जिस घर में गूंजती थी खिलखिलाहट अब वहां पसरा है मातम | Jis ghar main gunjati thi khilkhilahat ab waha pasra hai matam

जिस घर में गूंजती थी खिलखिलाहट अब वहां पसरा है मातम 

जबलपुर में कारोबारी के बेटे के अपहरण और हत्या का मामला 

जिस घर में गूंजती थी खिलखिलाहट अब वहां पसरा है मातम

जबलपुर (संतोष जैन) - मासूम आदित्य लांबा के अपहरण और फिर हत्या से परिवार निशब्द है जिस घर में  खिलखिलाहट गूजती थी वहां मातम पसरा है मां सुमन और कारोबारी पिता मुकेश लांबा के चेहरे भावहीन हो गए हैं सोमवार को रिश्तेदार नातेदारो के साथ परिचितों का धनवंतरी नगर स्थित घर में ताता लगा रहा आदित्य के पिता मुकेश लांबा बदहवासी की हालत में है मां सुमन अचानक दहाड़ मार कर रोने लगती है शुभचिंतकों का कहना है कि आदित्य अपहरणकर्ताओं को फांसी से कम की सजा मंजूर नही है आरोपियों ने हंसते खेलते परिवार को कभी न भरने वाला जख्म दिया है गृह मंत्री  नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है इस पर सरकार संज्ञान लेगी हमने प्रदेश में अपराधियों के खिलाफ अभियान छेड़ा है किसी भी कीमत पर अपराधियों को बक्सा नहीं जाएगा


 आरोपी की मौत की जांच शुरू


 मामले के मुख्य आरोपी राहुल विश्वकर्मा का शव पीएम के बाद दोपहर में पुलिस के परिजनों के सुपुर्द कर दिया प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी उमेश सोनी ने जांच शुरू कर दी है वे पीएम के समय वहां मौजूद थे इस दौरान पीएम की वीडियोग्राफी हुई वहां पहुंचे परिवार के लोगों के भी बयान लिए अब यह पता किया जाएगा कि उसकी तबीयत कैसे बिगड़ी और मौत कैसे हुई

Post a Comment

0 Comments