डिंडौरी जिला कोरोना संक्रमण से मुक्त, 15 दिन से नहीं आया कोई नया मरीज | Dindori jile corona sankraman se mukt

डिंडौरी जिला कोरोना संक्रमण से मुक्त, 15 दिन से नहीं आया कोई नया मरीज


डिंडौरी (पप्पू पड़वार) - जिले के लिए बड़ी राहत की खबर शनिवार को तब सामने आई जब कोविड केयर सेंटर से एकमात्र कोरोना पीड़ित मरीज को स्वस्थ्य होने के बाद स्वास्थ्य अमले ने तालियां बजाकर घर रवाना किया। जिला अब पूरे तरीके से कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुका है। 13 जून के बाद से लगातार संदिग्धों के सैंपल तो भेजे गए लेकिन किसी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं आई है। एक पखवाड़ा तक नया मरीज सामने न आना बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। शनिवार को 38 संदिग्धों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। इसी के साथ सैंपल भेजने का आंकड़ा 2695 पहुंच गया है। गौरतलब है कि जिले में कोरोना के तीस मरीज सामने आ गए थे। 29 मरीज को पहले ही स्वस्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया था। जिले में किसी भी कोरोना पीड़ित की मौत न होना बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है। बताया गया कि संभाग में जबलपुर छोड़कर सैंपल भेजने के मामले में डिंडौरी की स्थिति बहुत बेहतर है। जिले में कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए प्रशासन अब भी अलर्ट है। एक जुलाई से जिले भर में एक साथ स्पेशल फीवर स्क्रीनिंग शुरू होगी, इसकी तैयारी भी शुरू हो गई है।


कोविड केयर सेंटर हुआ खाली

लंबे समय बाद मंडला मार्ग में एकलव्य स्कूल भवन और डाइट भवन में बनाया गया कोविड केयर सेंटर कोरोना मरीजों से खाली हुआ है। स्वास्थ्य अमले के साथ प्रशासन को भी इससे बड़ी राहत मिली है। शुरूआती दौर में जिस तरह से मरीजों की संख्या बड़ रही थी, उससे प्रशासन के भी हाथ पांव फूल गए थे। डीपीएम विक्रम सिंह ने बताया कि वर्तमान में डिंडौरी जिला कोरोना संक्रमण से मुक्त हो गया है। लगातार सैंपल अभी भी जबलपुर भेजे जा रहे हैं। जिला मुख्यालय में भी कोरोना की जांच की जा रही है। विभाग द्वारा मशीन का शुभारंभ भी कराए जाने की तैयारी की गई है।


किल कोरोना का 15 जुलाई तक अभियान

एक जुलाई से शुरू हो रहे स्पेशल फीवर स्क्रीनिंग किल कोरोना कार्यक्रम को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा कलेक्टर से निर्देश मिलने के बाद तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। शनिवार को जिले के सभी बीएमओ की बैठक जिला मुख्यालय में आयोजित की गई। बैठक में अभियान की तैयारी सहित कार्ययोजना पर चर्चा की गई। बताया गया कि आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर एक जुलाई से 15 जुलाई तक सभी बुखार पीड़ितों का सर्वे करेंगी। किसी को भी बुखार की समस्या आने पर एएनएम को सूचना दी जाएगी। एएनएम सहित अन्य अमले द्वारा जांच करने के बाद आवश्यकता पड़ने पर मलेरिया, डेंगू सहित कोरोना की जांच भी संबंधित की कराई जाएगी।

घर-घर जाकर खोजे जाएंगे बुखार से पीड़ित

कलेक्टर द्वारा किल कोरोना कार्यक्रम को लेकर महिला बाल विकास जिलाधिकारी सहित सभी जनपद सीईओ, बीएमओ को भी दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। आदेश में उल्लेख किया गया कि कोविड-19 बीमारी के ट्रांसमिशन क्षेत्र को तोड़ने और आमजन को कोरोना से बचाव को लेकर जागरुक करने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है। बताया गया कि कोटवार के माध्यम से गांव गांव मुनादी कराई जाएगी। इस अभियान में गठित दल द्वारा घर घर जाकर बुखार के रोगियों की खोज की जाएगी। सर्वे की प्रतिदिन जिला स्तर पर आंकड़े एकत्रित किए जाएंगे। इस पर प्रदेश के साथ जिला स्तर पर भी नजर रखी जाएगी।

Post a Comment

0 Comments