों को जहां गिरफ्तार किया है वहीं एक फरार बताया जा रहा है। रविवार की देर रात कोतवाली पुलिस ने अनूपपुर जिले से लाई जा रही शराब की बड़ी खेप पकड़ने में सफलता हासिल की है। इस पूरे मामले में डिंडौरी वन परिक्षेत्र में पदस्थ फारेस्टर की भूमिका संदिग्ध लग रही है। जिस वाहन में अवैध शराब की जखीरा बरामद किया गया है वह फारेस्टर की पत्नी के नाम से रजिस्टर्ड है। विभागीय अधिकारियों की मानें मप्र शासन लिखे संबंधित वाहन का उपयोग पूर्व करंजिया में पदस्थ रेंजर कर रहे थे। बताया गया कि वे दो दिन के अवकाश पर थे। जिला अभियोजन अधिकारी मनोज कुमार वर्मा ने बताया कि शराब तस्करी के आरोपित तुलसीराम भवेदी व देवी उर्फ देवेंद्र धुर्वे को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। जिले भर में मप्र शासन और प्रेस लिखे वाहन में अवैध गतिविधियां धड़ल्ले से चल रही हैं। प्रेस लिखे वाहन में भी शराब ढोई जा रही है। एसपी से इस ओर आवश्यक पहल करने की मांग की गई है।

वन विभाग के वाहन से हो रही थी शराब की तस्करी

देवरा निवासी है वाहन चालक

 बताया गया कि रविवार की देर रात जब मुखबिर की सूचना में पुलिस ने मुड़की तिराहा पर बैरीकेट लगाकर वाहन को रोका तो उसमें वाहन चालक तुलसीराम भवेदी पिता रामलाल भवेदी 25 वर्ष निवासी देवरा तो पकड़ में आ गया लेकिन उसकी बगल वाली सीट में बैठा एक अन्य आरोपित दरवाजा खोलकर मौके से फरार हो गया। वाहन की तलाशी में बीच की सीट में 19 पेटी से अधिक देशी व अंग्रेजी शराब जब्त की गई है। कुल 131 लीटर शराब जब्त करना बताया गया जिसकी कीमत एक लाख 30 हजार रुपये है। वाहन क्रमांक एमपी 52 टीए 0579 को जब्त किया गया है।

वन विभाग के वाहन से हो रही थी शराब की तस्करी

नर्मदागंज से पकड़ा गया दूसरा आरोपित

पकड़े गए वाहन चालक से जब पूछताछ की गई तो उसके बताए अनुसार एक अन्य आरोपित देवी उर्फ देवेंद्र धुर्वे निवासी ग्राम विचारपुर को नर्मदागंज से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में एक अन्य आरोपित नर्मदागंज निवासी फरार बताया जा रहा है। पुलिस ने सभी आरोपितों के विरुद्ध 34 2 आबकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। फरार आरोपित की तलाश पुलिस कर रही है। बताया गया कि कार्रवाई के दौरान आरोपितों और पुलिस के बीच नोंकझोंक भी हुई थी।

फारेस्टर की भूमिका की हो जांच

 वन विभाग में लगे वाहन का दुरुपयोग करने के साथ शराब ढोने की पहले से चर्चाएं थीं। एसपी के निर्देशन में यह कार्रवाई तो हुई लेकिन बताया गया कि लंबे समय से यह खेल चल रहा था। फारेस्टर के पास दो तीन वाहन अलग से होना बताया जा रहा है। विभागीय स्तर पर ही वाहन कैसे लग गया। इस पर भी सवाल उठ रहे हैं। संबंधित फारेस्टर की संपत्ति की जांच करने की मांग भी उठ रही है। आरोप फारेस्टर पर भी लग रहे हैं कि संबंधित द्वारा ही यह सब खेल कराया जा रहा था।

वर्जन.......

जिस वाहन से शराब जब्त हुआ है उसका उपयोग पूर्व करंजिया के रेंजर कर रहे थे। वे दो दिन के अवकाश में थे इसलिए संबंधित वाहन चालक द्वारा इसका दुरुपयोग किया गया। संबंधित वाहन फारेस्टर की शायद पत्नी के नाम से है। मैं कल इस पूरे मामले की जांच करवाता हूं। फारेस्टर का वाहन कार्यालय में कैसे लगा। इसकी जांच कराने के साथ वाहन का अनुबंध निरस्त करते हुए जमा की गई राशि भी जब्त कर ली जाएगी। फारेस्टर पर विभागीय स्तर पर अलग से कार्रवाई होगी।

मधु वी राज
वन संरक्षक डिंडौरी।

मप्र शासन और प्रेस लिखे वाहनों की जांच कराई जाएगी। जिन वाहनों में मप्र शासन लिखा है उनके अनुबंध के बारे में जानकारी जाएगी। साथ ही अनाधिकृत तौर पर प्रेस लिखने वाले वाहन चालकों पर भी कार्रवाई के निर्देश दिए जाएंगे।
संजय सिंह पुलिस अधीक्षक डिंडौरी।

Post a Comment

0 Comments