गायत्री परिवार ने समाज सेवक, पोस्ट मास्टर, शिक्षक को किया सम्मानित | Gayatri parivar ne samaj sevak post master shikshak ko sammanit

गायत्री परिवार ने समाज सेवक, पोस्ट मास्टर, शिक्षक को किया सम्मानित

गायत्री परिवार ने समाज सेवक, पोस्ट मास्टर, शिक्षक को किया सम्मानित

बोरगांव (चेतन साहू) - अखिल विश्व गायत्री परिवार सौसर बोरगांव द्वारा आयोजित सम्मान समारोह कार्यक्रम सोमवार को सीमित लोगों के उपस्थिति में चिपड़े परिसर में आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ गायत्री माता की पूजा अर्चना मंत्र उच्चारण के द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित किया। अतिथियों के सम्मान में एक कविता और गीत  प्रस्तुत किया गया।


तदुपरांत परंपरा के अनुसार सम्मानीय मारोतराव ढोले, रामकृष्ण ताजने,  उमाजी चिपड़े को तिलक लगाकर व मंत्र शाल श्रीफल पुष्पगुच्छ के साथ एक रामचरितमानस दिया गया। और सेनीटाइज के साथ मास्क का वितरण किया गया। गायत्री परिवार की मार्यादित एवं अनुशासित निशांत वातावरण में ऐसे तीन लोग शिक्षक, पोस्ट मास्टर, समाज सेवक को, जिन्होंने शिक्षा, सामाजिक क्षेत्रो और धार्मिक कार्य में उलेखनीय कार्य किए हैं। समारोह की पुनीत मर्यादाओं का उल्लेख करते हुए पधारे हुए  वरिष्ठगण अपने-अपने शब्दों कहा कि महानता के तीन सोपान शिष्टाचार, क्षमता और कर्मठता के सागर में मंथन के बाद ही शिक्षक शब्द अमृत के रूप में सामने आए। शिक्षक का जीवन समाज को शिक्षित और सुसंगठित करना होता है। जिससे कि विद्यालय का हर एक विद्यार्थी सफलता के शिखर पर पहुंच कर कामयाबी हासिल करता है। ज़मीनी स्तर पर डाकिया ही डाक विभाग का वास्तविक प्रतिनिधि होता है।भारतीय समाज में डाकिया को सबसे सम्मान का दर्जा मिला है। वर्तमान में जैसे जैसे व्यक्तिगत एवं सामाजिक रिश्तों में आत्मीयता व भावनात्मकता कम होती गयी, वैसे-वैसे डाकिया कम वेतन पाकर भी अपना काम अत्यन्त परिश्रम और लगन के साथ संपन्न करता है इस दौरान मुख्य रूप से बोरगांव सौसर गायत्री परिवार के पदाधिकारी सदस्य गण एवं ग्राम के गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


Post a Comment

0 Comments