एक लाख रुपये से ज्यादा बिजली बिल भरा है या एक करोड़ से ज्यादा बैंक खाते में जमा किये है तो उन्हें रिटर्न् भरना जरूरी है | 1 lakh rupye se jyada bijli bill bhra hai ya 1 crore se jyada bank khate

एक लाख रुपये से ज्यादा बिजली बिल भरा है या एक करोड़ से ज्यादा बैंक खाते में जमा किये है तो उन्हें रिटर्न् भरना जरूरी है

एक लाख रुपये से ज्यादा बिजली बिल भरा है या एक करोड़ से ज्यादा बैंक खाते में जमा किये है तो उन्हें रिटर्न् भरना जरूरी है

बुरहानपुर। (अमर दिवाने) - कर सलाहकार संघ, बुरहानपुर की ओर से संघ के सदस्यों के लिए एक ऑनलाइन परिचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमें इंदौर के CA पंकज शाह द्वारा नए आयकर रिटर्न में विभाग द्वारा जो नवीन जानकारी माँगी जा रही है, उसकी रूपरेखा दी गयी। उन्होंने बताया कि जिस व्यक्ति ने एक लाख रुपए से ज़्यादा का बिजली बिल भरा है या एक करोड़ से ज़्यादा बैंक खाते में जमा किए है उन्हें रिटर्न भरना अनिवार्य है ।


साथ ही उन्होंने माननीय प्रधानमंत्री द्वारा हाल ही में घोषित फ़ेसलेस असेस्मेंट की स्कीम की भी विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि विभाग के पास अन्य स्त्रोत से कई जानकरियाँ उपलब्ध है, जिसके आधार पर जाँच की जाएगी। ऐसे समय में सलाहकार की भूमिका अहम होगी क्यूँकि आपके सामने कोई अधिकारी नहीं होगा। अगर सही जानकारी क़ानून के अनुसार नहीं दी गयी तो भारी पेनल्टी का सामना करदाता को करना पड़ेगा। सर्वे की कार्यवाही अब स्थानीय आयकर अधिकारी के अधिकार क्षेत्र में नहीं होगी बल्कि विशेष टीम को यह अधिकार होगा। जिसमें हर उद्योग के विशेषज्ञ आय कर अधिकारी शामिल होंगे।

संथा के अध्यक्ष CA प्रशांत श्रॉफ़ ने बताया कि वर्तमान में आयकर विभाग ने आमूलचूल बदलाव किए है एवं व्यापारियों को इन बदलाव में कैसे टैक्स प्लानिंग करनी चाहिए। इस बारे में कर सलाहकार को क्या बातें ध्यान में रखनी है, इन सबसे अवगत कराने के उद्देश्य से परिचर्चा का आयोजन किया गया था। आगामी दिनो में ऐसे कई आयोजन करने की रूपरेखा देते हुए उन्होंने बताया की सही जानकारी एवं नवीनतम नियमो से संस्था के सदस्यों एवं बुरहानपुर के व्यापारियों को अवगत करवाया जाएगा। अंत में वरिष्ठ कर सलाहकार सुरेश श्रॉफ़ एवं CA. भरत श्रॉफ़ ने भी अपने विचार रखे। आभार संथा सचिव चेतन यादव ने माना। परिचर्चा में बुरहानपुर के 40 से ज़्यादा कर सलाहकारों ने भाग लिया जिसमें सर्वश्री नवथरे, श्री कापड़िया, गोपालदास माहेश्वरी, विकास गांधी, ललित जैन आदि उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments