बाल समारोह के समापन कार्यक्रम में शामिल हुई विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कावरे | Baal samaroh ke samapan karyakram main shamil hui vidhansabha upadhyaksh

बाल समारोह के समापन कार्यक्रम में शामिल हुई विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कावरे

बाल समारोह के समापन कार्यक्रम में शामिल हुई विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कावरे

बालाघाट (देवेंद्र खरे) - शहीद चंद्रशेखर आजाद खेल परिसर में नूतन कला निकेतन बालाघाट द्वारा 17 वें चार दिवसीय बाल समारोह 2019 का 23 नवंबर को समापन कार्यक्रम आयोजित किया गया । जिले के अशासकीय स्कूलों के छात्र छात्राओ की खेल प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से बाल समारोह 2019 का आयोजन किया गया था । बाल समारोह के समापन कार्यक्रम में मध्यप्रदेश विधानसभा की उपाध्यक्ष सुश्री हिना कावरे मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थी।  कार्यक्रम में नूतनकला निकेतन के अध्यक्ष श्री रूप बनवाले, श्री राजा सोनी समाज सेवी श्री त्रिलोक चंद कोचर, श्री सुरेश रंगलानी, श्री रहांगडाले, तपेश राठौर, ड़ा बाघरेचा, , युनूस खान उपस्थित रहे।

इस अवसर पर विधानसभा उपाध्यक्ष सुश्री हिना कावरे ने बालक बालिकाओ को सम्बोधित करते हुये कहा कि बाल समारोह जैसे आयोजन बच्चों की प्रतिभाओं को निखारने और आगे लाने के लिये किया जाता है। ऐसे आयोजनों से बच्चों को अनुशासित होकर आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है। नूतन कला निकेतन द्वारा इस तरह का आयोजन किया जाना एक सराहनीय प्रयास है। नूतन कला निकेतन के पूर्व अध्ययक्ष श्री रमेश बेल एवं त्रिलोक चंद कोचर जी को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि उनकी बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए सकारात्मक सोच सराहनीय है। इस अवसर पर उन्होंने नूतन कला निकेतन की गतिविधियों के लिये 50 हजार रूपये अनुदान देने की घोषणा भी की ।

बाल समारोह के समापन कार्यक्रम में शामिल हुई विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कावरे

सुश्री कावरे ने अपने संबोधन में अपने अनुभव साझा करते हुये कहा कि पहले तो हमे जन्म से 6 वर्ष तक खेलने का मौका मिलता था और 6 वर्ष के होने के बाद ही स्कूलो में एडमिशन होता था। लेकिन अब तो बच्चे 3 वर्ष के हुये तो उनका स्कूलों में एडमिशन हो जाता है। अभी बच्चों को खेलने का अवसर नही मिलता है। बाल समारोह जैसे आयोजन नियमित रूप से होते रहना चाहिए। इस बाल समारोह का असर हमे आज नही दिखेगा बल्कि आने वाले समय में इसका असर दिखेगा और निखरी हुई प्रतिभायें समाने आयेंगी।  

समारोह में उपस्थित समाज सेवी श्री त्रिलोक चंद कोचर ने कहा कि खेल के आयोजन करवाने के लिये बालाघाट जिले  में स्टेडियम की अत्यंत आवश्यक्ता है। यहा बच्चे खेलते हैं तो चोटील हो जाते है। उन्होंने विधान सभा उपाध्यक्ष सुश्री कावरे से आग्रह किया कि सरकार से जिले में स्टेडियम के लिये 5 एकड़ या ढ़ाई एकड़ भूमि  दिलवाई जाये । ताकि जिले के खिलाडियों को स्टेडियम प्राप्त हो। श्री कोचर ने जमीन आबंटित होने पर स्टे‍डियम के लिये अपनी ओर से 10 लाख रूपये देने की घोषणा की और कहा कि बालाघाट जिले के विदेशों में रहने वाले अप्रवासियों से मै स्वयं 5 करोड रूपये एकत्र कर स्टेडियम बनवाकर दूंगा । उन्होंने विधानसभा उपाध्यक्ष से कहा कि जब शिक्षा का अधिकार हो सकता है तो क्योंभ न खेल का भी अधिकार का नियम बनाने की बात कही गई।

Comments

Popular posts from this blog

पंचायत सचिवों को मिलने जा रही है बड़ी सौगात, चंद दिनों का और इंतजार intjar Aajtak24 News