25 मार्च को धूलंडी पर्व को हिन्दू परंपरा के अनुसार मनाए जाने के लिये एक बैठक आयोजित की ki Aaj Tak 24 News

 

25 मार्च को धूलंडी पर्व को हिन्दू परंपरा के अनुसार मनाए जाने के लिये एक बैठक आयोजित की ki Aaj Tak 24 News 

झाबुआ - प्राचीन दक्षिणी महाकाली का माता मंदिर समिति नेहरू मार्ग झाबुआ द्वारा नगर के प्रबुद्ध नागरिक एवं मातृ शक्ति की उपस्थिति में धूलंडी पर्व को 25 मार्च को हिन्दू सनातनी परंपरा के अनुसार मनाए जाने के लिये एक बैठक आयोजित की गई। समिति के अध्यक्ष श्री राजेंद्र प्रसाद अग्निहोत्री द्वारा बताया गया कि स्वर्गीय गोवर्धनलाल मिस्त्री द्वारा स्थापित इस कार्यक्रम को नवनीत कला मंडल समिति प्रतिवर्ष हिंदुत्व की इस परंपरा को जीवंत बनाए रखने के लिए इस रंगोत्सव को  बड़ी धूमधाम से मनाते चले आ रहे हैं, जिसमें संपूर्ण नगर को आमंत्रित किया जाता है । इस वर्ष भी यह कार्यक्रम प्रातः 10 बजे से सायं काल 4 बजे तक  आयोजित किया जावेगा। संपूर्ण कार्यक्रम मंे समिति द्वारा सुंदर मधुर ठंडाई, इंदौरी पोहे ,एवं चटपटे अन्य नाश्ते की पूर्ण व्यवस्था रंगोत्सव में भाग लेने वाले सम्मानित नागरिकों के लिए की गई है, महिला एवं पुरुषों के लिए होली खेलने के लिए पृथक पृथक व्यवस्था आयोजन समिति द्वारा की गई है। इस रंगोत्सव में विशेष कर नवनीत कलामंडल ,पतंजलि महिला योग समिति, सामाजिक महासंघ, नवदुर्गा महिला मंडल, यमुना मंडल, संकल्प ग्रुप, झाबुआ के राजा मित्र मंडल, दिगंबर समाज युवा भक्त मंडल, चारभुजा नाथ नेमा समाज मंडल एवं अन्य विभिन्न मंडलों के सक्रिय सदस्य सम्मिलित हुए। रंगोत्सव के इस पर्व पर पानी एवं रंग का प्रयोग नहीं किया जाता है, केवल सूखे हर्बल रंग का प्रयोग किया जाता है, तथा दिनभर रंगोत्सव में सम्मिलित महिला पुरुष प्रतिभागी एवं बच्चे म्यूजिक सिस्टम पर आकर्षक नृत्य करते हुए इस पर्व का आनंद लेते हैं। प्रसन्नता का विषय यह रहता है ,कि इस उत्सव को नगर के मध्य स्थित प्राचीन दक्षिणी मां कालिका माता मंदिर के प्रांगण में धूमधाम से मनाया जाता है ।


A meeting was organized to celebrate Dhulandi festival as per Hindu tradition.

Jhabua - Ancient Southern Mahakali Mata Mandir Committee Nehru Marg Jhabua organized a meeting to celebrate Dhulandi festival as per Hindu Sanatani tradition on 25th March in the presence of enlightened citizens and mother power of the city. Chairman of the committee Shri Rajendra Prasad Agnihotri told that the Navneet Kala Mandal Committee, established by late Govardhan Lal Mistry, has been celebrating this festival with great pomp every year to keep the tradition of Hindutva alive, in which the entire city participates. Is invited. This year also this program will be organized from 10 am to 4 pm. In the entire program, the committee has made complete arrangements for beautiful sweet Thandai, Indori Pohe and other spicy snacks for the respected citizens participating in the Rangotsav, separate arrangements have been made by the organizing committee for men and women to play Holi. . In this Rangotsav, especially active members of Navneet Kalamandal, Patanjali Mahila Yoga Samiti, Samaj Mahasangh, Navdurga Mahila Mandal, Yamuna Mandal, Sankalp Group, Raja Mitra Mandal of Jhabua, Digambar Samaj Yuva Bhakta Mandal, Charbhuja Nath Nema Samaj Mandal and other various mandals. Joined. Water and colors are not used on this festival of Rangotsav, only dry herbal colors are used, and throughout the day, the male, female participants and children involved in the Rangotsav enjoy the festival by dancing attractively on the music system. It is a matter of happiness that this festival is celebrated with great pomp in the courtyard of the ancient Southern Maa Kalika Mata Temple located in the center of the city.

Comments

Popular posts from this blog

कलेक्टर दीपक सक्सेना का नवाचार जो किताबें मेले में उपलब्ध वही चलेगी स्कूलों में me Aajtak24 News

पुलिस ने 48 घंटे में पन्ना होटल संचालक के बेटे की हत्या करने वाले आरोपियों को किया गिरफ्तार girafatar Aaj Tak 24 News

कुल देवी देवताओं के प्रताप से होती है गांव की समृद्धि smradhi Aajtak24 News