सुक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने रतलाम में औद्योगिक संघ पदाधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की!sukshm,lghu,madhyam udham mantri ne ratlam me bethak aayogit ki

Ratlam- प्रदेश के सूक्ष्म लघु मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने स्थानीय उद्योग संघ के पदाधिकारियों के साथ रविवार को बैठक ली। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योग प्रोत्साहन योजना तथा विभिन्न स्वरोजगार योजनाओं के बकाया अनुदान की लगभग 80 प्रतिशत राशि आगामी दिसंबर माह के प्रथम सप्ताह तक जारी कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि विकसित क्षेत्र के अलावा अविकसित भूमि भी औद्योगिक इकाई स्थापना के लिए दी जाएगी। यदि औद्योगिक एसोसिएशंस इच्छुक होंगे तो विकसित औद्योगिक क्षेत्रों के मेंटेनेंस का जिम्मा भी उनको सौंपा जा सकेगा।
स्थानीय कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में विधायक रतलाम शहर श्री चैतन्य काश्यप, विधायक रतलाम ग्रामीण श्री दिलीप मकवाना, श्री राजेंद्रसिंह लुनेरा, कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, सीईओ जिला पंचायत श्री संदीप केरकेट्टा, मालवा चेंबर ऑफ कॉमर्स एसोसिएशन के सचिव श्री वरुण पोरवाल, जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष श्री हरजीतसिंह चावला, श्री आशीष पालीवाल, श्री चंद्रकाश ओस्तवाल, श्री उमेश झालानी, एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर एकेवीएन एवं संयुक्त संचालक उद्योग इंदौर उज्जैन श्री एच.आर. मुजाल्दा, जिला महाप्रबंधक उद्योग श्री अमरसिंह मोरे आदि उपस्थित थे।
मंत्री श्री सखलेचा ने बैठक में कहा कि राज्य शासन प्रदेश में उद्योगों के विकास खासतौर पर लघु एवं मध्यम उद्योग इकाइयों के विकास एवं विस्तार के लिए कृत-संकल्पित है, लघु-मध्यम इकाइयां बड़ी संख्या में रोजगार देती हैं जो लॉकडाउन के बाद एवं कोरोना कॉल में बहुत जरूरी है। इस संबंध में हमने उद्योगों के साथ वेबीनार किए हैं, अधिकारियों से चर्चा की है। आत्मनिर्भर भारत एवं मध्यप्रदेश की अवधारणा के साथ हर जिला आत्मनिर्भर बने, हम किफायती दरों पर सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योगों को बिजली देंगे। दरों को कम से कम किया जा रहा है, उद्योगपतियों की सहूलियत के लिए प्रॉपर्टी टैक्स के संबंध में भी गंभीरता से विचार कर रहे हैं। समय अंतराल में उद्योगों और श्रमिकों के मध्य कांट्रैक्टर्स की बड़ी संख्या उत्पन्न हो गई है, इस ट्रेंड को कम किया जाएगा। नवीन औद्योगिक इकाइयों में शासन के प्रावधान अनुसार आरक्षित वर्ग को रोजगार देने वाली इकाई को अतिरिक्त अनुदान देने पर शासन विचार कर रहा है।
मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे पर लॉजिस्टिक क्लस्टर की स्थापना, एक्सपोर्ट हब तथा प्रोसेसिंग यूनिट्स की स्थापना की जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों में फूड प्रोसेसिंग उद्योग इकाइयों की स्थापना के वृहद प्रयास शासन द्वारा किए जा रहे हैं। नए एंटरप्रेन्योर को मार्गदर्शन देने की व्यवस्था की गई है ताकि औद्योगिक क्षेत्र में युवा आगे आएं, स्वरोजगार करें। एंटरप्रेन्योर स्किल बेस्ड योजनाएं सदैव सफल रहती हैं। सेवा उद्योगों, मैरिज गार्डन इत्यादि के लिए स्पष्ट गाइड लाइन बनाई जाएगी जो समय और परिस्थिति के अनुसार रहेगी। मंत्री श्री सखलेचा ने रतलाम के औद्योगिक क्षेत्रों में पुरानी विद्युत लाइनों के संधारण हेतु महाप्रबंधक उद्योग को रिपोर्ट देने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि शहर से दूर स्थापित किए जाने वाले औद्योगिक क्षेत्रों में रेजिडेंशियल इत्यादि प्रावधान किए जाकर उनको समग्र स्वरूप दिया जाएगा। उद्योगपति को ज्यादा शासकीय विभागों में नहीं जाना पड़े, इसके लिए नीति बनाई जाएगी, इस संबंध में जानकारी ली जा रही है।
श्री सखलेचा ने उद्योगपतियों से आग्रह किया कि वे अपने सुझाव कलेक्टर या जनप्रतिनिधियों के माध्यम से अथवा पोस्ट द्वारा उन्हें प्रेषित कर सकते हैं, अच्छे सुझाव पर अमल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम एग्जिट पालिसी भी बना रहे हैं जिससे उद्योगपति चाहे तो अपने ट्रेंड से बाहर निकलकर नवीन औद्योगिक कार्य कर सकेगा। श्री सखलेचा ने इस अवसर पर इंडस्ट्रीज रिवॉल्यूशन इन रतलाम हिस्ट्री ब्रोशर का विमोचन भी किया।
इस दौरान विधायक श्री चैतन्य काश्यप ने रतलाम जिले में उद्योगों की स्थिति, उनके विकास और आगामी संभावनाओं की जानकारी देते हुए कहा की सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योग देश की रीढ़ होते हैं, इनको बढ़ावा देना अत्यावश्यक है। पूर्व में रतलाम जिले में उद्योगों का बड़ा संजाल था लेकिन कालांतर में कई उद्योग इंदौर शिफ्ट हो गए हैं। औद्योगिक क्षेत्र की लगभग आधी भूमि का उपयोग नहीं हो रहा है। करमदी क्षेत्र में स्थापित नमकीन क्लस्टर का जिक्र करते हुए कहा कि यह क्षेत्र औद्योगिक स्वरूप को धारण कर रहा है, लगभग 4 से 5 करोड रुपए की सड़कें बनवाई गई हैं। क्षेत्र में करीब-करीब शत-प्रतिशत प्लाट बुक हो चुके हैं। श्री काश्यप ने बिबड़ोद, जामण पाटली क्षेत्र में औद्योगिक विकास के लिए सैकड़ों हेक्टेयर भूमि के प्रस्ताव, रतलाम अल्कोहल प्लांट की खाली पड़ी भूमि में उद्योगों के विकास की भी जानकारी देते हुए इस दिशा में तेजी से कार्य करने की जरूरत मंत्रीजी को बताई। इसके साथ ही श्री काश्यप ने रतलाम औद्योगिक क्षेत्र में 6 करोड रूपए के विकास प्रस्तावों की जानकारी दी। उन्होंने नगर निगम के माध्यम से औद्योगिक क्षेत्र में जलापूर्ति हेतु 170 लॉख रुपए की योजना तथा विद्युत आपूर्ति हेतु लगभग डेढ़ करोड़ रुपए लागत के सब-स्टेशन निर्माण की योजना प्रस्ताव की जानकारी भी मंत्रीजी को दी। इस संबंध में मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि शीघ्र ही राशि का बड़ा हिस्सा उपलब्ध कराया जाएगा। मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि कोरोना काल में सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योगों को 20 प्रतिशत ज्यादा कार्यशील पूंजी उपलब्ध कराई गई है ताकि औद्योगिक विकास सतत बना रहे।
विधायक रतलाम ग्रामीण श्री दिलीप मकवाना ने बैठक में रतलाम ग्रामीण क्षेत्र में लघु मध्यम उद्योगों के विकास, फूड प्रोसेसिंग यूनिट्स की स्थापना के लिए मंत्रीजी से आग्रह किया। उन्होंने कहा कि रतलाम ग्रामीण क्षेत्र में बड़े पैमाने पर उद्यानिकी फसलों का उत्पादन किया जा रहा है। उद्यानिकी पर आधारित लघु मध्यम उद्योगों के विकास की गहन संभावना रतलाम ग्रामीण क्षेत्र में है जिसका लाभ क्षेत्रीय किसानों को मिलेगा।
मंत्री श्री सखलेचा ने कलेक्टर को निर्देश दिए कि जिला प्रशासन द्वारा बैंकर्स के साथ आयोजित की जाने वाली बैठकों में क्षेत्रीय सांसद तथा विधायकों को भी आमंत्रित किया जाए। विधायक श्री काश्यप ने कहा कि रतलाम जिले में वृहद औद्योगिक विकास के लिए आवश्यक है कि फूड प्रोसेसिंग के तहत हल्दीराम या भीकाजी जैसे बड़े संभावनाशील उद्योगपति जिले में आकर अपनी इकाइयां स्थापित करें। इस दौरान उद्योगपति श्री वरुण पोरवाल, श्री उमेश झालानी, श्री चंद्रप्रकाश ओस्तवाल, श्री दिनेश जैन तथा मैरिज गार्डन एसोसिएशन के पदाधिकारी ने भी अपने सुझाव एवं समस्याओं के निराकरण के संबंध में जानकारी प्रस्तुत की। इस अवसर पर औद्योगिक संघ के पदाधिकारियों द्वारा मंत्री श्री सखलेचा को स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया।
चार्टर्ड अकाउंटेंट एसोसिएशन के साथ भी बैठक लेकर चर्चा की
प्रदेश के सूक्ष्म लघु मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में रतलाम के चार्टर्ड एकाउंटेंट एसोसिएशन के पदाधिकारियों एवं सदस्यों के साथ भी बैठक लेकर चर्चा की जिसमें विधायक श्री चैतन्य काश्यप, कलेक्टर श्री गोपालचंद्र डाड तथा पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, चार्टर्ड अकाउंट एसोसिएशन रतलाम शाखा के अध्यक्ष श्री अमित वाच्छानी आदि उपस्थित थे।
इस दौरान मंत्री श्री सखलेचा ने कहा कि सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योगों के विकास को गति देने में चार्टर्ड अकाउंटेंट एसोसिएशन की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। सर्विस, उद्योगों जैसे नर्सिंग होम्स, मैरिज गार्डन इत्यादि के लिए चार्टर्ड अकाउंटेंट एसोसिएशन अपने सुझाव दे सकते हैं जिन पर अमल किया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments