बस चालक परिचालक संघ ने ऑपरेटर्स के खिलाफ मोर्चा खोलने की दी चेतावानी | Bus chalak parichalak sangh ne operators ke khilaf morcha kholne ki di

बस चालक परिचालक संघ ने ऑपरेटर्स के खिलाफ मोर्चा खोलने की दी चेतावानी


बिछुआ (हेमराज मांडेकर) :- कोरोना काल में प्राइवेट बस ड्राइवर-कंडक्टर्स को वेतन नहीं मिला है ,जिस कारण उन्हें आर्थिक तंगी की परेशानियों को झेलना पड़ रहा है। परेशानी से त्रस्त प्राइवेट मिनी बस चालक परिचालक संघ बिछुआ ने ऑपरेटर्स के खिलाफ मोर्चा खोलने की चेतावानी दे दी है। आज इसी के चलते प्रदेश भर के निजी बस चालको ने न्यायालय तहसीलदार बिछुआ  को ज्ञापन सौंपा और बस ऑपरेटर्स को दिशा निर्देश जारी करने की मांग रखी। चालकों का कहना है कि कोरोना संकट में चालक परिचालकों बेरोजगार थे और उनकी कमाई का कोई भी साधना नहीं था लेकिन इस दौरान बस मालिकों ने किसी भी चालक परिचालक को कोई वेतन नहीं दिया न ही किसी प्रकार की कोई आर्थिक सहायता ही कि जबकि वे लोग सालों से इनके लिए बसें चलाते आ रहे थे और मुनाफा कमा कर दे रहे थे। लेकिन कोरोना काल की इस वैश्विक महामारी के संकट के चलते कोई ऑपरेटर मदद के लिए आगे नहीं आया भारित वाहन चालक परिचालक युनियन छिंदवाड़ा के जिला अध्यक्ष ज्ञानेश्वर गजभिए  का कहना है कि निम्न बिंदुओं की हमारी मांग हैं चालक परिचालक को राशन किट प्रदान की जाए , लांकडाउन अवधि का चालक परिचालक क्लीनर को गुजारा भत्ता दिया जाय , सभी वाहन चालकों परिचालकों क्लीनर को गरीबी रेखा अंर्तगतलाया जाय उनका नाम गरीबी रेखा में जोड़ा जाए , महोदय जी निवदेन है  कि हमारी मांगो  का निराकरण 7 दिनों के भीतर करने का कृष्ट करें अन्यथा हम लोगों को आंदोलन करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा क्योंकि अब हम लोग आवेदन दे दे कर परेशान हो चुके है इस तरह कब तक तरह कब तक बेरोजगार रहेंगे और अपने परिवार को कब तक भूखा रखेंगे हमारी समस्या का जल्द से जल्द निराकरण किया जाय अगर हमारी समस्या का निराकरण नहीं किया गया तो हम सभी चालक परिचायक और क्लीनर 14/8/2020 को तहसील ग्राउंड बिछुआ में भूख हड़ताल पर बैठेंगे और इसका जवाबदेही शासन की रहेगी  बस ऑपरेटर ने कोविड फंड में राशि दी लेकिन अपने कर्मियों को वेतन नहीं दिया  उन्होंने जल्द वेतन देने की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि अगर बस ऑपरेटर्स जल्द वेतन नहीं देते हैं तो चालक-परिचालक सड़कों पर उतर प्रदर्शन करेंगे विगत 22 मार्च 2020 से कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन होने से यात्री बसों का संचालन पूर्णतः बंद है। जबकि वे यात्री सेवा बसों पर वाहन मालिक की ओर से कमीशन आधार पर दैनिक रोजगार कर रहे थे। यात्री बसों का संचालन बंद होने उनके समक्ष अपना और अपने परिवार का पालन-पोषण करने का संकट खड़ा हो गया है। उन्होंने प्रशासन से परिवार के भरण पोषण के लिए कम से कम दस हजार रुपये प्रतिमाह प्रदान करने की अपील की है जब तक कि बसों का संचालन पुनः शुरू नहीं हो जाता। इस अवसर पर जिला संयोजक मुबीन अली , जिला सचिव प्रवीण बुनकर , जिला उपाध्यक्ष जाकिर भाई , बिछुआ ब्लाँक अध्यक्ष राजु खरपुसे , ब्लॉक उपाध्यक्ष अध्यक्ष दिनेश बिसने , सैकड़ों की संख्या में बस चालक-परिचालक उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

कुल देवी देवताओं के प्रताप से होती है गांव की समृद्धि smradhi Aajtak24 News