गलत इलाज से छात्रा हो गई दिव्यांग | Galat ilaj se chhatra ho gai divyang

गलत इलाज से छात्रा हो गई दिव्यांग

गलत इलाज से छात्रा हो गई दिव्यांग

डिंडौरी (पप्पू पड़वार) - जिला डिंडौरी अंतर्गत जनपद शहपुरा के ग्राम रयपुरा निवासी ग्रामीण ने एक शिक्षक व डॉक्टर पर लापरवाही पूर्वक इलाज करने से उसकी बेटी का हाथ कट जाने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को जनसुनवाई में कलेक्टर व एसपी से शिकायत की है। शिकायतकर्ता रवि प्रसाद झारिया (35) पिता नंदू लाल झारिया ने बताया कि उसकी पुत्री आराधना हाई स्कूल रयपुरा में कक्षा नौवीं में पढ़ती है। 27 जुलाई को शाम लगभग साढ़े चार बजे आराधना स्कूल से पढ़कर निकल रही थी, उसी समय पैर फिसल जाने के कारण गिर जाने से उसके बाएं हाथ में चोट लगी। इसके बाद शिक्षक रामलोचन मरावी और स्कूल स्टाफ द्वारा उसकी पुत्री को शाम लगभग छह बजे डॉ. ईश्वर सिंह ठाकुर के निवास लेकर पहुंचे।

शिक्षक ने स्वयं बांध दिया प्लास्टर

शिकायत में बताया गया कि डॉ. के निवास पर रामकिशोर वरकड़े नाम का शिक्षक था जिसने बताया कि छात्रा के हाथ में फै्रक्चर है प्लास्टर करना पड़ेगा। शिकायतकर्ता ने बताया कि उसने डॉ. ठाकुर के बारे में पूछा कि वे कहां हैं। यह सुनकर रामकिशोर ने कहा कि वह स्वयं प्लास्टर कर देगा, कुछ नहीं होगा, चिंता मत करो। उसने किसी को बुलाकर हाथ पकड़ने के लिए कहा। इसके बाद छात्रा के पिता ने हनी उपाध्याय निवासी शहपुरा को बुलाया। हनी के आने पर शिक्षक रामकिशोर वरकड़े ने इंजेक्शन व दवाई भी की और कहा कि पांच से छह दिन आओगे तो पक्का प्लास्टर होगा।

घर जाने के बाद आने लगी सूजन

शिकायतकर्ता ने बताया कि इलाज कराकर वे अपनी पुत्री को लेकर घर चले गए। धीरे-धीरे उसकी पुत्री के हाथ व शरीर में सूजन आने लगी। सूजन आने के बाद 30 जुलाई को फिर से डॉ. ठाकुर के घर पहुंचे। वहां पर रामकिशोर वरकड़े और डॉ. दोनों मौजूद थे। डॉ. ठाकुर ने कहा कि आज रात उनके घर रुक जाओ और दूसरे दिन मेडिकल कॉलेज जबलपुर में इलाज होने की बात कहकर जबलपुर रेफर कर दिया। शिकायत में बताया गया कि डॉ. ठाकुर लंबे समय से शिक्षक रामकिशोर वरकड़े को अपने निवास में रखकर इलाज करवा रहा है। शिकायतकर्ता का कहना है कि रामकिशोर ने उससे 1150 रुपए गलत तरीके से ले लिए हैं। शिकायतकर्ता ने डॉ. ठाकुर पर भी इलाज में लिप्त होने का आरोप लगाया है। बताया गया कि जबलपुर में छात्रा का ऑपरेशन जबलपुर में कराया गया। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि शहपुरा में गलत इलाज व लापरवाही से उसकी पुत्री का बायां हाथ जबलपुर में डॉक्टरों द्वारा इलाज के दौरान काटना पड़ा और वह दिव्यांग हो गई।

शहपुरा थाना में भी की थी शिकायत

शिकायतकर्ता द्वारा इसकी शिकायत 12 अगस्त को शहपुरा थाना में भी की गई थी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। शिकायतकर्ता पिता ने डॉ. ठाकुर व शिक्षक रामकिशोर वरकड़े के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक से की है। उल्लेख है कि जिला अस्पताल के साथ शहपुरा में भी डॉक्टर के गलत इलाज से बच्चों के हाथ काटे जाने के मामले पूर्व में भी सामने आ चुके हैं। इस संबंध में डॉ. ईश्वर सिंह ठाकुर का पक्ष जानने के लिए उनके मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया।

इनका कहना है

मामले की जानकारी लगी है। जांच कराई जाएगी। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।
ओमकार सिंह मरकाम, कैबिनेट मंत्री मप्र शासन।

डॉ. पर जो आरोप लगाया गया है। उस मामले की जांच कराई जाएगी। जांच में जो भी सामने आएगा उसी आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. आरके मेहरा, सीएमएचओ डिंडौरी

Post a Comment

0 Comments