फुलमाल स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉक्टर का अन्यत्र अटेचमेंट करने से मरीज परेशान ओर क्षेत्रवासियों में तीव्र आक्रोश | Fulmal swasthya kendra main padast doctor ka anyatr attachment krne se marij pareshan

फुलमाल स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉक्टर का अन्यत्र अटेचमेंट करने से मरीज परेशान ओर क्षेत्रवासियों में तीव्र आक्रोश


अलीराजपुर। (रफीक क़ुरैशी) - कट्ठीवाड़ा ब्लाक के अंतर्गत ग्राम फुलमाल के क्षेत्रवासी इन दिनों प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर नहीं होने से काफी परेशान हो रहे हैं।डॉक्टर के अभाव में यहां आने वाले मरीजों को कोई स्वास्थ्य लाभ नहीं मिल पा रहा है। इस बात की शिकायत जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष महेश पटेल, आलीराजपुर विधायक मुकेश पटेल,जोबट विधायक कलावती भूरिया के नेतृत्व में क्षेत्र के सरपंचों एवं ग्रामीणों ने विगत दिनों कलेक्टर से की है। क्षेत्र के सरपंचों एवं ग्रामीणों ने अपने ज्ञापन में बताया कि फुलमाल पीएचसी हेल्थ सेंटर पर क्षेत्रवासियों की वर्षों पुरानी मांग के बाद में एक एमबीबीएस डॉक्टर की पदस्थापना की गई थी। किंतु जिले के स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा अपनी मनमानी से उन्हें गत दिनों आंबुआ की पीएचसी सेंटर पर अटैचमेंट कर दिया है। जिससे यहां के क्षेत्रवासियों को अब स्वास्थ्य संबंधी गंभीर परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उल्लेखनीय है कि यह पिछड़ा क्षेत्र जिले के अंतिम छोर पर दुर्गम पहाड़ी ओर जंगलों में स्थित है। सड़क तो है परंतु सड़कों की स्थिति काफी खराब ओर दयनीय हो गई है। क्षेत्र में आवागमन के साधन भी नहीं है। बीमार मरीज को इस क्षेत्र से प्राथमिक उपचार भी नहीं मिल पाता है।मजबूरी में समीप स्थित गुजरात के हॉस्पिटल में गंभीर मरीजों को ले जाते समय रास्ते में ही उसकी मौत हो जाती है। करीब 25 सालों की मांग के बाद यहां पर पीएचसी भवन स्वीकृत किया गया था।इस भवन को बनने में भी कई साल लग गए । भवन बनने के बाद बार-बार  मांग करने के बाद एक डॉक्टर की नियुक्ति हुई। डॉक्टर की इस  नियुक्त में भी 5 साल लग गए।डॉक्टर की नियुक्ति के बाद से क्षेत्रवासियों को स्वास्थ्य सम्बन्धी अच्छी सुविधा मिल रही थी।किंतु पिछले दिनों अचानक  विभाग तुगलकी आदेश निकालकर उन्हें आम्बुआ अस्पताल  में अटैचमेंट कर दिया। और यहां की पीएचसी खाली कर दी। जिससे संपूर्ण क्षेत्र की जनता में भारी रोष एवं आक्रोश व्याप्त है।अपने ज्ञापन के माध्यम से क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने बताया कि वर्तमान में चल रहे हैं कोरोना काल के संकट के समय हमारे क्षेत्र से डॉक्टर की सुविधा छीनना सरासर  नाइंसाफी है। उनके जाने से क्षेत्र के मरीजों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है।स्वास्थ्य सेवा को बहाल करने के लिए जन प्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों ने  पीएचसी फूलमाल में पदस्थ रहे  डॉक्टर का आम्बुआ किया गया अटैचमेंट तुरन्त समाप्त कर उन्हें यथावत फूलमाल पदस्थ करने की पुरजोर मांग की गई है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांग पुरी नही हुई तो क्षेत्र के जनप्रतिनिधी ओर ग्रामीण क्षेत्र में आंदोलन करेंगे इस मौके पर फुलमाल के पंचायत प्रतिनिधियों, ग्रामीणों सहित कांग्रेस नेता ख़ुर्शीदअली दिवान,  ग्राम पंचायत रातड सरपंच वेशु, अकलवा सरपंच जेमली,चापरिया सरपंच जगली, कुण्डवाट सरपंच रुदली आदि सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे। 

Post a Comment

0 Comments