घटिया नहर निर्माण को लेकर किसानों की मांग पर तहसीलदार ने पहुचकर किया मौका मुआयना | Ghatiya nahar nirman ko lekar kisano ki mang pr tahsildar ne pahuch kr

घटिया नहर निर्माण को लेकर किसानों की मांग पर तहसीलदार ने पहुचकर किया मौका मुआयना

घटिया नहर निर्माण को लेकर किसानों की मांग पर तहसीलदार ने पहुचकर किया मौका मुआयना

अंजड (शकील मंसूरी) :- समीपस्थ ग्राम मोहिपुरा में घटिया नहर निर्माण को लेकर किसानों की मांग पर अंजड तहसीलदार राजेश कोचले।दल बल सहित पहुचकर मौका मुआयना किया। आपके साथ केडीएस कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर राकेश पंवार तथा एनवीडीए के सहायक यंत्री डीके गौरिषी भी मौजूद रहे।

घटिया नहर निर्माण को लेकर किसानों की मांग पर तहसीलदार ने पहुचकर किया मौका मुआयना

इनकी उपस्थिति में किसानों के साथ तहसीलदार ने लगभग तीन किलोमीटर पैदल घूमकर नहर का  निर्माण कार्य देखा अनेक जगहों पर नहर टूटी फूटी, उखड़ी हुई तथा दरारें स्पष्ट दिखाई पड़ रही थी।

ग्राम मोहिपुरा के किसानों ने घटिया निर्माण दिखाते हुए अधिकारियों के सामने ही जमकर खरी खोटी सुनाते हुए अपने हाथों से ही नहर से सीमेंट तथा गिट्टी निकाल कर दिखाई तथा पूरी नहर को उखाड़ कर फिर से बनाने की अपनी मांग दोहराई।


केडीएस कम्पनी के राकेश पंवार तथा एनवीडीए के सहायक यंत्री डीके गौरिषी ने उपस्थित किसानों को समझाया कि जहा भी नहर गुणवत्ता विहीन है उसकी दोबारा मरम्मत की जाएगी। मौके पर तहसीलकर्मी द्वारा बनाये गए पंचनामे में लिखा गया कि किसानों की शिकायत मौका मुआयने के दौरान सही पाई गई। पंचनामे में किसानों की मांग अनुसार कृषक वीरेंद्र पिता बाघसिंह के खेत से राधेश्याम पिता शंकर के खेत तक नहर को तोड़कर पुनः निर्माण करवाया जाएगा। साथ ही किसानों के द्वारा आवागमन एवं वाहन निकासी की समस्या पर नहर ऊपर पुलिया निर्माण के निर्माण की मांग की गई जिससे आवागमन सुलभ हो सके। वही अप्रोच रोड भी दुरुस्त करने की मांग की गई।

इस दौरान ग्राम मोहिपुरा के किसान लोकेंद्र सिंह तोमर, हीरालाल धनगर, जितेंद्र तोमर, दशरथ चौहान, प्रेमलाल धनगर, पप्पू जमादारी, वीरेंद्र तोमर, जसमत तोमर एवं सुरेंद्र धनगर सहित कई किसान मौजूद रहे।

वर्जन:-
राजेश कोचले तहसीलदार अंजड
विगत तीन चार दिनों से मोहिपुरा के किसानों की नहर निर्माण को लेकर शिकायते मिल रही थी। जहा-जहा घटिया निर्माण हुआ है वहा दोबारा निर्माण का आदेश ठेकेदार को दिया गया साथ ही किसानों के रास्ते कट की समस्या को हल करने के दिशा निर्देश भी दिए गए।

Post a Comment

0 Comments