जिम्मेदारों ने नजर फेरा तो हसदेव का जल स्रोत सहित एनीकट बना अपशिष्ट का डंपिंग यार्ड yard Aajtak24 News

 

जिम्मेदारों ने नजर फेरा तो हसदेव का जल स्रोत सहित एनीकट बना अपशिष्ट का डंपिंग यार्ड yard Aajtak24 News 

चांपा - जहां एक ओर उजाड़ हो रहा है हसदेव अरण्य तो वहीं दूसरी ओर कचरा प्रबंधन को लेकर कु रण नीति ने इस समस्या को और भी भयावह बना दिया है। अब तक उजाड़ हो रही जीवंत हसदेव परंपरा को अक्षूण रखने में कहीं कोई कामयाबी नहीं मिल पाई है,जी हां हम अपने सुधी पाठकों का ध्यान चांपा के हसदेव नदी में निर्मित एनी कट एवं उसके आसपास के परिधि में फैली हुई अपार गंदगी की बात कर रहे हैं, जो जीवन दाहिनी जल स्रोत को दूषित करने का ज्वलंत पर्याय बन चुका है,यहां पहुंच कर जो नजारा देखने को मिलता है। तो यही कहा जा सकता है कि नदी का जल स्रोत सहित निर्मित एनीकट अपशिष्ट कु प्रबंधन का डंपिंग यार्ड बनकर रह गया है,कुछ समय पहले जिम्मेदारों के द्वारा यहां वहां सर्वत्र साफ सफाई का अभियान चलते हुए देखा जा रहा था। लेकिन नदी सहित एनीकट आसपास के एरिया को छोड़ दिए जाने से यहां जो अपार गंदगी फैला हुआ है उससे निःसंदेह प्राकृतिक जल स्रोत सहित पर्यावरण को पहले से और अधिक गंभीर नुकसान पहुंच रहा है,यह प्रशासनिक उदासीनता का उदाहरण बन चुका है, कुछ साल पहले हमें ऐसे ही जल स्रोत के आसपास प्रशासन के द्वारा एक बोर्ड लिखा हुआ मिलता था। जिसमें खुले स्थान पर शौच करते हुए पाया गया तो कार्रवाई करते हुए जुर्माना वसूला जाएगा यहां तक की ऐसे लोगों के खिलाफ प्रकरण भी दर्ज करा दिए जाने का हवाला दिया जा रहा था। तो फिर ऐसे ही इन प्राकृतिक जल स्रोतों सहित पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हुए आते जाते कचरा फेंकने वालों पर कार्यवाही क्यों नहीं किया जा रहा है। यह प्रश्न जागरूक लोगों के मन में बिजली की भांति कौंध रहा है, प्रशासन को यह चिन्हित कर लेना चाहिए कि वे कौन लोग हैं जो घरों घर कचरा समेटने वाले ठेला उपलब्ध होने के बाद भी आते-जाते नदी सहित महत्वपूर्ण जल स्रोतों पर कचरा फेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं। वजन साफ है,इन पर कार्यवाही नहीं होने के कारणों से लोग बेधड़क (निर्भीक )होकर स्वतंत्र भाव से थोक में कचरा फेंक कर चले जाते हैं,और यही कचरा तमाम परेशानियों का कारण बनता हुआ नजर आ रहा है। क्यों फेंक रहे लोग कचरा नदी के घाटों में अब यहां समय आ चुका है कि ऐसे ही सवालों का प्रशासन को उत्तर ढूंढ लेना चाहिए उल्लेखित है कि आम जनता के घरों से कचरा समेटने के लिए अब उनसे कर( टैक्स ) वसूला जा रहा है। इसके बाद भी लोग घर से निकले हुए कचरा सहित अपशिष्ट को पालिका के सफाई कर्मियों को सौंपने के बजाय आते-जाते आखिरकार क्यों नदी के घाटों में कचरा को फेंकने से कतराते नहीं है, ऐसे ही अनेक प्रश्न है जो प्रशासन के लिए समस्या का वजह बना है,पर प्रशासन को इन वजहों के पीछे खड़े हो रहे प्रश्नों का उत्तर ढूंढने में फिर हाल कोई रुचि नजर नहीं आता और इन्हीं बेपरवाही से लोग निर्भीक होकर घरों,गोदामों,निर्माण स्थलों, होटल ढाबों आदि से निकलने वाला कचरा को नदी के तट पर फेंक कर चलते बनते हैं,और यही कचरो से नदी के प्राकृतिक जल स्रोत सहित पर्यावरण को गंभीर नुकसान हो रहा है। जिसका खामियाजा कचरा फेंकने वाले को ही नहीं बल्कि सार्वजनिक रूप से हर किसी को भुगतना पड़ रहा है, हम जिस पर्यावरण सहित प्राकृतिक ह्रास को दिन प्रतिदिन महसूस कर रहे हैं,इसका मुख्य वजह ऐसे ही अपार गंदगी सहित अपशिष्ट कु प्रबंधन ही तो मुख्य कारण बनता रहा है।



jimmedaaron ne najar phera to hasadev ka jal srot sahit eneekat bana apashisht ka damping yaard 

chaampa - jahaan ek or ujaad ho raha hai hasadev arany to vaheen doosaree or kachara prabandhan ko lekar ku ran neeti ne is samasya ko aur bhee bhayaavah bana diya hai. ab tak ujaad ho rahee jeevant hasadev parampara ko akshoon rakhane mein kaheen koee kaamayaabee nahin mil paee hai,jee haan ham apane sudhee paathakon ka dhyaan chaampa ke hasadev nadee mein nirmit enee kat evan usake aasapaas ke paridhi mein phailee huee apaar gandagee kee baat kar rahe hain, jo jeevan daahinee jal srot ko dooshit karane ka jvalant paryaay ban chuka hai,yahaan pahunch kar jo najaara dekhane ko milata hai. to yahee kaha ja sakata hai ki nadee ka jal srot sahit nirmit eneekat apashisht ku prabandhan ka damping yaard banakar rah gaya hai,kuchh samay pahale jimmedaaron ke dvaara yahaan vahaan sarvatr saaph saphaee ka abhiyaan chalate hue dekha ja raha tha. lekin nadee sahit eneekat aasapaas ke eriya ko chhod die jaane se yahaan jo apaar gandagee phaila hua hai usase nihsandeh praakrtik jal srot sahit paryaavaran ko pahale se aur adhik gambheer nukasaan pahunch raha hai,yah prashaasanik udaaseenata ka udaaharan ban chuka hai, kuchh saal pahale hamen aise hee jal srot ke aasapaas prashaasan ke dvaara ek bord likha hua milata tha. jisamen khule sthaan par shauch karate hue paaya gaya to kaarravaee karate hue jurmaana vasoola jaega yahaan tak kee aise logon ke khilaaph prakaran bhee darj kara die jaane ka havaala diya ja raha tha. to phir aise hee in praakrtik jal sroton sahit paryaavaran ko nukasaan pahunchaate hue aate jaate kachara phenkane vaalon par kaaryavaahee kyon nahin kiya ja raha hai. yah prashn jaagarook logon ke man mein bijalee kee bhaanti kaundh raha hai, prashaasan ko yah chinhit kar lena chaahie ki ve kaun log hain jo gharon ghar kachara sametane vaale thela upalabdh hone ke baad bhee aate-jaate nadee sahit mahatvapoorn jal sroton par kachara phenkane se baaj nahin aa rahe hain. vajan saaph hai,in par kaaryavaahee nahin hone ke kaaranon se log bedhadak (nirbheek )hokar svatantr bhaav se thok mein kachara phenk kar chale jaate hain,aur yahee kachara tamaam pareshaaniyon ka kaaran banata hua najar aa raha hai. kyon phenk rahe log kachara nadee ke ghaaton mein ab yahaan samay aa chuka hai ki aise hee savaalon ka prashaasan ko uttar dhoondh lena chaahie ullekhit hai ki aam janata ke gharon se kachara sametane ke lie ab unase kar( taiks ) vasoola ja raha hai. isake baad bhee log ghar se nikale hue kachara sahit apashisht ko paalika ke saphaee karmiyon ko saumpane ke bajaay aate-jaate aakhirakaar kyon nadee ke ghaaton mein kachara ko phenkane se kataraate nahin hai, aise hee anek prashn hai jo prashaasan ke lie samasya ka vajah bana hai,par prashaasan ko in vajahon ke peechhe khade ho rahe prashnon ka uttar dhoondhane mein phir haal koee ruchi najar nahin aata aur inheen beparavaahee se log nirbheek hokar gharon,godaamon,nirmaan sthalon, hotal dhaabon aadi se nikalane vaala kachara ko nadee ke tat par phenk kar chalate banate hain,aur yahee kacharo se nadee ke praakrtik jal srot sahit paryaavaran ko gambheer nukasaan ho raha hai. jisaka khaamiyaaja kachara phenkane vaale ko hee nahin balki saarvajanik roop se har kisee ko bhugatana pad raha hai, ham jis paryaavaran sahit praakrtik hraas ko din pratidin mahasoos kar rahe hain,isaka mukhy vajah aise hee apaar gandagee sahit apashisht ku prabandhan hee to mukhy kaaran banata raha hai.


Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News