मैक्स हॉस्पिटल ने मुरैना में अपनी पहली न्यूरोसाइंसेस ओपीडी का किया शुभारंभ

मैक्स हॉस्पिटल ने मुरैना में अपनी पहली न्यूरोसाइंसेस ओपीडी का किया शुभारंभ 

मैक्स हॉस्पिटल ने मुरैना में अपनी पहली न्यूरोसाइंसेस ओपीडी का किया शुभारंभ

मुरैना (संजय दीक्षित) - गर्ग नर्सिंग होम में हर महीने के दूसरे रविवार को ओपीडी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, वैशाली ने आज गर्ग नर्सिंग होम में अपने पहला न्यूरोसाइंस ओपीडी का उद्घाटन कर मुरैना में अपनी स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार किया। इसका उद्देश्य मुरैना और उसके आसपास के क्षेत्रों के निवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना है।

ओपीडी महीने में दूसरे रविवार को आयोजित की जाएगी ताकि मुरैना और उसके आसपास के मरीजों को सुपर विशेषज्ञों से इलाज कराने में आसानी हो। इससे रोगियों और उनके देखभाल करने वाले न्यूरोसाइंस से संबंधित समस्याओं के इलाज के लिए शहर से बाहर जाने में आश्चर्यजनक रूप से कमी आएगी।

मुरैना और अन्य टियर 2 और टियर 3 शहरों में इस तरह की ओपीडी सेवाओं को उपलब्ध कराने का मुख्य उद्देश्य उन लोगों के लिए सबसे अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार करना है, जिनके पास बेहतर इलाज के लिए बड़े शहर जाने का आसान विकल्प नहीं है। मैक्स हॉस्पिटल, वैशाली के अत्यधिक अनुभवी और योग्य डॉक्टरों ने पहले से ही अपना कीर्तिमान स्थापित किया है और अब बेहतर स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए समाज सेवा की ओर कदम बढ़ा रहे हैं।

मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, वैशाली के न्यूरो सर्जरी के निदेशक, डॉक्टर मनीष वैश्य ने रविवार को प्रेस वार्ता में बताया कि ‘‘रीढ़ की हड्डी से संबंधित बीमारियां मुख्य रूप से खराब पोष्चर के कारण होती हैं जो रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करती हैं, जिससे पीठ दर्द होता है और यह दर्द काफी बढ़ सकता है। अक्सर, लोग गर्दन तक पहुंचने वाले सिरदर्द को सामान्य समझकर अनदेखा कर देते हैं। लेकिन जब यह दर्द तीव्र हो जाता है और सहनशक्ति से बाहर हो जाता है, तो लोग परामर्श के लिए जाते हैं। कभी-कभी, बहुत हल्का सिरदर्द भी ब्रेन ट्यूमर या किसी अन्य कारण के विकास का संकेत हो सकता है और इसलिए समय पर निदान कराना आवश्यक है ताकि संभावनाओं का पता लगाया जा सके। हम इस क्षेत्र में नियमित रूप से ओपीडी आयोजित कर रहे हैं जिससे यहां के रोगी अपने शहर में ही अच्छी गुणवत्ता वाले इलाज की सुविधा पा सकते हैं।

संतुलित आहार के सेवन के साथ सक्रिय जीवन शैली को अपनाकर और बैठने  चलने और झुकने के दौरान सुरक्षित तौर- तरीकों का पालन कर रीढ़ की हड्डी से संबंधित अधिकतर समस्याओं से बचा जा सकता है।इसके साथ ही मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, वैशाली के वीपी-ऑपरेशन्स, गौरव अग्रवाल ने कहा, ‘‘यह निराशाजनक है कि हम में से अधिकांश लोग समस्या के मूल कारण की पहचान और उन्मूलन के बजाय दर्द को जीवन का सामान्य हिस्सा मानकर इसे स्वीकार कर लेते हैं। पीठ या गर्दन के दर्द को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। दर्द का जल्द इलाज कराने पर बहुत कम समय में ही दर्द और दर्द के मूल कारण का समाधान किया जा सकता है और इससे पूरी तरह से राहत मिल सकती है। समस्या की जल्द पहचान और उचित इलाज से सर्जरी के जोखिम से बचा जा सकता है जिससे व्यक्ति को पीठ दर्द और रीढ़ की हड्डी की समस्याओं के बिना बेहतर जीवन जीने में मदद मिलती है। मैक्स हेल्थकेयर अपनी पहुंच का विस्तार करने और उत्तर प्रदेश के लोगों को सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए कृत संकल्प है।।             

Post a Comment

0 Comments