एक बेटी ने अपने पिता को दी मुखाग्नि! उपस्थित लोगों की आंखें हुई नम | Ek beti ne di apne pita ko mukhagini

एक बेटी ने अपने पिता को दी मुखाग्नि! उपस्थित लोगों की आंखें हुई नम

रोते हुए बेटी बोली हैप्पी फादर्स डे

एक बेटी ने अपने पिता को दी मुखाग्नि! उपस्थित लोगों की आंखें हुई नम

मेघनगर (जियाउल हक क़ादरी) - जब एक बेटी पिता को मुखाग्नि देकर अपना फर्ज निभाये और रोते हुए उस वक़्त कहे “ हैप्पी फादर्स डे पापा" तो वहां उपस्थित हर एक व्यक्ति की आंखे भीग गई बेटी के पिता को इस दुनिया से जाते वक्त हर किसी का मन उसको देख कर दुखी हो रहा था जो रोते-रोते बोल रही थी पापा हैप्पी फादर्स डे
बीती रात पूर्वक खंड शिक्षा अधिकारी और पूर्व उत्कृष्ट उमावि के प्राचार्य नरेंद्र कुमार त्रिवेदी का लंबी बीमारी के बाद उनका निर्धन शनिवार शाम को हो गया जिसका अंतिम संस्कार फादर डे के दिन यानी रविवार को सूर्य ग्रहण लगने से पहले किया गया त्रिवेदी जी के पुत्र नहीं है तथा एक लौती बेटी अर्पिता त्रिवेदी है और ऐसे में पिता को मुखाग्नि कौन दे यही चर्चा चल रही थी लेकिन लोगों की सोच में बदलाव आ चुका है और बेटी भी किसी बेटे से कम नहीं वाकई इस बात को त्रिवेदी परिवार ने साबित कर दिखाया त्रिवेदी जी के बड़े भाई डॉक्टर केके त्रिवेदी जी इतिहासकार झाबुआ की पाल पर बेटी ने बेटे का फर्ज निभाया और पिताजी को अग्नि देकर अपना फर्ज निभाया रविवार को डोही नदी मुक्तिधाम पर उनका अंतिम संस्कार हुआ तथा सभी लोग भावुक उस वक्त हुए जब अर्पिता त्रिवेदी भीगी आंखों से रोते हुए अग्नि दे रही थी और बोली कि हैप्पी फादर्स डे पापा इस दृश्य को देखकर मुक्तिधाम परिसर हर किसी का मनुष्य बेटी को देखा दुखी हो रहा था ।

Post a Comment

0 Comments