पूर्व मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा सरकारी खरीदी एवं निर्माण कार्यो की स्वीकृति में भारी भ्रष्टाचार - कलावती भूरिया | Purv mukhya karya palan adhikari dvara sarkari kahridi evam nirman karyo

पूर्व मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा सरकारी खरीदी एवं निर्माण कार्यो की स्वीकृति में भारी भ्रष्टाचार - कलावती भूरिया

पूर्व मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा सरकारी खरीदी एवं निर्माण कार्यो की स्वीकृति में भारी भ्रष्टाचार - कलावती भूरिया

झाबुआ (अली अगर बोहरा) - झाबुआ जिला पंचायत में विगत एक वर्ष में क्रय की गई सामग्री का सत्यापन किया जावे, पूर्व में पदस्थ मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत द्वारा सामग्री एंव निर्माण कार्यो में अनेक अनियमितता की गई है। इसकी जांच होना चाहिए। उक्त आरोप विधायक जोबट एवं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष कलावतीp भूरिया ने लगाया है । सुश्री भूरिया ने आरोप लगाया कि पूर्व में जिला पंचायत झाबुआ में पदस्थ मुख्य कार्यपालन अधिकारी संदीप शर्मा ने अनेक अनियमिता की है उनके द्वारा जिला पंचायत के अनुमोदन के बिना किसी स्वीकृति के अनेक सामान क्रय किया गया है, जिसके अन्तर्गत जिला पंचायत भवन में कैमरे, कम्प्यूटर,पिन्टर एवं अन्य सामग्री क्रय की गई है, जो कि बिल्कुल घटिया सामग्री है जो कि दो माह में ही खराब हो गई, उक्त सामग्री का कोई कोटेशन अथवा शासकीय नियमानुसार क्रय नहीं कि गई है । इसके अलावा अन्य जिला पंचायत के अन्तर्गत आने वाले विभागों से भी अनेक प्रकार की सामग्री क्रय की गई है। 
इसके अलावा सुश्री भूरिया ने आरोप लगाया है कि उनके द्वारा सरकार बदलने के बाद भाजपा नेताओं की खुश करने भाजपा सांसद को भी कार्यालय से कम्प्यूटर एवं अन्य सामग्री दी गई है, सुश्री भूरिया ने बताया कि मिडिया के द्वारा भी ज्ञात हुआ है कि उनके द्वारा शासकीय सामग्री जिसके अन्तर्गत  ए.सी,एलसीडी, एवं एक पालतु गाय जो कि शासकीय आवास पर थी वो भी उनके द्वारा अपने स्थानान्तर हो जाने साथ ले गये है यह एक गंभीर अनियमिता है । सुश्री भूरिया ने कलेक्टर जिला झाबुआ से मांग करते हुए कहा कि उनके द्वारा विगत दो माह में जो सुदूर सडक एवं रोजगार गारंटी योजना के अन्तर्गत अन्य स्वीकृतियां जारी की गई है उसकी गहन जांच की जावे उनके द्वारा सरपंचों से सीधे लेनदेन कर स्वीकृतियां जारी की गई है। किसी ग्राम पंचायत में पांच से अधिक कार्य स्वीकृत किये गये है वहीं कुछ पंचायतों में एक भी निर्माण कार्य स्वीकृत नहीं किया गया है, जो कि जांच का विषय है। इसके अलावा वाटर शेड योजनान्तर्गत पेटलावद, रानापुर, मेघनगर जनपद पंचायत क्षेत्र में निर्माण कार्य रूर्बन मिशन श्यामा प्रसाद मुखर्जी योजना अन्तर्गत कार्यो की स्वीकृति प्रदाय की गई जिसका भुगतान के अधिकार जनपद पंचायत झाबुआ को सौपा गया जबकि उक्त जनपद पंचायत को सौपा जाना चाहिए किन्तु निर्माण कार्यो में भ्रष्टाचार हेतु उनके द्वारा अनेक ऐसे कारनामें किये गये है जिसकी जांच होना आवश्यक है। सुश्री भूरिया ने झाबुआ प्रशासन से मांग की है कि उक्त अधिकारी के कार्यो की एक विशेष जांच कमेटी बना कर जांच करवाई जावे तथा दोषी पाये जाने पर कडी कार्यवाही की जावे अन्यथा जिला पंचायत सदस्यों के साथ आन्दोलन करने हेतु बाध्य होगी।

Post a Comment

0 Comments