जिला उपाध्यक्ष बनने के बाद शेरसिंह मालवीय का पैतृक गांव पहुंचने पर हुआ भव्य स्वागत | Jila upadhyaksh banne ke baad shera singh malviya ka petrak ganv pahuchne pr hua bhavya swagat

जिला उपाध्यक्ष बनने के बाद शेरसिंह मालवीय का पैतृक गांव पहुंचने पर हुआ भव्य स्वागत

जिला उपाध्यक्ष बनने के बाद शेरसिंह मालवीय का पैतृक गांव पहुंचने पर हुआ भव्य स्वागत

पीथमपुर (प्रदीप द्विवेदी) - पीथमपुर क्षेत्र के कांग्रेस नेता शेरसिंह मालवीय को पिछले दिनों असंगठित कामगार कांग्रेस का जिलाउपाध्यक्ष नियुक्त किया गया‌। इस नियुक्ति के बाद शेरसिंह मालवीय पहली बार जब अपने पैतृक गांव पहुंचे तो रास्ते में कई गांव सहित उनके पैतृक गांव मेनपुरा में उनका भव्य स्वागत किया गया। शेरसिंह मालवीय के साथ ही असंगठित कामगार कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष व संभाग प्रभारी हेमंत हीरोले जनपद सदस्य डाक्टर असकरण, अखिल भारतीय बलई महासंघ के तहसील अध्यक्ष चंदा मालवीय, पीथमपुर शहर अध्यक्ष मोनिका सोलंकी, विधानसभा उपाध्यक्ष राहुल चांडाल, गोलु शाह, सलाम मस्ताना, बशीर शाह, महेंद्र कलमोदिया सहित अनेक नेताओं ने मेनपुरा के लिए प्रस्थान किया था। इस दौरान बदनावर विधानसभा के केसुर गांव में प्रवेश करते ही अल्पसंख्यक समाजजनों ने सभी का फूल-मालाओं से भव्य स्वागत किया। इसके अलावा रास्ते में भी अन्य कई जगह बलई समाज के लोगों के साथ ही अन्य समाजजनों ने सभी का भव्य स्वागत किया। काफिला जब मेनपुरा गांव पहुंचा तो वहां पर बलाई समाज के लोगों सहित कलोता-पटेल समाज के लोग एंव अन्य सामाजजन भी बड़ी संख्या में उपस्थित होकर ढोल-ताशों के साथ में भव्य रैली निकाली और शेरसिंह मालवीय, हेमंत हीरोले एवं अन्य सभी का फूल-माला पहनाकर स्वागत किया और मालवीय को उनकी नियुक्ति पर बधाई एवं शुभकामनाएं दी। इस दौरान शेरसिंह मालवीय ने भी गांव के सभी वरिष्ठजनों का आशीर्वाद एवं स्नेह प्राप्त किया। इसके बाद गांव में एक बैठक का आयोजन किया गया जहां ग्रामवासियों के साथ शेरसिंह मालवीय, डॉ हेमंत हीरोले सहित सभी नेताओं ने चर्चा की। इस दौरान में गांव के रोड की दुर्दशा, श्मशान घाट रोड, नाले की पुलिया आदि जनसमस्याओं को लेकर देर तक चर्चा हुई। इन सभी समस्याओं का निराकरण कैसे हो इस पर विचार-विमर्श कर रूपरेखा बनाई गई तथा सभी समाज के लोगों को एकजुट होकर गांव के विकास करने की बात को लेकर सहमति बनी। इस दौरान मेनपुरा गांव के अशोक पवार, जगदीश सोनगरा, हरिराम परमार, नारायण सिंह सोलंकी, बापूसिंह पटेल, लखन परमार, घरसिंह सोनगरा, सुभाष राठोर, मांगीलाल परमार, गणपत पंवार, रामलाल चौहान, शुभम सोनगरा, रतन सोनगरा सहित बड़ी संख्या में ग्रामवासी मौजूद रहे। अंत में शेरसिंह मालवीय ने ग्रामवासियों से मिले अपार स्नेह पर सभी का आभार माना।

Post a Comment

0 Comments